गुरुवार, 13 जनवरी 2022

७ बार  बिजली गिरने के बाद भी बचने वाला इन्सान Roy Sullivan
७ बार  बिजली गिरने के बाद भी बचने वाला इन्सान Roy Sullivan

 


Roy Cleveland Sullivan वर्जीनिया में Shenandoah National Park में एक संयुक्त राज्य  park ranger  थे।  1942 और 1977 के बीच, सुलिवन सात मौकों पर बिजली की चपेट में आया और उन सभी में बच गए थे।  इस कारण से, उन्होंने "Human Lightning Conductor" और "Human Lightning Rod" उपनाम प्राप्त किए। 

रॉय का जन्म 7 फरवरी, 1912 को वर्जीनिया के ग्रीन काउंटी में हुआ था।  उन्होंने 1936 में शेनानडो नेशनल पार्क में एक रेंजर के रूप में काम करना शुरू किया।  


बिजली के सात हमले

बिजली गिरने का पहला हमला 

सुलिवन का पहला प्रलेखित बिजली गिरने का मामला अप्रैल 1942 में हुआ था।  वह  thunderstorm  से बचने के लिए  फायर लुकआउट टावर में छिपा थे।  टावर नवनिर्मित था और उस समय lightning rod नहीं थी।  उस दिन ७ से ८ बार बिजली गिरी थी।  उसकी वजेसे टावर  आग सब जगह लगी थी।  Sullivan ने वहासे भागनेकी कोशिश  की और उनपे बिजली गिरी।  इसने उसके दाहिने पैर में आधा इंच की पट्टी जला दी, उसके पैर के अंगूठे में चोट लगी और उसके जूते में एक छेद छोड़ दिया

बिजली गिरने का दूसरा  हमला 

उनपे जुलाई 1969 में उनपे दूसरी बार बिजली गिरी थी।   वह अपने ट्रक में पहाड़ी सड़क पर गाड़ी चलाते समय उनपे बिजली  गिरी थी।  एक वाहन  शरीर को आम तौर पर (Faraday cage) पिंजरे के रूप में कार्य करके लोगों को बिजली के झटके से बचाता है। बिजली सबसे पहले पास के पेड़ों से टकराई और ट्रक की खुली खिड़की से टकरा गई। बिजली  ने सुलिवन को बेहोश कर दिया और उसकी भौहें और पलकें जला दीं, और उसके बालों में आग लगा दी। अनियंत्रित ट्रक तब तक चलता रहा जब तक कि वह एक चट्टान के किनारे के पास नहीं रुक गया।

बिजली गिरने  तीसरा हमला 

तीसरी बार जुलाई 1970 में, सुलिवन पर घर के यार्ड में बिजली गिरी थी। बिजली पास के एक बिजली ट्रांसफार्मर से टकरा गई और वहां से कूदकर उसके बाएं कंधे पर आ गई।

बिजली गिरने  चौथा  हमला  

1972 के वसंत में, सुलिवन शेनानडो नेशनल पार्क में एक रेंजर स्टेशन के अंदर काम कर रहा था, वही उनपर चौथी बार बिजली गिरी।  इसने उसके बालों में आग लगा दी।  फिर वह टॉयलेट में गया, लेकिन पानी के नल के नीचे फिट नहीं हो सका और इसलिए इसके बजाय गीले तौलिये का इस्तेमाल किया।  वह यह भी मानने लगा था कि लोगों की भीड़ में खड़े होने पर भी वह किसी तरह बिजली को आकर्षित करेगा।  इसलिए अगर बालो में आग लगे तो वो बुझाने के लिए वो अपने साथ पानी  कैन रखने लगे थे।  

बिजली गिरने पांचवा  हमला  

7 अगस्त 1973 को जब वह पार्क में गश्त पर निकले थे।  सुलिवन ने एक तूफानी बादल बनते देखा और जल्दी से दूर चला गए।  लेकिन बादल, उसने बाद में कहा, ऐसा लग रहा था कि वह उसका पीछा कर रहा है। जब उसने आखिरकार सोचा कि वह इससे आगे निकल गया है, उसने फैसला किया कि उसका ट्रक छोड़ना सुरक्षित है। इसके तुरंत बाद, उनपर बिजली  गिरी।  बिजली उसके बाएं हाथ और बाएं पैर से नीचे चली गई और उसका जूता टूट गया। सुलिवन रेंगते हुए अपने ट्रक के पास गया और पानी की कैन, जो वह हमेशा वहां रखता था, अपने सिर पर डाल दिया, जिसमें आग लगी हुई थी।

बिजली गिरने छठा   हमला  

5 जून 1976 को, उनके टखने पे बिजली गिर गयी थी।  यह बताया गया कि उसने एक बादल देखा, उसे लगा कि वह उसका पीछा कर रहा है।  भागने की कोशिश की, लेकिन फिर भी उनपे बिजली गिरी ।

बिजली गिरने सातवा हमला  

शनिवार की सुबह, 25 जून, 1977 मीठे पानी के कुंड में मछली पकड़ने के दौरान सुलिवन पर बिजली गिर गयी थी। बिजली उसके सिर के ऊपर से टकराई, उसके बालों में आग लगा दी, और उसके सीने और पेट को जला दिया।


बिजली की चपेट में आने के डर के कारण उन्हें जीवन में बाद में लोगों ने टाल दिया, और इससे उन्हें दुख हुआ। 28 सितंबर, 1983 की सुबह, सुलिवन की 71 वर्ष की आयु में सिर में एक आत्म-प्रवृत्त बंदूक की गोली के घाव से मृत्यु हो गई।  





0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Like Us

लोकप्रिय पोस्ट