गुरुवार, 30 अप्रैल 2020

डिजिटल मार्केटिंग क्या है और डिजिटल मार्केटिंग के प्रकार


 


डिजिटल मार्केटिंग


डिजिटल मार्केटिंग क्या है: यह एक आधुनिक तरीका है अपने business को फैलाने और उसकी Brand value को बढ़ाने के लिए इसलिए आज हर कंपनी अपने business के नाम से अपनी website बनाती है। जब कोई कंपनी किसी नये business या फिर किसी नये Product को लॉन्च करती है। तो उसके बाद उसे successful बनाने के लिए सबसे जरूरी होती है उसकी marketing क्योंकि यही एक तरीका है जिसे उसे ज्यादा से ज़्यादा लोगो तक पहुचाया जा सकता है।

पहले हर बड़ी कंपनी अपने marketing campaign चलने के लिए TV, newspaper, magazines, radio, paplets, Poster और Banner जैसे संसाधनों का प्रयोग करती थी और बहुत सारी कंपनियां घर-घर जाकर अपने Product के बारे में बताती थी। परन्तु अब समय के साथ marketing करने के तरीकों में परिवर्तन हो चुका है। अब internet दुनिया का सबसे बड़ा marketing place बन चुका है। चाहे बड़ी-बड़ी कंपनी हो या फिर छोटी कंपनी अब हर कोई marketing करने के लिए internet का इस्तेमाल करती है। जिसे digital marketing कहते है।


डिजिटल मार्केटिंग क्या है

डिजिटल मार्केटिंग क्या है – What is digital marketing


Digital marketing दो शब्दों से मिलकर बनी है digital मतलब internet और marketing मतलब बाजार यानी internet का बाजार


Online marketing करने के हज़ारो तरीके है जो समय के साथ बढ़ते जा रहे है। offline marketing की तुलना में online marketing में बहुत अंतर है। क्योंकि online marketing का इस्तेमाल करके target audience तक अपने product को promote कर सकते है। digital marketing बहुत fast तरीका है अपने Product को सही लोगो तक पहुचने के लिए


बड़ी-बड़ी कंपनियां अपने Product को online promote करने के लिए लाखों रुपये खर्च करती है और उन्हें इसके Result भी बहुत अच्छे मिलते है। इसका सबसे बड़ा कारण है internet पर लोगो द्वारा अधिक समय व्यतीत करना क्योंकि internet इस्तेमाल करने वाला व्यक्ति हर दिन 3 घण्टे internet पर बीता है। इसलिए internet सबसे बड़ा marketing place बन चुका है।



Digital marketing क्यो जरूरी है - Why need of digital marketing


Why need of digital marketing


1. यह एक सरल और fast तरीका है अपने product को promote करने के लिए


2. Offline marketing की तुलना online marketing सस्ता होता है।


3. Digital marketing से आपको बेहतर Result मिलता है।


4. यह आपके product को target audience तक पहुँचने का सबसे अच्छा तरीका है।


5. Digital marketing में आपको हज़ारो तरीके मिलते है अपनी service और product को promotion करने के लिए


6. digital marketing से आपकी कंपनी की Branding value बढ़ती है।


7. यह एक ऐसा तरीका है जिसे आप अपने product को globally promote कर सकते है।


8. digital marketing से आप product की marketing करने के साथ उसे online बेच सकते है।



डिजिटल मार्केटिंग के प्रकार [Types of Digital Marketing]


1 .Blogging


2. सर्च इंजन औप्टीमाइज़ेषन या SEO


3. यूट्यूब चेनल (YouTube Channel)


4. सोशल मीडिया (Social Media)


5. Google AdWords


6. अफिलिएट मार्केटिंग (Affiliate Marketing)


7. एप्स मार्केटिंग (Apps Marketing)


8. ईमेल मार्केटिंग (Email Marketing)


9. पे पर क्लिक ऐडवर्टाइज़िंग या PPC marketing



Digital marketing कैसे शुरू करें – How to start digital marketing


1. Blogging


digital marketing में कदम रखने के लिए यह एक अच्छा तरीका है और आप इस पर free में काम कर सकते है। बहुत सारे लोगो ने अपने blogging care से ही digital marketing की दुनिया मे कदम रखा और वह digital expert बन चुके है। यह आपको सीखने और सिखाने दोनों का काम करता है।



2. सर्च इंजन औप्टीमाइज़ेषन या( SEO)


अगर आप search engine के द्वारा अपनी website पर बहुत सारी traffic या customer पाने चाहते है तो आपको SEO का ज्ञान होना जरूरी है। क्या आप जानते है बहुत सारी कंपनी अपनी website के SEO पर हजारों और लाखों रुपये खर्च करती है। अगर आप SEO expert बन जाते है। तो आप एक अच्छी सैलरी वाली job भी प्राप्त कर सकते है।



3. यूट्यूब चेनल (YouTube Channel)


youtube आज के समय मे दूसरा सबसे बड़ा search engine है जिसका मतलब है कि youtube पर बहुत अधिक traffic रहता है। यह एक ऐसा ज़रिया है जहाँ पर आप अपने product को video द्वारा promote करते है।


बहुत सारी कंपनी अपने Product के बारे में लोगो को बताने के लिए बड़े-बड़े youtuber को अपने Product का रिव्यु करने के लिए पैसे देती है।


अगर आप एक video creator है तो आप youtube का इस्तेमाल करके digital marketing start कर सकते है। यह भी एक free plateform है जिसका इस्तेमाल आप कर सकते है।



4. सोशल मीडिया (Social Media)


digital marketing करने के लिए यह सबसे आसान और popular तरीका है। बहुत सारी कंपनियां अपने promotion के लिए social media का इस्तेमाल करती है। अपने भी कई बार social media पर बहुत सारी कंपनियों के विज्ञापन जरूर देखें होगें जैसे Facebook, Twitter, instagram etc



5. Google AdWords


अपने internet पर बहुत सारे विज्ञापन देखे होंगे क्या आप जानते है कि इसमें से अधिकतर विज्ञापन google द्वारा दिखाये जाते है। google adwords की help से आप अभी अपने product की marketing कर सकते है। यह एक paid service है जिसे लिए आपको पैसे देने पड़ते है। उसके बाद आप अपनी target audience तक अपने प्रोडक्ट को पहुँचा सकते है।


Google adwords के द्वारा आप कई तरह के विज्ञापन चला सकते है। जैसे


• Display advertising
• Text ads
• Image ads
• Gif ads
• Text and image ads
• Match content ads
• Video ads
• Pop-up ads
• Sponsored search etc



6. अफिलिएट मार्केटिंग (Affiliate Marketing)


यह एक commission पर आधारित marketing है। Online shopping और product बेचने वाली कंपनियां ऐसे affiliate program चलती है। जिसके तहत आप उस website के किसी भी product को बेच सकते है। जिसके बाद Commission के रूप में उसको कुछ पैसे देती है।


यह digital marketing का सबसे चालाक तरीका है। जिसे website की marketing भी होती है और product भी sale होते है। क्योंकि affiliate marketing में product बेचने पर ही commission मिलता है।



7. एप्स मार्केटिंग (Apps Marketing)


जितनी भी बड़ी-बड़ी website होती है उन सभी के app आपको google play store में देखने को मिल जाते है। क्योंकि आज की digital दुनिया मे हर किसी के पास smartphone मिल जाता है और अधिकतर लोगों shopping, money transfer, online booking, news, and social media के लिए app का इस्तेमाल करना पसंद करते है। इसलिए कंपनी का app बनकर भी उसकी digital marketing को बढ़ा सकते है।



8. ईमेल मार्केटिंग (Email Marketing)


यह किसी भी कंपनी के लिए बहुत जरूरी होता है कि यह email marketing करें। क्योंकि जो नये offer और discounts होते है उसे आप direct email के जरिये अपने customer तक पहुँचा सकते है। और साथ ही customer से feedback प्राप्त कर सकते हैं।


Digital marketing के और भी बहुत सारे तरीके है। परंतु आपको उन तरीको पर काम करना है जिस पर आपको ज्यादा से ज्यादा traffic मिले क्योकि जितने अधिक लोगों आपके product को देखेंगे आपके product उतने ही अधिक sale होंगे। और जैसे की हमे आपको ऊपर बताया है आज के समय मे सबसे अधिक traffic इन्ही तरीकों का इस्तेमाल करके प्राप्त कर सकते है।



9. पे पर क्लिक ऐडवर्टाइज़िंग या PPC marketing


जिस विज्ञापन को देखने के लिए आपको भुगतान करना पड़ता है उसे ही पे पर क्लिक ऐडवर्टीजमेंट कहा जाता है। जैसा की इसके नाम से विदित हो रहा है की इस पर क्लिक करते ही पैसे कटते हैं । यह हर प्रकार के विज्ञापन के लिये है ।यह विज्ञापन बीच में आते रह्ते हैं। अगर इन विज्ञापनो को कोई देखता है तो पैसे कटते हैं । यह भी डिजिटल मार्केटिंग का एक प्रकार है।


डिजिटल मार्केटिंग की उपयोगिताएं – [Uses of Digital Marketing in Hindi]


(i) आप अपनी वेबसाइट पर ब्रोशर बनाकर उस पर अपने उत्पाद का विज्ञापन लोगों के लेटेर-बॉक्स पर भेज सकते हैं। कितने लोग आपको देख रहे हैं यह भी पता लगाया जा सकता है।


(ii) वेबसाइट ट्रेफ़िक- सबसे ज्यादा दर्शकों की भीड़ किस वेबसाइट पर है – पहले ये आप जान ले , फिर उस वेबसाइट पर अपना विज्ञापन डाल दें ताकी आपको अधिक लोग देख सकें ।


(iii) एटृब्युषन मॉडलिंग – इसके द्वारा ह्म यह पता कर सकते है की आजकल लोग किस उत्पाद में रुचि ले रहे हैं या किन-किन विज्ञापनों को देख रहे हैं । इसके लिये विशेश टूल का प्रयोग करना होता है जो की एक विशेश तकनीक के द्वारा किया जा सकता है और ह्म अपने उपभोक्ताओं की हरकतें यानी उनकी रुचि पर नज़र रख सकते हैं।


आप अपने उपभोक्ता से किस प्रकार सम्पर्क बना रहे हैं यह विषय महत्वपूर्ण है। आप उनकी आवश्यक्ता के साथ पसंद पर भी दृष्टी बनाकर रखा करें ऐसा करने से व्यापार में वृद्घि हो सकती है।


आप पर उनका विश्वास भी अत्यन्त आवश्यक है, की वह विज्ञापन देख कर आपका उत्पाद खरीदने में संकोच न करें तुरंत ले लें। इनके विश्वास को आपने विश्वास देना है। ग्राहक को आश्वासन दिलाना आपका दायित्व है। अगर किसी को सामान पसंद न आये तो उसको बदलने के लिये वो अपना संदेश आप तक पहुंचा सके इसके लिये ईबुक आपकी सहायता कर सकता है।



digital marketng के लिए कोर्स और योग्यताये क्या है


इस फ़ील्ड के लिए आपकी communication स्किल का अच्छा होना बहुत जरुरी है |


मॉस कम्युनिकेशन के कोर्स करने वाले युवा भी सोशल मीडिया मेनेजर के रूप में काम कर सकते है अच्छी कम्युनिकेशन स्किल वाले अन्य स्ट्रीम्स के ग्रेजुएट भी इस फील्ड में एंट्री ले सकते है इसके अलावा जो स्टूडेंट डिजिटल मार्केटिंग , कम्युनिकेशन या फिर ग्राफिक डिजाईन में ग्रेजुएट है वे भी डिजिटल मार्केटिंग में carrier बना सकते है |


डिजिटल मार्केटिंग की बढती लोकप्रियता को देखते हुए विभिन्न संस्थानों में डिस्प्ले advertising , सर्च इंजन मार्केटिंग (SEM) और सर्च इंजन optimization (SEO), social media marketing , email marketing, mobile marketing आदि जैसे फील्ड के लिए कोर्स करवाए जा रहे है सभी कोर्स अपने आप में एक से बढ़कर एक है , पर्सनल तौर पर इस फील्ड में आने के लिए आपको इन्टरनेट तथा सोशल मीडिया की कम्पलीट जानकारी का होना बहुत आवश्यक है |



Digital marketing के लिए जरुरी विशेषताए क्या है


कंटेंट स्किल्स


इस फील्ड में आने के लिए आपकी राइटिंग स्किल तथा इंग्लिश अच्छी होनी चाहिए तभी आप लोगो को अपनी भाषा से लुभा पाएंगे



मार्केटिंग स्किल्स


यह भी एक बहुत जरुरी स्किल है क्योकि मार्केटिंग में सबसे अहम् होता है , इसमें व्यक्ति को मार्किट की अच्छी समझ होनी चाहिए , इसमें आपको मार्किट के उतार चढ़ाव पर हमेशा नजर रखनी पड़ती है , तथा यहा चीजे बहत जल्दी बदलती रही है |



सोशल मीडिया की जानकारी


इस फील्ड में चूँकि सारा काम सोशल मीडिया पर होता है इसलिए इसकी जानकारी बहुत जरुरी होती है , डिजिटल मार्केटिंग का आधार ही सोशल मीडिया ही होता है |



इंटर्नशिप


इस फील्ड में आने के लिए कोर्स के बावजूद शुरुआत में किसी भी कम्पनी के डिजिटल मार्केटिंग में कम से कम 6 माह की इंटर्नशिप जरुर करना चाहिए , इसके बाद ही डिजिटल मार्केटिंग में नौकरी तलासे , इससे आपको तेजी से आगे बढ़ने में मदद मिलेगी |


डिजिटल मार्केटिंग क्या है

SEO क्या है और SEO क्यों जरूरी है

Search Engine क्या है और Search Engine कैसे काम करता हैं?

White Hat SEO क्या हे और कैसे उपयोग करे

Black Hat SEO क्या है और क्यों जरुरी है

ब्लॉग क्या होता है और Blogging कौन कर सकता हे

सेफ इन्टरनेट बैंकिंग के आठ टिप्स

हम आशा करते हे की आपको ये पोस्ट अच्छी लगी. अगर हमारी ये पोस्ट आपको अछि लगी तो इस पेज को लाइक करे और आपके दोस्तोंको भी शेयर जरूर करे। और कमेंट करके जरुन बताइए।


 

बुधवार, 29 अप्रैल 2020

 Internet Marketing And Consulting



online job for Internet Marketing And Consulting


experience : 1 to 4 Yrs
city : Mumbai City

Job Description


We can provide the largest target results to increase your revenue by using the advanced Internet marketing tips campaign with our best experienced research team.

Cloud Computing And Monitoring


We support provide the best cloud computing monitoring services to improve the flexibility and scalability of IT services of our clients to delivered to their end users to live 24x7.

Our Skills We are very technical, so we can also work beyond the technology as We have the team to work on multiple technology with latest frameworks. We always focus on the security when developing a application or web to protect you any cyber attack as well. Graphics Design (Logo, Flex, Cards, Marketing etc.) 46% 46% Complete (success) Technology (PHP, .NET, JAVA, Javascript, Ruby etc.) 85% 85% Complete (warning) 55% Complete (danger) Hey, We are Gencosys Team, who deserve the things that are really need for your business to be success. Does't Matter who we are, when we are in a team.

Gencosys is a family who knows the technology awesome, We believe that our highly experienced team to provide a best reliable IT services for each aspect of business for top largest industries in 17+ countries. We always tried to help our clients to start their business in any way like legal, technical consultant that is the only way we are unique as compared to others.

At Gencosys, we always believe in the power of relationships powers our commitment to deliver the great quality results on each time. The client satisfaction is the first and last important part of our all the services. We never want's to break up with our any existing or new clients because we want to see their success as we also depend upon the same. That's why, we know If you choose us, you will never be disappointed.

Microsoft Vision of Future from Narendra Kumar on Vimeo Enter full screen Exit full screen Add to Watch Later Click to Unmute Player error

[ads1]

The player is having trouble. Well have it back up and running as soon as possible.

This opens in a new window. Why Choose Gencosys for your Business You should choose us because we always believe in the power of relationships powers our commitment to deliver the great quality results on each time.

The client satisfaction is the first and last important part of our all the services. We never want's to break up with our any existing or new clients because we want to see their success as we also depend upon the same. That's why, we know If you choose us, you will never be disappointed.

Why Choose Gencosys for NGO's (Society Trust) We are very social for the Non-government organization (Society Trust) as we are offering a great reliable best value solution to support your NGO like a donation. We always try to provide a best complete IT platform solutions to grow your organization. We have a great compact package for an NGO like websiteportal with online payment gateway facility to accept the donation from domestic international free 6 months support and SEO solution to reach your volunteers donors across the world that you can help needy maximum. Industries we works for and we support We, at Gencosys support working for the several Industries to develop and design a better IT solutions to achieve a best revenue and success. We always helped those who are very serious about their business in technical legal.

We support the industries -


Corporate and Industrial, Retail Banking, Education, Healthcare Medicine, Tele-Communications, News Print Media, Consumer Goods and Services, Energy Consultant, Insurance, Non-government organization(Society Trust), Public Service, Gov. Sector, BPO KPO, Travel. Want to celebrate your success, join the carrer at Gencosys ,

Other details


Department: Internet Marketing

Industry: IT - Software

Skills: it services, internet marketing, consumer goods, equipment supply, client satisfaction, monitoring services, print media, cloud computing, online payment, best value, retail banking

Recruiter details


Company Name: Gencosys Company

Description: Gencosys

Apply here 

Mechanical Engineering Business Ideas

सोमवार, 27 अप्रैल 2020

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पीएम मोदी की मुख्यमंत्रियों के साथ चौथी बैठक



प्रधानमंत्री मोदी की मुख्यमंत्रियों के साथ चौथी बैठक हो गई


वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पीएम मोदी की मुख्यमंत्रियों के साथ चौथी बैठक : कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ देश में महाजंग जारी है. देश में लागू लॉकडाउन की अवधि भी 3 मई को खत्म हो रही है, ऐसे में आगे की क्या रणनीति होगी. इस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ चर्चा की. वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए प्रधानमंत्री मोदी की ये मुख्यमंत्रियों के साथ चौथी बैठक हो गई. बैठक में उनके साथ गृह मंत्री अमित शाह भी मौजूद रहे। बैठक में कुछ राज्यों ने प्रधानमंत्री से लॉकडाउन की अवधि को बढ़ाने के लिए कहा है।

करीब 3 घंटे चली इस अहम बैठक में आगे की रणनीति पर राज्यों ने अपना पक्ष रखा।

बैठक में लॉकडाउन पर विशेष चर्चा नहीं हुई।

3 मुख्यमंत्रियों ने लॉकडाउन बढ़ाने की बात जरूर कही। वहीं पुड्डुचेरी के सीएम ने बताया कि बैठक में अधिकांश भाजपा शासित राज्यों ने लॉकडाउन बढ़ाने और धीरे-धीरे आर्थिक गतिविधियां शुरू करने की बात कही।

पीएम मोदी का फोकस ज्यादातर समय अर्थव्यवस्था को गति देने पर रहा। माना जा रहा है कि राज्यों से फीडबैक लेकर अब पीएम मोदी अपनी कैबिनेट से चर्चा करेंगे और संभव है कि 1 या 2 मई तक लॉकडाउन पर कोई ऐलान हो।

बैठक में पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना वायरस का असर आने वाले कई महीनों तक सभी की जिंदगी पर पड़ेगा। मास्क लगाना और चेहरा ढंकना जरूरी होगा। मार्च के शूरू में भारत समेत कई देशों के हालात एक जैसे थे, लेकिन हमने समय रहते कदम उठाए, जिनका नतीजा है कि भारत बेहतर स्थिति में है।

[ads1]

कोनसे राज्यों ने कही लॉकलाउन बढ़ाने की बात


जानकारी के मुताबिक, तीन राज्यों ने अपने यहां लॉकडाउन बढ़ाने की कही है।

ये राज्य हैं- मणिपुर, मेघालय और गोवा।

मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड संगमा ने कहा कि वे अपने राज्य में लॉकडाउन 3 मई के बाद भी जारी रखना चाहते हैं। जिसमें अंतर-राज्यीय और अंतर-जिला गतिविधियों पर प्रतिबंध जारी रहेगा. हालांकि, ग्रीन जोन वाले इलाकों में कुछ छूट दी जाएगी।

पीएम मोदी ने कहा कि हमें कोरोना के खिलाफ जंग जारी रखते हुए अर्थव्यवस्था को भी महत्व देना है। उन्होंने तकनीक के अधिक से अधिक उपयोग पर जोर दिया।

राज्यों ने लॉकडाउन के कारण अपनी बिगड़ती अर्थव्यवस्था का मुद्दा भी बैठक में रखा।

वहीं कुछ राज्यों ने कहा कि उनके यहां कोरोना हॉटस्टॉप अधिक है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पीएम मोदी ने राज्यों से कहा है कि कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में आज भारत बेहतर स्थिति में है। यदि लॉकडाउन पूरी तरह हटा दिया गया तो हमें पूरा लाभ नहीं मिलेगा।

अब तक देश में कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या 27,892 हो गई है, वहीं अब तक कोविड19 से 872 लोगों की मौत हो चुकी है.

३० एप्रिल ते १५ में दरम्यान स्पाइक येण्याचा तज्ज्ञांचा अंदाज

बुधवार, 22 अप्रैल 2020

लॉकडाऊन दरम्यान WhatsApp ने युजर्सला दिलं  गिफ्ट


whatsapp given Perfect gift for lockdown period


जगात सर्वत्र कोरोना व्हायरसचा धुमाकूळ सुरू आहे. अनेक देशांमध्ये लॉकडाऊन आहे. त्यामुळे सर्वांना आपल्या घरातच राहावं लागतंय. पण अशावेळी आपल्या लोकांची आठवण येते आणि सर्वांसोबत फोनवर व्हिडिओ कॉलिंग करत बोलणं सुरू होतं. एकाचवेळी अनेकांना व्हिडिओ कॉल करणं सध्या सुरू आहे. याचाच फायदा अनेक लोकांना घेता यावा यासाठी फेसबुकच्या अधिपत्याखाली असलेल्या व्हॉट्स अॅपचं नवीन बीटा वर्जन पुढे आलंय. यात एकाचवेळी चार लोकांसोबत ऑडिओ आणि व्हिडिओ कॉलिंग करता येणार आहे. WABetainfo नुसार २.२०.१२८ बीटा मध्ये काही बदल करत ग्रुप कॉलमध्ये भाग घेणाऱ्यांची नवीन संख्या ठरवण्यात आलीय. Wabetainfoच्या रिपोर्टमध्ये सांगितलं गेलंय की, नवीन ग्रुप कॉल पार्टिसिपेंट्स लिमिट सध्या उपलब्ध नाहीय. हे फीचर तयार केलं जातंय. याचा अर्थ असा आहे की, व्हॉट्स अॅप या फीचरला बग-फ्री करण्यासाठी काम करतंय आणि याची कुठलीही रिलीज डेट उपलब्ध नाहीय. पाच पार्टिसिपेंट्ससाठीच्या ग्रुप कॉलसाठी काम केलं गेलंय. मात्र ग्रुप कॉलिंगची सीमा प्रत्यक्षात अधिक असेल.

WhatsApp: लॉकडाऊन दरम्यान नागरिक एकमेकांना भेटू शकत नाहीयेत. याच दरम्यान व्हॉट्सअॅपने आपल्या युजर्सला एक खास गिफ्ट दिलं आहे. लॉकडाऊन दरम्यान तुम्ही आपले मित्र, नातेवाईक यांच्यापासून दूर राहू नये यासाठी मेसेजिंग अॅप व्हॉट्सअॅपने आपल्या युजर्ससाठी फिचरमध्ये काही बदल केले आहेत.

व्हॉट्सअॅपने ग्रुप व्हिडिओ कॉलिंगमध्ये युजर्सची संख्या वाढवण्याचा निर्णय घेतला आहे. यामुळे आता एकत्र आठ युजर्स व्हिडिओ कॉलिंग करु शकणार आहेत.

व्हॉट्सअॅपने ही सुविधा केवळ आयफोन आणि अँड्रॉईड युजर्ससाठी सध्या सुरु केली आहे. व्हॉट्सअॅपच्या या सुविधेचा आता लॉकडाऊनमध्ये ऑफिस मिटिंग किंवा मुलांच्या अभ्यासातही फायदा करुन घेता येईल.

[ads1]

आयफोन आणि अँड्रॉईड फोन युजर्स


व्हॉट्सअॅपचं हे नवं फिचर व्हिडिओ कॉन्फरन्सिंग अॅप झूम आणि गुगल डुओ यांच्याप्रमाणेच आहे. या अॅपचा लॉकडाऊनमध्ये उपयोग करता येणार आहे. व्हॉट्सअॅप फिचर ट्रॅकर WABetaInfo ने आपल्या रिपोर्टमध्ये सांगितले आहे की, व्हॉट्सअॅप ग्रुप कॉल आणि व्हिडिओ कॉलमध्ये आता एकत्रपणे आठ व्यक्ती जोडले जाऊ शकतात. अँड्रॉईड फोनसाठी व्हॉट्सअॅप v2.20.133 बीटा आणि आयफोनसाठी व्हॉट्सअॅप v2.20.50.25 बीटा रोलवर या नव्या सुविधेचा युजर्स लाभ घेऊ शकतात.

अपडेट करावं लागणार बीटा वर्जन


व्हॉट्सअॅप फिचर ट्रॅकरच्या मते, युजर्सच्या मोबाइलमध्ये लेटेस्ट बीटा वर्जन असल्यास तो युजर आठ जणांसोबत एकत्र व्हिडिओ कॉलिंग करु शकतो. जर तुम्ही यापूर्वीच व्हॉट्सअॅप अपडेट केलं आहे तर तुम्ही या सुविधेचा लाभ घेऊ शकता.

असं करणार व्हॉट्सअॅपचं फिचर काम


व्हॉट्सअॅपवर ग्रुप कॉल करण्यासाठी तुम्हाला सर्वप्रथम ग्रुप ओपन करावा लागेल आणि त्यानंतर सर्वात वर असलेल्या कॉल बटनवर क्लिक करावं लागेल.
जर ग्रुपमध्ये आठ पेक्षा अधिकजण आहेत तर व्हॉट्सअॅप कडून तुम्हाला विचारणा करण्यात येईल की तुम्हाला कोणत्या कॉन्टॅक्ट्सला कॉल करायचा आहे.
महत्वाचं म्हणजे जो नंबर तुम्ही सेव्ह केलेला नाहीये त्यावर तुम्ही कॉल करु शकणार नाहीत.

(BMC) बृहन्मुंबई महानगरपालिका वाहनचालक पद 65 जागा भरती 2020

चटपटी आलू चाट रेसिपी

मंगलवार, 21 अप्रैल 2020

३० एप्रिल ते १५ में दरम्यान स्पाइक येण्याचा तज्ज्ञांचा अंदाज


 


coronavirus:राज्यात स्पाईक येण्याचा तज्ज्ञांचा अंदाज


coronavirus:राज्यात स्पाईक येण्याचा तज्ज्ञांचा अंदाज: राज्यात 30 एप्रिल ते 15 मे दरम्यान राज्यातील कोरोनाबाधित रुग्णांच्या संख्येत मोठी वाढ होण्याचा अंदाज तज्ज्ञांनी वर्तवला आहे. आरोग्य मंत्री राजेश टोपे यांनी या संदर्भातली माहिती दिली आहे. राज्यात रुग्णांची संख्या मोठ्या प्रमाणात वाढली तरी राज्य सरकारची मोठ्या प्रमाणात तयारी झाली आहे, असंही राजेश टोपे यांनी सांगितलं.

राज्यातील कोरोनाबाधित रुग्णांचा मृत्यूदर कमी करण्यासाठी शासकीय पातळीवरही प्रयत्न केले जात असल्याची माहिती राजेश टोपे यांनी दिली. येत्या 30 एप्रिल ते 15 मे दरम्यान स्पाईक येण्याची शक्यता आहे. पण त्यासाठी आरोग्य यंत्रणेची सगळी तयारी आहे. मात्र यासोबतच महाराष्ट्रातील जनतेने स्वयंशिस्त पाळली पाहिजे, असंही राजेश टोपे यांनी आवाहन केलं.

कोरोना उपचारासाठी असलेल्या रुग्णालयांमध्ये आता ऑक्सिजन स्टेशन उभारण्यात येणार आहे. यामध्ये प्रत्येक खाटेजवळ ऑक्सिजन मास्क आणि त्याला ऑक्सिजनचा पुरवठा करणारी व्यवस्था उभारण्यात येणार आहे. त्यामुळे रुग्णांना आवश्यकता वाटल्यास त्याचा वापर केला जाईल. मेडिकल ऑक्सिजनचा पुरवठा कमी होऊ नये, म्हणून त्याच्या उत्पादकांना सूचना देण्यात आल्या आहेत. मुंबईत काही ठिकाणी प्रतिबंधात्मक उपाययोजना म्हणून हायड्रॉक्सिक्लोरोक्विनच्या गोळ्या देण्याचा निर्णय घेतला आहे, अशी माहिती राजेश टोपे यांनी दिली.

कोरोनाची लक्षणे दिसल्यास दुर्लक्ष करु नये, डॉक्टरांना दाखवा


राज्याचे आरोग्यमंत्री राजेश टोपे यांनी कोरोनाची आकडेवारी आणि कोरोनाची राज्यातील सद्यस्थितीची माहिती पत्रकार परिषदेद्वारे जनतेला दिली. राज्यातील कोरोनाबाधित लोकांची संख्या 4666 वर पोहोचली आहे. महत्त्वाची आणि दिलासादायक बाब म्हणजे 572 रुग्णांना डिस्चार्ज देण्यात आला आहे. कोरोनाच्या या संकटात डॉक्टर्स, नर्सेस, एनजीओ, अत्यावश्यक सेवा सुविधांमधील लोक मोठं योगदान देत आहे, या सर्वांचे राजेश टोपे यांनी आभार मानले.

[ads1]

कोरोनाबाधीत रुग्णांबद्दल माहिती देताना अनेक रुग्णांना कोरोनाची लक्षणेच दिसून येत नसल्याचं राजेश टोपे यांनी सांगितलं. मात्र ज्यांना कोरोना लक्षणे दिसत आहेत त्यांनी दुर्लक्ष करु नका. कोरोनाची लक्षणे दिसत असून त्याकडे दुर्लक्ष करणे चुकीचे आहे. लक्षणे आढळल्यास तात्काळ डॉक्टरांकडे जाऊन तपासणी करुन घ्या, असं आवाहन राजेश टोपे यांनी केलं.

राज्यात कोरोनाच्या चाचण्या आयसीएमआरच्या सूचनेनुसारच


महाराष्ट्रात कोरोनाच्या चाचण्या आयसीएमआरच्या (इंडियन काऊन्सिल ऑफ मेडिकल रिसर्च) सूचनेनुसार केल्या जात आहे. केंद्र शासनाने काही निकष लावून राज्याला रॅपीड टेस्ट करण्यास मान्यता दिली आहे. त्यानुसार राज्यात 75 हजार चाचण्या केल्या जातील, अशी माहिती राजेश टोपे यांनी दिली.

रेड, ऑरेंज, ग्रीन झोनची विभागणी


देशातील सर्वाधिक कोरोनाबाधित महाराष्ट्रात असल्याने सर्वतोपरी खबरदारी घेतली जात आहे. त्यानुसारच कोरोना रुग्णसंख्येनुसार महाराष्ट्राची तीन झोनमध्ये विभागणी करण्यात येणार आहे, अशी चर्चा आहे. 15 पेक्षा अधिक रुग्ण असलेल्या जिल्हे रेड झोन, 15 पेक्षा कमी रुग्ण असलेले जिल्हे ऑरेंज आणि एकही रुग्ण नसलेले जिल्हे ग्रीन झोन समाविष्ट होतील. लॉकडाऊनसंदर्भात रेड झोनमधील जिल्ह्यांना कोणताही दिलासा मिळणार नाही. तर ऑरेंज आणि ग्रीन झोनमधील जिल्ह्यांमध्ये खबरदारीची उपाययोजना करुन उद्योग आणि व्यवहार सुरु केले जातील असे संकेत मिळत आहेत.

ई-कॉमर्स कंपनियां के बारेमे सरकार का नया आदेश

सोमवार, 20 अप्रैल 2020

बृहन्मुंबई महानगरपालिका वाहनचालक भरती 2020



(BMC) बृहन्मुंबई महानगरपालिका वाहनचालक पद 65 जागा भरती 2020


बृहन्मुंबई महानगरपालिका मुंबई येथे वाहनचालक पदच्या 65 जागांसाठी पात्र उमेदवारांकडून अर्ज मागवण्यात येत असून ऑनलाइन इ-मेल द्वारे अर्ज करण्याचा किंवा अर्ज पोहचण्याची अंतिम तारीख 28 एप्रिल 2020 रोजी संध्याकाळी 05 : 45 पर्यन्त आहे.

The Municipal Corporation of Greater Mumbai, also known as Brihanmumbai Municipal Corporation, is the governing civic body of Mumbai, the capital city of Maharashtra, MCGM Recruitment 2020 (Brihanmumbai Mahanagarpalika MCGM BMC Bharti 2020) for 65 Driver Posts.

BMC Bharti 2020 announces new Recruitment to FullFill the Vacancies For the posts Driver. Eligible candidates are directed to submit their application Online through www.portal.mcgm.gov.in this Website. Total 65 Vacant Posts have been announced by BMC (Brihan Mumbai Mahanagarpalika) Recruitment Board, Mumbai in the advertisement April 2020. Last date to submit application is 28th April 2020.

अधिक माहिती खलील प्रमाणे:

नौकरी स्थान (Job Place):


(BMC) बृहन्मुंबई महानगरपालिका

पद भर्ती पद्धत (Posting Type):


कंत्राटी पद्धत (Contract Basis)

एकून पद संख्या (Total Posts):


65 Posts

 

पद नाम (Job Details):


वाहन चालक
[Driver/Vahan Chalak] –

पेस्केल (Pay Scale):


(M-12 – ₹ 20,700 – ₹ 65,800) + अनमज्ञेय भत्ते.

 

[ads1]

शैक्षणिक पात्रता (Educational Qualification):


(SSC) 10 वी Pass.
हलके/जड वाहन चालक परवाना आवश्यक.
अनुभव – किमान 02 वर्षे.

अर्ज पाठवण्याचा पत्ता:


कार्यकारी अभियंता (परिवहन),शहर यांचे कार्यालय, पहिला मजला, ई मोझेस मार्ग वरळी, मुंबई- 400018

शारीरिक पात्रता: 


















वजनउंची
पुरुष50 किलो157 सेमी
स्त्री45 किलो150 सेमी

वयमर्यादा (Age Limit):


OPEN – 38 वर्षे.
मागास प्रवर्ग – 43 वर्षे.

अर्ज शुल्क (Application Fee):


फीस नाही.
[No application fees for the BMC Driver Recruitment 2020]

अर्ज पद्धत (How to Apply):


अधिकृत जाहिरातीत दिलेल्या अर्ज नामुन्याची प्रिंट काढून अर्ज भरावा व आवश्यक कागदपत्रांच्या प्रती PDF फॉरमेट मध्ये तयार करून संबंधित ईमेल आयडी (Email ID) वर किंवा स्पीड पोस्टाने पाठवा.
हे लिफफ्यावर ठळक अक्षरात लिहावे –

अर्ज पाठविण्याचा पत्ता (ईमेल):


mcgm.driver@mcgm.gov.in

अर्ज करण्याचा शेवट दिनांक (Last Date):


28 एप्रिल 2020 (05:30 PM)

Apply for This Job Here


 


ई-कॉमर्स कंपनियां जरूरी सामान को छोड़कर अन्य सामानों की सप्लाई नहीं कर पाएंगी.


ई-कॉमर्स कंपनियां के बारेमे सरकार का नया आदेश : कोरोना वायरस के बढ़ते प्रभाव को रोकने के लिए सरकार ने देश में लॉक डाउन की अवधि तीन मई तक बढ़ा दिया है। लॉक डाउन के दूसरे चरण के बीच सरकार ने 20 अप्रैल से कुछ जरूरी गतिविधियों को शुरु करने की अनुमति दी है। सरकार ने शनिवार को इन सेवाओं और गतिविधियों से जुड़ी एक नई लिस्ट जारी की थी। साथ ही कहा गया है कि कोरोना संक्रमित इलाकों में इस तरह की गतिविधियों की इजाजत नहीं होगी।

गृह मंत्रालय की ओर से रविवार को गाइडलाइन में बदलाव करते हुए यह साफ किया गया है कि लॉकडाउन के दौरान ई-कॉमर्स कंपनियां जरूरी सामान को छोड़कर अन्य सामानों की सप्लाई नहीं कर पाएंगी.

भारत सरकार ने कोरोनावायरस (Coronavirus) संकट के बीच लोगों को हो रही दिक्कतों को कुछ हद तक कम करने के लिए 20 अप्रैल (सोमवार) से कुछ सेवाओं और कामकाज की अनुमति देने का फैसला किया है. ये सेवाएं और गतिविधियां Non Covid-19 Areas या कोरोना से कम से कम प्रभावित क्षेत्रों में चालू होंगी.

लॉकडाउन फेज-2 /20 अप्रैल से मोबाइल-फ्रिज जैसे गैर-जरूरी सामान नहीं बेच सकेंगी ई-कॉमर्स कंपनियां

सरकार ने राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों के लिए जारी किए नए आदेश में साफ कर दिया है कि ई-कॉमर्स कंपनियां और उनके वाहनों का इस्तेमाल केवल जरूरी सामान की डिलीवरी के लिए होगा। इस दौरान किसी भी गैर-जरूरी सामान की डिलीवरी पर प्रतिबंध जारी रहेगा।

केंद्र सरकार द्वारा छूट दी जाने वाली लिस्ट में आयुष समेत स्वास्थ्य सेवाओं, कृषि एवं बागवानी गतिविधियों, मछली पकड़ने (समुद्री और अंतर्देशीय), वृक्षारोपण गतिविधियों (अधिकतम 50 प्रतिशत श्रमिक के साथ चाय, कॉफी और रबर) और पशुपालन को रखा गया है. इसके साथ ही अधिकतम 50 प्रतिशत मजदूरों के साथ चाय, कॉफी और रबर बागान में काम किया जा सकेगा.

20 एप्रिल से लॉकडाउन में क्या शुरू और क्या बंद

शुक्रवार, 17 अप्रैल 2020

20 एप्रिल से लॉकडाउन में क्या शुरू और क्या बंद




lockdown:20 एप्रिल से क्या शुरू और क्या बंद : आज से देशभर में लॉकडाउन का दूसरा फेज शुरू हो गया। यह 3 मई तक चलेगा। इस बीच, सरकार ने बुधवार को लॉकडाउन फेज-2 के लिए नई गाइडलाइन जारी कीं। इसमें बताया गया है कि हम और आप क्या कर सकते हैं, और क्या नहीं। यानी किन बातों या सेवाओं पर छूट होगी और किन पर रोक।

कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए ज्यादातर चीजों पर पहले की तरह ही रोक रहेंगी, मगर 'जान भी और जहान भी' के वाक्य को चरितार्थ करते हुए लॉकडाउन के दौरान सरकार ने कुछ ऐसी चीजों की भी मंजूरी दी है, जिसका हर आम आदमी की जिंदगी पर सीधा पड़ेगा।

lockdown:20 एप्रिल से क्या शुरू और क्या बंद

ये सुविधाएं रहेंगी शुरू


20 अप्रैल से लॉकडाउन में मोबाइल फोन, टीवी, रेफ्रिजरेटर, लैपटॉप और स्टेशनरी आइटम को ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म जैसे अमेजन, फ्लिपकार्ट और स्नैपडील के माध्यम से 20 अप्रैल से लॉकडाउन के दौरान बेचने की अनुमति होगी।

अमेजन, फ्लिकार्ट और स्नैपडील जैसी ई-वाणिज्य कंपनियों के माध्यम से मोबाइल फोन, टेलीविजन, रेफ्रिजरेटर, लैपटॉप और साफ-सफाई से जुड़े उत्पादों की बिक्री की अनुमति 20 अप्रैल से होगी।

जरूरतों से जुड़ी ये सेवाएं और दुकानें शुरू होंगी



  • किराना और राशन की दुकानें।

  • फल-सब्जी के ठेले, साफ-सफाई का सामान बेचने वाली दुकानें।

  • डेयरी और मिल्क बूथ, पोल्ट्री, मीट, मछली और चारा बेचने वाली दुकानें।

  • इलेक्ट्रीशियन, आईटी रिपेयर्स, प्लंबर, मोटर मैकेनिक, कारपेंटर, कुरियर, डीटीएच और केबल सर्विसेस।

  • ई-कॉमर्स कंपनियां काम शुरू कर सकेंगी। डिलीवरी के लिए इस्तेमाल होने वाले वाहनों के लिए जरूरी मंजूरी लेनी होगी।

  • जिला प्रशासन की यह जिम्मेदारी होगी कि वो सभी जरूरी सेवाओं की होम डिलिवरी का इंतजाम करे। ऐसा होने पर ज्यादा लोग बाहर नहीं

  • निकलेंगे। दुकानों पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन जरूरी होगा।

  • आईटी और इससे जुड़ी सेवाओं वाले दफ्तर। इनमें 50% से ज्यादा स्टाफ नहीं होगा।

  • केवल सरकारी गतिविधियों के लिए काम करने वाले डेटा और कॉल सेंटर।
    ऑफिस और आवासीय परिसरों की प्राइवेट सिक्योरिटी और मैंटेनेंस सर्विसेस।

  • ट्रक रिपेयर के लिए हाईवे पर दुकानें और ढाबे खुलेंगे। राज्य सरकारें की जिम्मेदारी होगी कि यहां सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो।

  • नगरीय निकाय की सीमा से बाहर गांवों में उद्योग शुरू किए जा सकेंगे।

  • गांवों में ईंट भट्टों और फूड प्रोसेसिंग इंडस्ट्री में काम शुरू किया जाएगा।

  • ग्राम पंचायत स्तर पर सरकार की मंजूरी वाले कॉमन सर्विस सेंटर खुल सकेंगे।

  • कोल्ड स्टोरेज और वेयरहाउस सर्विस शुरू होगी।

  • फिशिंग ऑपरेशन (समुद्र और देश के अंदर) जारी रहेंगे। इसमें- मछलियों का भोजन, मेंटेनेंस, प्रोसेसिंग, पैकेजिंग, मार्केटिंग और बिक्री हो सकेगी।

  • चाय, कॉफी, रबर और काजू की प्रोसेसिंग, पैकेजिंग, मार्केटिंग और बिक्री के लिए फिलहाल 50% मजदूर ही रहेंगे।

  • दूध का कलेक्शन, प्रोसेसिंग, डिस्ट्रिब्यूशन और ट्रांसपोर्टेशन हो सकेगा।

  • पोल्ट्री फॉर्म समेत अन्य पशुपालन गतिविधियां चालू रहेंगी।

  • पशुओं का खाना मसलन मक्का और सोया की मैन्युफेक्चरिंग और डिस्ट्रिब्यूशन हो सकेगा। पशु शेल्टर और गौशालाएं खुलेंगी।

  • जरूरी सामान की मैन्युफैक्चरिंग यूनिट में काम होगा। इनमें ड्रग, फार्मा और मेडिकल डिवाइस बनाने वाली कंपनियां शामिल हैं।


सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क लगाकर मनरेगा कामगार काम कर सकेंगे।

  • ऐसी प्रोडक्शन यूनिट, जिसमें प्रोसेस को रोका नहीं जा सकता। वे शुरू हो सकेंगी। उनकी सप्लाई चेन भी शुरू हो सकेगी।

  • मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर और स्पेशल इकोनॉमिक जोन, इंडस्ट्रियल टाउनशिप में स्थित कंपनियों को अपने यहां काम करने वाले स्टाफ के रुकने की व्यवस्था कंपनी परिसर में करनी होगी। अगर स्टाफ बाहर से आ रहा है तो सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखते हुए उनके आने-जाने के इंतजाम करने होंगे।

  • आईटी हार्डवेयर बनाने वाली कंपनियों में कामकाज होगा। कोल, माइन और मिनरल प्रोडक्शन, उनके ट्रांसपोर्ट और माइनिंग के लिए जरूरी विस्फोटक की आपूर्ति जारी रहेगी।


[ads1]

  • ऑयल और जूट इंडस्ट्री, पैकेजिंग मटेरियल की मैन्युफैक्चरिंग यूनिट को भी छूट मिलेगी।

  • शहरी क्षेत्र के बाहर सड़क, सिंचाई, बिल्डिंग, अक्षय ऊर्जा और सभी तरह के इंडस्ट्रियल प्रोजेक्ट में कंस्ट्रक्शन शुरू हो सकेगा। अगर शहरी क्षेत्र में कंस्ट्रक्शन प्रोजेक्ट शुरू करना है तो इसके लिए मजदूर साइट पर ही उपलब्ध होने चाहिए। कोई मजदूर बाहर से नहीं लाया जाएगा।


ये सेवाएं पहले चरण तक भी चालू थीं, 3 मई तक भी चालू ही रहेंगी


1. पब्लिक यूटिलिटी

  • बैंक, एटीएम खुले रहेंगे। पेट्रोल, डीजल, केरोसीन, सीएनजी, एलपीजी और पीएनजी की सप्लाई जारी रहेगी।

  • डाक घर खुले रहेंगे, डाक सेवाएं जारी रहेंगी। कैपिटल और डेट मार्केट सेबी के निर्देशों के अनुसार काम करेगा।


2. हेल्थ

  • अस्पताल, नर्सिंग होम, क्लिनिक, टेलिमेडिसिन सेवाएं चलती रहेंगी। डिस्पेंसरी, केमिस्ट, फार्मेसी, जन औषधि केंद्रों समेत सभी तरह की दवा की दुकानें और मेडिकल इक्विपमेंट की दुकानें।

  • मेडिकल लैब और कलेक्शन सेंटर। फार्मा और मेडिकल रिसर्च लैब, कोरोना से जुड़ी रिसर्च करने वाले संस्थान।

  • वेटरनरी अस्पताल, डिस्पेंसरी क्लिनिक, पैथोलॉजी लैब, टीकों और दवाओं की बिक्री।

  • कोरोना रोकने के लिए जरूरी सेवाएं देने वाले सभी अधिकृत निजी संस्थान, होम केयर, डायग्नोस्टिक और अस्पतालों के लिए काम करने वाली सप्लाई चेन।

  • दवा, फार्मा, मेडिकल डिवाइस, मेडिकल ऑक्सीजन, उससे जुड़ा पैकेजिंग मटेरियल और रॉ मटेरियल बनाने वाली मैन्यूफैक्चरिंग यूनिट्स।
    एंबुलेंस समेत मेडिकल, हेल्थ इन्फ्रास्ट्रक्चर का निर्माण।

  • सभी तरह की मेडिकल, वेटरनरी सेवाओं से जुड़े लोग, साइंटिस्ट, नर्सें, पैरामेडिकल स्टाफ, लैब टेक्नीशियन, मिड वाइव्स और एंबुलेंस समेत अस्पताल से जुड़ी सेवाओं को करने वाले लोगों का राज्य के अंदर और बाहर मूवमेंट जारी रहेगा।


3. ट्रांसपोर्ट

  • सभी तरह के सामानों की आवाजाही हो सकेगी। रेलवे के जरिए सामान और पार्सल भेजे जा सकेंगे। विमानों का भी कार्गो, मदद और लोगों को निकालने के लिए इस्तेमाल हो सकेगा।

  • बंदरगाहों से देश के अंदर और बाहर रसोई गैस, खाद्य सामग्री और मेडिकल सप्लाई हो सकेगी। सड़क के रास्ते जरूरत के सामानों को ले जाने वाले ट्रकों-गाड़ियों की आवाजाही। इसमें दो ड्राइवरों और एक हेल्पर को अनुमति मिलेगी।


4. सभी केंद्रीय कार्यालय और इससे जुड़े दफ्तर

  • केंद्र सरकार के सभी मंत्रालयों के अधीन आने वाले डिपार्टमेंट्स। ऑफिसों में डिप्टी सेक्रेटरी और इससे ऊपर के अधिकारियों की 100% उपस्थिति जरूरी होगी। इससे नीचे के 33% से ज्यादा अधिकारियों और अन्य स्टाफ को जरूरत के मुताबिक ऑफिस आना होगा। सशस्त्र बल, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, आपदा प्रबंधन, मौसम विभाग, केंद्रीय सूचना आयोग, एफसीआई, एनसीसी, नेहरू युवा केंद्र और कस्टम के दफ्तरों में बिना रुकावट काम होगा।


5. राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के कार्यालय और उनसे जुड़े ऑफिस भी खुले रहेंगे

  • पुलिस, होमगार्ड, सिविल डिफेंस, फायर और इमरजेंसी सर्विस, आपदा प्रबंधन, जेल और नगरीय निकाय के दफ्तरों में कामकाज जारी रहेगा।

  • इसके अलावा राज्यों के अन्य विभागों में स्टाफ की सीमित संख्या के साथ काम होगा। ग्रुप ए और बी के अधिकारी जरूरत पड़ने पर ऑफिस आएंगे। ग्रुप सी और उसके नीचे के 33 फीसदी कर्मचारी के साथ कामकाज होगा।

  • जिला प्रशासन और कोषागार में कर्मचारियों की सीमित संख्या के साथ काम होगा। हालांकि, जरूरी सेवाओं की डिलीवरी में लगे कर्मचारियों को छूट रहेगी।

  • वन विभाग के कर्मचारी चिड़ियाघरों, नर्सरी, पेड़ों की सिंचाई और जंगल में आग पर काबू पाने के काम कर सकेंगे।


ये सुविधाएं रहेंगी बंद



  • सरकार के नए निर्देशों के मुताबिक घरेलू और अंतरराष्ट्रीय हवाई उड़ानें 3 मई तक पूरी तरह प्रतिबंधित रहेंगी. इसके अलावा सार्वजनिक परिवहन जैसे ट्रेन, मेट्रो, बस, टैक्सी और ऑटो रिक्शा आदि भी बंद रहेंगे.

  • सभी तरह की घरेलू और विदेशी उड़ानें (सुरक्षा कारणों से होने वाली आवाजाही और कार्गो छोड़कर) बंद रहेंगी।

  • यात्री ट्रेनों की सभी तरह की आवाजाही (सुरक्षा कारणों को छोड़कर) बंद रहेगी।

  • पब्लिक ट्रांसपोर्ट में इस्तेमाल होने वाली बसें नहीं चलेंगी। मेट्रो रेल सेवाएं बंद रहेंगी।

  • मेडिकल वजहों को छोड़कर बाकी सभी लोगों का एक दूसरे से जिलों और एक से दूसरे राज्यों में मूवमेंट नहीं होगा।

  • सभी तरह के एजुकेशन, ट्रेनिंग और कोचिंग इंस्टिट्यूट्स बंद रहेंगे।

  • जिन्हें इजाजत मिली हुई है, उसे छोड़कर सभी तरह की कमर्शियल और इंडस्ट्रियल गतिविधियां बंद रहेंगी।

  • जिन्हें इजाजत मिली हुई है, उसे छोड़कर हॉस्पिटैलिटी सेवाएं भी नहीं चलेंगी।

  • ऑटो रिक्शा, साइकिल रिक्शा, टैक्सी और कैब सेवाएं बंद रहेंगी।

  • सभी सिनेमा हॉल, शॉपिंग मॉल, शॉपिंग कॉम्प्लेक्स, जिम, स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स, स्वीमिंग पूल, एंटरटेनमेंट पार्क, थिएटर, बार, ऑडिटोरियम, असेंबली हॉल और इनके जैसी जगहें भी नहीं खुलेंगी।

  • सभी तरह के सामाजिक, राजनीतिक, खेल, मनोरंजन, अकादमिक, सांस्कृतिक और धार्मिक समारोह या जमावड़े की इजाजत नहीं होगी।

  • आम लोगों के लिए सभी तरह के धार्मिक स्थान और इबादत की जगहें बंद रहेंगी। धार्मिक जमावड़े को कड़ाई से बंद रखना होगा।


 

ई-कॉमर्स कंपनियां जरूरी सामान को छोड़कर अन्य सामानों की सप्लाई नहीं कर पाएंगी.

Mutual Fund क्या हैtype='text/javascript'>

मंगलवार, 14 अप्रैल 2020

PM Modi Speech:लॉकडाउन 3 मई तक




PM Modi Speech:लॉकडाउन 3 मई तक- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लॉकडाउन 3 मई तक बढ़ाने की घोषणा की है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र के नाम संबोधन में लॉकडाउन की अवधि को तीन मई तक बढ़ा दिया है।

3 मई तक लॉकडाउन के नियमों का पालन करें


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि यदि हम धैर्य बनाकर रखेंगे, नियमों का पालन करेंगे तो कोरोना जैसी महामारी को भी परास्त कर पाएंगे। उन्होंने कहा कि जो क्षेत्र हॉटस्पॉट में नहीं होंगे, और जिनके हॉटस्पॉट में बदलने की आशंका कम होगी, वहां पर 20 अप्रैल से कुछ जरूरी गतिविधियों की अनुमति दी जा सकती है। प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन के आखिर में देशवासियों से सात वचन मांगे और कहा कि जहां हैं, वहीं रहें और सुरक्षित रहें।

जितना हो सके उतने गरीब परिवार की देखरेख करें, उनके भोजन की आवश्यकता पूरी करें।

आप अपने व्यवसाय, अपने उद्योग में अपने साथ काम करे लोगों के प्रति संवेदना रखें, किसी को नौकरी से न निकालें।

देश के कोरोना योद्धाओं, हमारे डॉक्टर- नर्सेस, सफाई कर्मी-पुलिसकर्मी का पूरा सम्मान करें। पूरी निष्ठा के साथ 3 मई तक लॉकडाउन के नियमों का पालन करें, जहां हैं, वहां रहें, सुरक्षित रहें। वयं राष्ट्रे जागृयाम”, हम सभी राष्ट्र को जीवंत और जागृत बनाए रखेंगे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने  कहा है कि भारत कोरोना के ख़िलाफ़ आगे और लड़ाई कैसे लड़े इसे लेकर राज्यों के साथ निरंतर चर्चा हुई है. उसमें हर किसी की ओर से यही सुझाव आया है कि लॉकडाउन को बढ़ाया जाए. सारे सुझावों को ध्यान में रखते हुए यह तय किया गया है कि 3 मई तक लॉकडाउन को बढ़ाया जा रहा है.

उन्होंने कहा, "लॉकडाउन की वजह से भारत अब तक कोरोना के नुक़सान को टालने में सफल रहा है. मैं जानता हूँ कि आपको कितने दिक़्क़तें आई हैं. किसी को खाने-पीने की परेशानी किसी को आने जाने की परेशानी. लेकिन आप अनुशासित सिपाही की तरह देश का कर्त्तव्य निभा रहे हैं."

अपने घर के बुजुर्गों का विशेष ध्यान रखें


अपने घर के बुजुर्गों का विशेष ध्यान रखें - विशेषकर ऐसे व्यक्ति जिन्हें पुरानी बीमारी हो, उनकी हमें Extra Care करनी है, उन्हें कोरोना से बहुत बचाकर रखना है। दूसरी बात- लॉकडाउन और सामाजिक दूरी की लक्ष्मण रेखा का पूरी तरह पालन करें, घर में बने फेसकवर या मास्क का अनिवार्य रूप से उपयोग करें। तीसरी बात- अपनी इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए, आयुष मंत्रालय द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन करें, गर्म पानी, काढ़ा, इनका निरंतर सेवन करें। चौथी बात- कोरोना संक्रमण का फैलाव रोकने में मदद करने के लिए आरोग्य सेतु मोबाइल एप जरूर डाउनलोड करें। दूसरों को भी इस एप को डाउनलो करने के लिए प्रेरित करें।

केंद्र और राज्य सरकारें मिलकर कर रही हैं काम


इसलिए, न खुद कोई लापरवाही करनी है और न ही किसी और को लापरवाही करने देना है। कल इस बारे में सरकार की तरफ से एक विस्तृत गाइडलाइन जारी की जाएगी। जो रोज कमाते हैं, रोज की कमाई से अपनी जरूरतें पूरी करते हैं, वो मेरा परिवार हैं। मेरी सर्वोच्च प्राथमिकताओं में एक, इनके जीवन में आई मुश्किल को कम करना है। अब नई गाइडलइंस बनाते समय भी उनके हितों का पूरा ध्यान रखा गया है। इस समय रबी फसल की कटाई का काम भी जारी है। केंद्र सरकार और राज्य सरकारें मिलकर, प्रयास कर रही हैं कि किसानों को कम से कम दिक्कत हो।

20 अप्रैल तक हर कस्बे, हर थाने, हर जिले, हर राज्य को परखा जाएगा


अगले एक सप्ताह में कोरोना के खिलाफ लड़ाई में कठोरता और ज्यादा बढ़ाई जाएगी। 20 अप्रैल तक हर कस्बे, हर थाने, हर जिले, हर राज्य को परखा जाएगा, वहां लॉकडाउन का कितना पालन हो रहा है, उस क्षेत्र ने कोरोना से खुद को कितना बचाया है, ये देखा जाएगा। जो क्षेत्र इस अग्निपरीक्षा में सफल होंगे, जो हॉटस्पॉट में नहीं होंगे, और जिनके हॉटस्पॉट में बदलने की आशंका भी कम होगी, वहां पर 20 अप्रैल से कुछ जरूरी गतिविधियों की अनुमति दी जा सकती है।

हॉटस्पॉट को लेकर बरतनी होगी सतर्कता


मेरी सभी देशवासियों से ये प्रार्थना है कि अब कोरोना को हमें किसी भी कीमत पर नए क्षेत्रों में फैलने नहीं देना है। स्थानीय स्तर पर अब एक भी मरीज बढ़ता है तो ये हमारे लिए चिंता का विषय होना चाहिए। इसलिए हमें हॉटस्पॉट को लेकर बहुत ज्यादा सतर्कता बरतनी होगी। जिन स्थानों के हॉटस्पॉट में बदलने की आशंका है उस पर भी हमें कड़ी नजर रखनी होगी। नए हॉटस्पॉट का बनना, हमारे परिश्रम और हमारी तपस्या को और चुनौती देगा।

[ads1]

कोरोना ने दुनियाभर के हेल्थ एक्सपर्ट्स को किया सतर्क


अगर सिर्फ आर्थिक दृष्टि से देखें तो अभी ये मंहगा जरूर लगता है लेकिन भारतवासियों की जिंदगी के आगे, इसकी कोई तुलना नहीं हो सकती। सीमित संसाधनों के बीच, भारत जिस मार्ग पर चला है, उस मार्ग की चर्चा आज दुनिया भर में हो रही है। इन सब प्रयासों के बीच, कोरोना जिस तरह फैल रहा है, उसने विश्व भर में हेल्थ एक्सपर्ट्स और सरकारों को और ज्यादा सतर्क कर दिया है। भारत में भी कोरोना के खिलाफ लड़ाई अब आगे कैसे बढ़े, इसे लेकर मैंने राज्यों के साथ निरंतर बात की है।

तीन मई तक बढ़ा लॉकडाउन


सभी का यही सुझाव है कि लॉकडाउन को बढ़ाया जाए। कई राज्य तो पहले से ही लॉकडाउन को बढ़ाने का फैसला कर चुके हैं। साथियों, सारे सुझावों को ध्यान में रखते हुए ये तय किया गया है कि भारत में लॉकडाउन को अब 3 मई तक और बढ़ाना पड़ेगा। यानि 3 मई तक हम सभी को, हर देशवासी को लॉकडाउन में ही रहना होगा। इस दौरान हमें अनुशासन का उसी तरह पालन करना है, जैसे हम करते आ रहे हैं।

जब हमारे यहां कोरोना के सिर्फ 550 केस थे, तभी भारत ने 21 दिन के संपूर्ण लॉकडाउन का एक बड़ा कदम उठा लिया था। भारत ने, समस्या बढ़ने का इंतजार नहीं किया, बल्कि जैसे ही समस्या दिखी, उसे, तेजी से फैसले लेकर उसी समय रोकने का प्रयास किया। भारत ने होलिस्टिक अप्रोच न अपनाई होती, इंटिग्रेडिड अप्रोच न अपनाई होती, तेज फैसले न लिए होते तो आज भारत की स्थिति कुछ और होती। लेकिन बीते दिनों के अनुभवों से ये साफ है कि हमने जो रास्ता चुना है, वो सही है।

कॉमर्शियल गतिविधियां हो सकती हैं शुरू


सूत्रों के अनुसार 15 अप्रैल से 16 तरह के उद्योग और कॉमर्शियल गतिविधियां भी शुरू होंगी। वर्करों को 30 अप्रैल तक फैक्ट्रियों में ही रखा जाएगा। राज्यों में प्रवासी श्रमिकों के 28 हजार कैंपों से कामगार फैक्ट्रियों तक पहुंचाए जाएंगे। रेलवे, एयरपोर्ट, बंदरगाह और कस्टम प्राधिकरण को भी खुलने का संकेत मिल चुका है।

मैन्युफैक्चरिंग यूनिटों में जाने के लिए मजदूरों को जारी करें पास


राज्यों को निर्देश दिए जा रहे हैं कि मजदूरों को मैन्युफैक्चरिंग यूनिटों में जाने के लिए पास जारी करें। आटा, दाल, खाद्य तेलों की छोटी इकाइयां पूरी तरह खोली जाएंगी। वेयर हाउस और कोल्ड स्टोरेज खोलने की भी योजना है। ये खुलने के बाद ई-कॉमर्स के जरिये डिलीवरी का रास्ता भी साफ हो जाएगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, "सोशल डिस्टेंसिंग और लॉकडाउन का बहुत बड़ा लाभ मिला है. आर्थिक दृष्टि से यह महंगा ज़रूर लगता है लेकिन भारतवासियों की ज़िंदगी के सामने ये ज़्यादा नहीं."

पीएम मोदी ने देश से मांगे 7 वचन


पहली बात-
अपने घर के बुजुर्गों का विशेष ध्यान रखें, विशेषकर ऐसे व्यक्ति जिन्हें पुरानी बीमारी हो, उनकी हमें एक्ट्रा केयर करनी है, उन्हें कोरोना से बहुत बचाकर रखना है।

दूसरी बात-
लॉकडाउन और Social Distancing की लक्ष्मण रेखा का पूरी तरह पालन करें। घर में बने फेसकवर या मास्क का अनिवार्य रूप से उपयोग करें।

तीसरी बात-
अपनी इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए, आयुष मंत्रालय द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन करें, गर्म पानी, काढ़ा, इनका निरंतर सेवन करें।

चौथी बात-
कोरोना संक्रमण का फैलाव रोकने में मदद करने के लिए आरोग्य सेतु मोबाइल App जरूर डाउनलोड करें। दूसरों को भी इस App को डाउनलोड करने के लिए प्रेरित करें।

पांचवी बात-
जितना हो सके उतने गरीब परिवार की देखरेख करें। उनके भोजन की आवश्यकता पूरी करें।

छठी बात-
आप अपने व्यवसाय, अपने उद्योग में अपने साथ काम करे लोगों के प्रति संवेदना रखें, किसी को नौकरी से न निकालें।

सातवीं बात-
देश के कोरोना योद्धाओं, हमारे डॉक्टर- नर्सेस, सफाई कर्मी-पुलिसकर्मी का पूरा सम्मान करें।

घर पर बनाये नेचुरल हैंड सैनिटाइजर

सोमवार, 13 अप्रैल 2020

महाराष्‍ट्र सरकार ने रद्द की 10वीं बोर्ड परीक्षा



Maharashtra SSC Exam:महाराष्‍ट्र सरकार ने रद्द की 10वीं बोर्ड की बची हुई परीक्षा


महाराष्ट्र स्टेट बोर्ड ऑफ सेकंडरी एंड हायर एजुकेशन ने 10वीं कक्षा का ज्योग्राफी का पेपर रद्द कर दिया गया है। इसके अलावा वर्क एक्सपीरियंस का पेपर भी कैंसल कर दिया गया है। 10 वीं कक्षा की भूगोल एवं कार्य अनुभव की परीक्षाएं रद्द करने की रविवार को घोषणा की।

मंत्री ने कहा कि महाराष्ट्र राज्य माध्यमिक एवं उच्चतर माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा निर्धारित कार्यप्रणाली के मुताबिक अंक(मार्क्स) या ग्रेड देने का फैसला लिया जाएगा. और उसके बाद उन्हें अगली कक्षा में प्रवेश दिया जाएगा.

वर्षा गायकवाड़ ने एक ट्वीट करते हुए कहा, "कोरोनावायरस आउटब्रेक के चलते हमने 9वीं और 11वीं की दूसरे सत्र की परीक्षाओं को रद्द करने का फैसला किया है. इन कक्षाओं में पढ़ने वाले स्‍टूडेंट्स को भी पहले सेमेस्‍टर में आए अंकों के आधार पर प्रमोट किया जाएगा. इसी के साथ हमने 10वीं के आखिरी बचे पेपर को भी रद्द कर दिया है."

इससे पहले 21 मार्च को महाराष्‍ट्र सरकार ने ऐलान किया था कि एसएसी परीक्षा (10वीं कक्षा) का आखिरी पेपर जो कि 23 मार्च को होना था उसे कोरोनावायरस के चलते स्‍थगित किया जाता है.

आपको बता दें कि महाराष्‍ट्र में 10वीं बोर्ड में कुल 17,65,000 स्‍टूडेंट्स ने रजिस्‍ट्रेशन करवाया है. वहीं महाराष्‍ट्र बोर्ड की 12वीं परीक्षाएं पहले ही खत्‍म हो चुकी हैं.

राज्‍य सरकार पहले ही कक्षा 1 से लेकर कक्षा 8 तक की परीक्षाएं रद्द कर चुकी है. महाराष्‍ट्र सरकार ने लॉकडाउन को 30 अप्रैल तक के लिए बढ़ा दिया है.

कोरोना की चपेट में महाराष्‍ट्र, एक दिन में 22 की मौत, कुल 1982 संक्रमित


देश में कोरोना को केस 10 हजार के करीब पहुंच चुका है. इस महामारी से सबसे अधिक प्रभावित महाराष्‍ट्र है. यहां एक दिन में 22 लोगों की मौत हुई और 221 नये केस सामने आये हैं. महाराष्ट्र स्वास्थ्य विभाग ने बताया अब तक राज्‍य में कुल 1982 लोग कोरोना की चपेट में आ गये हैं.


10th के बाद क्या करे कोनसा सब्जेक्ट ले

मुंबई मेट्रो रेल कारपोरेशन (MMRC) नौकरिया 2020



What is MMRC Full Form?


The Full Form of MMRC is Mumbai Metro Rail Corporation.

मुंबई मेट्रो रेल कारपोरेशन नौकरिया 2020


क्षेत्रीय बिक्री प्रबंधक


कंपनी का नाम : बीओबी फाइनेंसियल सलूशन
योग्यता : Any Graduate, Any Post Graduate
नौकरी स्थान : Patna, Bhopal, Bareilly
उद्घाटन की संख्या : 1
आवेदन करने की अंतिम तिथि : 17-04-2020

मोबाइल एप्लीकेशन डेवलपर


कंपनी का नाम : बैंक ऑफ बड़ौदा
योग्यता : B.Tech/B.E, M.E/M.Tech
नौकरी स्थान : Vadodara
उद्घाटन की संख्या : 5
आवेदन करने की अंतिम तिथि : 15-04-2020

कार्यक्रम प्रबंधक, प्रौद्योगिकी वास्तुकार, डेटा विश्लेषक, अधिक रिक्तियों


कंपनी का नाम : बैंक ऑफ बड़ौदा
योग्यता : Any Graduate, B.Tech/B.E, M.Sc, MCA
नौकरी स्थान : Vadodara
उद्घाटन की संख्या : 30
आवेदन करने की अंतिम तिथि : 15-04-2020

डाटा इंजीनियर


कंपनी का नाम : बैंक ऑफ बड़ौदा
योग्यता : B.Tech/B.E, MCA
नौकरी स्थान : Vadodara
उद्घाटन की संख्या : 4
आवेदन करने की अंतिम तिथि : 15-04-2020

चीफ रिस्क अफसर


कंपनी का नाम : बैंक ऑफ बड़ौदा
योग्यता : Any Graduate, Any Post Graduate
नौकरी स्थान : Mumbai
उद्घाटन की संख्या : 1
आवेदन करने की अंतिम तिथि : 22-04-2020

स्वामी (Master Jobs)


कंपनी का नाम : उड़ीसा पुलिस
योग्यता : Any Graduate, Any Post Graduate
नौकरी स्थान : Bhubaneshwar
उद्घाटन की संख्या : 12
आवेदन करने की अंतिम तिथि : 20-04-2020

इंजन ड्राइवर / सीरंग


कंपनी का नाम : उड़ीसा पुलिस
योग्यता : Any Graduate, B.Tech/B.E
नौकरी स्थान : Bhubaneshwar
उद्घाटन की संख्या : 11
आवेदन करने की अंतिम तिथि : 20-04-2020

जनरल ड्यूटी मेडिकल ऑफिसर


कंपनी का नाम : हैवी इंजीनियरिंग कारपोरेशन लिमिटेड
योग्यता : MBBS
नौकरी स्थान : Ranchi
उद्घाटन की संख्या : 2
आवेदन करने की अंतिम तिथि : 04-05-2020

[ads1]

परिचारिका(Staff Nurse Jobs)


कंपनी का नाम : हैवी इंजीनियरिंग कारपोरेशन लिमिटेड
योग्यता : B.Sc, Diploma
नौकरी स्थान : Ranchi
उद्घाटन की संख्या : 3
आवेदन करने की अंतिम तिथि : 04-05-2020

अनुबंध चिकित्सा व्यवसायी / विशेषज्ञ


कंपनी का नाम : नोर्थेर्न रेलवे
योग्यता : DNB, MS/MD
नौकरी स्थान : Lucknow
उद्घाटन की संख्या : 36
आवेदन करने की अंतिम तिथि : 16-04-2020

अनुबंध चिकित्सा चिकित्सकों / जीडीएमओ


कंपनी का नाम : नोर्थेर्न रेलवे
योग्यता : MBBS
नौकरी स्थान : Lucknow
उद्घाटन की संख्या : 12
आवेदन करने की अंतिम तिथि : 16-04-2020

एक्स - रे तकनीशियन


कंपनी का नाम : सेंट्रल रेलवे
योग्यता : Diploma, 12TH
नौकरी स्थान : Jalgaon
उद्घाटन की संख्या : 6
आवेदन करने की अंतिम तिथि : 14-04-2020

फार्मेसिस्ट


कंपनी का नाम : सेंट्रल रेलवे
योग्यता : Diploma, 12TH
नौकरी स्थान : Jalgaon
उद्घाटन की संख्या : 4
आवेदन करने की अंतिम तिथि : 14-04-2020

प्रयोगशाला तकनीशियन


कंपनी का नाम : सेंट्रल रेलवे
योग्यता : B.Sc
नौकरी स्थान : Jalgaon
उद्घाटन की संख्या : 10
आवेदन करने की अंतिम तिथि : 14-04-2020

स्वास्थ्य निरीक्षक


कंपनी का नाम : सेंट्रल रेलवे
योग्यता : Diploma
नौकरी स्थान : Jalgaon
उद्घाटन की संख्या : 2
आवेदन करने की अंतिम तिथि : 14-04-2020

वार्ड ब्वॉय


कंपनी का नाम : बृहन्मुंबई म्युनिसिपल कारपोरेशन
योग्यता : 10TH
नौकरी स्थान : Mumbai
उद्घाटन की संख्या : 114
आवेदन करने की अंतिम तिथि : 17-04-2020

कार्यालय सहायक / प्रोटोकॉल


कंपनी का नाम : कोंकण रेलवे कॉरपोरेशन लिमिटेड
योग्यता : Any Graduate
नौकरी स्थान : Navi Mumbai
उद्घाटन की संख्या : 1
आवेदन करने की अंतिम तिथि : 27-04-2020

सरकारी नौकरी के फायदे 

शनिवार, 11 अप्रैल 2020

लोकडाउन बढ़ाया ३०अप्रिल तक


coronavirus:लोकडाउन बढ़ाया ३०अप्रिल तक


देश में लगातार बढ़ रहे कोरोना मामलों के बीच शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बातचीत की। इस दौरान उन्होंने सभी मुख्यमंत्रियों से लॉकडाउन को बढ़ाने समेत इस महामारी से लड़ने और आवश्यक कदमों पर सुझाव भी मांगा। इस दौरान सभी राज्यों ने लॉकडाउन दो हफ्ते बढ़ाने की मांग की।

बैठक के बाद सरकार की तरफ से बयान भी जारी हुआ


प्रधानमंत्री ने आश्वस्त किया है कि देश में जरूरी दवाएं पर्याप्त मात्रा में मौजूद हैं। कालाबाजारियों और जमाखोरों को सख्त संदेश दिया।
लॉकडाउन पर पीएम ने कहा कि राज्य सरकारें एकमत दिख रही हैं कि इसे दो हफ्ते तक बढ़ाया जाना चाहिए।
पीएम ने पाया किया कि केंद्र और राज्य सरकार के लगातार साझा प्रयासों से कोविड-19 से लड़ने में मदद मिली है और इसका असर कम हुआ है, लेकिन लगातार निगरानी की भी जरूरत है।
कोविड-19 से लड़ने वाले कर्मचारियों को सभी तरह के सुरक्षा उपकरण उपलब्ध कराए जाएं, इस पर जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं।
पीएम मोदी ने मुख्यमंत्रियों से कहा कि लॉकडाउन उल्लंघन पर नियंत्रण जरूरी है और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन होना चाहिए।

पीएम ने कहा- जान है तो जहान है


इस बैठक में पीएम मोदी ने कहा- लॉकडाउन की बात करते हुए मैंने कहा था कि जान है तो जहान है। जब मैंने राष्ट्र के नाम संदेश दिया था तो शुरू में इस बात पर जोर दिया था कि हर नागरिक की जान बचाने के लिए लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन बहुत आवश्यक है। देश के अधिकतर लोगों ने इस बात को समझा और घरों में रहकर अपना दायित्व भी निभाया। हम सभी ने भी इसी मंत्र पर चलते हुए देशवासियों की जिंदगी बचाने का प्रयास किया।

भारत के उज्जवल भविष्य के लिए, समृद्ध और स्वस्थ भारत के लिए, जान भी जहान भी, दोनों पहलुओं पर ध्यान आवश्यक है। जब देश का प्रत्येक व्यक्ति जान भी और जहान भी, दोनों की चिंता करते हुए अपने दायित्व को निभाएगा, सरकार और प्रशासन के दिशा-निर्देशों का पालन करेगा, तो कोरोना के खिलाफ हमारी लड़ाई और मजबूत होगी।

lockdown का सक्तिसे करना चाहिए पालन

लॉकडाउन बढ़ेगा कोरोना हारेगा


lockdown बढ़ने का फैसला सर्वसम्मति से. 30 एप्रिल तक जारी रहेगा lockdown

मुख्यमंत्रियों के साथ विडिओ कॉन्फरन्स में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा lockdown बढ़ाने के लिए कोई विकल्प नहीं। corona के चलते अगले 3-4 हप्ते बेहद अहम. पहले हमारा मन्त्र था "जान हे तो जहाँ हैं ", अब हमारा मन्त्र हे "जान भी, जहान भी" कोरोना के चलते महाराष्ट्र और पश्चिम बंगाल में 30 एप्रिल तक जारी रहेगा lockdown.

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ बैठक में lockdown बढ़ाने का सुझाव दिया।

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने  की घोषणा अब 14 एप्रिल के बाद भी बढ़ेगा lockdown.

महाराष्ट्र में atlist 30 एप्रिल तक बढ़ेगा lockdown.

इस covid-19- coronavirus की लड़ाई हमें जितना ही चाहिए और जीतेंगे ही ऐसे मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा.

घर पर रहे स्वस्त रहे.


घर पर बनाये नेचुरल हैंड सैनिटाइजर


 

शुक्रवार, 10 अप्रैल 2020

 Mechanical Engineering Business Ideas


 



Mechanical Engineering is a money-spinning career path for engineering students. There are numerous ways to get into entrepreneurship for mechanical engineers.

This discipline of engineering involves designing, production, and operation of machinery. Mechanical is a lucrative stream in the engineering career for the students. And after getting the degree, mechanical engineers can choose both the job or entrepreneurship career in the professional life.

As you become an expert in the mechanical field, you can open a business in the both light or heavy engineering segment. However, here we have compiled a list of mechanical engineering business ideas that demand comparatively small capital investment in starting.

List of 20 Business Ideas in Mechanical Engineering Field


1. Aluminum Door Window Manufacturing & Fabrication


Aluminium door window and other aluminium fabricating products are highly trending now in the construction industry. Technology is also upgrading day-by-day. Basically, it provides durability and stylish look than any other conventional items like wood or iron. With a 1000 Sq Ft workspace, you can start this business. Basically, you can cater both the domestic and industrial consumers.

One of the best aspects about this business is that the start-up costs are low and only a minimal inventory must be stocked, as all the window orders will be custom sizes, and doors can also be manufactured on an ordered basis.

2. Auto Body Store


The automobile is a natural choice for the mechanical engineers. In this segment, you can start an auto body store with quality tools and equipment. Generally, you can provide services both the auto body repairing and new body building as well as selling spare parts and accessories related to the vehicle body.

3. Automobile Spare Parts Store


Automobile spare parts market is huge. The vehicle population is growing rapidly. Therefore, people always look for the several spare parts for their vehicles. In starting this business, you must study your local market demand. And start with either two-wheeler or four-wheeler spare parts. Never mix up in starting. The business demands moderate capital investment for keeping inventory.

4. CNC Machining Business


Many products that businesses use and sell are made through a highly precise process called computer numerical control (CNC) machining.

CNC is the process of mechanizing machine tools that are operated by precisely programmed commands encrypted on a storage medium as opposed to controlled manually by devices. The Machine Shop Services industry steadily expanding these days with a great revenue growth. Industrial machinery is one of the prominent end users of the market, owing to its varied applications such as pipe cutting, tube cutting, and welding preparations.

[ads1]

5. Computer Assembling


With an adequate knowledge in the computer hardware, you can start computer assembling business. In addition, the business demands comparatively small startup capital investment. Basically, computer assembling also allows the customized PC making service. Because of the high price of branded computer, many people go for high-configuration assembled computers.

6. E-vehicle Assembling


E-vehicle is getting immense popularity these days in the both developed and developing countries. And the reputed manufacturing companies are already trying to tap this market with giving the value-addition. Definitely, the business demands a lot of capital to start with.it demands strategic marketing and financial planning also.

7. E-waste Recycling


By starting an e-waste recycling business one can make money out of helping environment toxic free. The objective to start an e-waste recycling company is to create an opportunity to transfer e-waste into socially and industrially beneficial raw materials like valuable metals, plastics, glass etc. by using simple cost effective technology.

8. Generator Manufacturing


the generator provides a definite and alternate source of electricity at the time of power cut. An electrical generator is a device that generates electricity from mechanical energy, usually via electromagnetic induction. The diesel generators market is expected to grow from an estimated USD 13.06 Billion in 2015 to USD 16.96 Billion by 2020, at a CAGR of 5.4% from 2015 to 2020. Growing need for continuous power supply and increasing power outages are driving the diesel generators market worldwide.

9. LED Light Manufacturing


LED lights are available in wide range of colours from 2700K to 6500K which are dark, yellow, mild yellow and ultra white. Generally, LED consumes low energy and gives brighter performance compared to a bulb, CFL or tube light. The business demands moderate capital investment.it is advisable to study the market first to get an adequate idea about the current trends.

10. Machinery Designing


This in one of the most profitable knowledge-based business in the mechanical engineering field. Basically, the machine manufacturing companies highly depend on the designer. Nowadays, you can also use 3d technology instead of create costly machine models.  Though the machine design procedure is not standard, there are some common steps you can follow. These can be followed as per the requirements wherever and whenever necessary.

11. Machinery Distribution & Installation


Machine is an integral part of our life. And any type of domestic or commercial operation involves different types of machine operation. Apart from the manufacturing industry, the retail, construction, transport and other industries also look for the differnt type of machines for the smooth operation. You can start distribution and installation of the machinery in your area. However, it is advisable to start with a targetted niche audience.

12. Nut Bolt Manufacturing


Nut bolts are industrial fasteners.They are widely used in the various industrial purpose. You can start nut bolt manufacturing business as small scale basis. Additionally, the small-scale operation demands small startup capital investment also.

Nuts and bolts are key industrial fasteners that are used in every machines, structures and products. These are light engineering products and do not require heavy investments. You will also get enough clients for these products as there are lots of SMEs who look for nuts and bolts in small and huge quantities.

13. Solar Panel Installation


solar is the best source of the alternate energy solution. And the solar panel is the most cost-effective way of getting solar energy for the household or industrial purpose. Installation of the panels has been deemed as a lucrative business as it gives huge profits with minimal investment and manpower. Solar panels can be placed on the roof of homes, businesses, or remote research stations, and can be used independently of or in conjunction with the local power grid.

14. Solar Product Manufacturing


different types of traditionally and innovative solar products are getting huge popularity these days. Some of the popular items are solar LED lantern, street light, solar CFL inverter, torch etc. The manufacturing technology is available. Additionally, you can procure the raw materials from the local wholesale market.

15. Welding Unit


A welding shop with portable welding facility is a profitable business to start. However, you need to have an uncontrollable desire to succeed and enjoy dealing with people. When it comes to welding skills, it is not easy to give a one-size-fits-all answer simply because welding is involved in so many industries. However, you must have the basic knowledge and skill for starting the business.

16. Product Assembly Service


This business involves assembling of products for manufacturers who are looking to save up on their expenses while also giving young entrepreneurs the chance to earn something. This particular business will give you the freedom to work with multiple companies at your own pace and comfort.

17. Mechanical Engineering Consultancy Firm


Apart from mechanical skills, math skills, creativity and communication skills, which you have learned in your college, you need practical experience in designing, testing, manufacturing, tools, and machines to shine in this field. As a mechanical engineering consultant, most of your tasks will revolve around solving problems in real-world scenarios. There are many businesses that are looking for a consultancy that would support them in mechanical engineering services.

18. Supply Chain Management


You can make good money from supply chain management. This refers to several activities including the production, design, and transportation of raw materials for the final products, as well as quality control and distribution of the final products to the end customers. Here, your role will be to help the manufacturers make the supply chain process easier and smoother by designing cost-effective ways for them.

19. Chemical Industry Machines Designing


As a mechanical engineer, you can put your skills to good use in the chemical industry by designing machines that can be used in producing chemicals.

20. Scrap Metal Business


There are a great number of options open to the creative entrepreneur who is considering starting a recycling business focusing on scrap metals. You can specialize and operate a scrap metal depot that sells various reclaimed metals to metal recycling companies.

this is a good choice for a recycling business start-up, and the investment can vary from a few thousand dollars to hundreds of thousands of dollars.

We hope this list of 20 most profitable mechanical engineering business ideas will help you in starting your own business in the field.


मैकेनिकल इंजीनियरिंग में करियर


 

 

बुधवार, 8 अप्रैल 2020

मैकेनिकल इंजीनियरिंग के बाद नौकरी दिलाने वाले पाठ्यक्रम



ME के बाद नौकरी दिलाने वाले पाठ्यक्रम


मैकेनिकल इंजीनियरिंग


मैकेनिकल इंजीनियरिंग सबसे पुराने और व्यापक विषयों में से एक इंजीनियरिंग विषय है. यह मशीन्स और टूल्स की डिजाइनिंग, प्रोडक्शन और ऑपरेशन के लिए हीट और मैकेनिकल पॉवर के उत्पादन और इस्तेमाल से संबद्ध है. इस फील्ड में करियर शुरू करने वाले छात्रों के लिये यह बहुत जरुरी है कि उन्हें कोर कन्सेप्ट्स जैसेकि, मैकेनिक्स, कीनेमेटीक्स, थर्मोडायनामिक्स, मेटीरियल साइंस, स्ट्रक्चरल एनालिसिस आदि की अच्छी समझ होनी चाहिए. इन कोर्सेज में मुख्यतः टेक्निकल एरियाज जैसेकि जनरेटर्स के माध्यम से इलेक्ट्रिसिटी का डिस्ट्रीब्यूशन, ट्रांसफार्मर्स, डिजाइनिंग, इलेक्ट्रिक मोटर्स, ऑटोमोबाइल्स, एयरक्राफ्ट और अन्य हैवी व्हीकल्स शामिल हैं.

मैकेनिकल इंजीनियर्स क्या करते हैं?


मैकेनिकल इंजीनियरिंग आपके जीवन के तकरीबन हरेक पहलू को प्रभावित करती है. अधिकांश चीज़ें, जो हम अपनी रोजाना की जिंदगी में इस्तेमाल करते हैं, उन्हें मैकेनिकल इंजीनियर्स ही डिज़ाइन और डेवलप करते हैं. उदाहरण के लिए, माइक्रो-सेन्सर्स, कंप्यूटर्स, ऑटोमोबाइल्स, स्पोर्ट्स इक्विपमेंट, मेडिकल डिवाइसेज, रोबोट्स और कई अन्य वस्तुएं. हमारे जीवन को ज्यादा बेहतर बनाने के लिए इन नई डिवाइसेज और इक्विपमेंट से मदद मिलती है.

मैकेनिकल इंजीनियरिंग के लिए टॉप 10 इंस्टिट्यूट्स


भारत में इंजीनियरिंग कोर्सेज करने के लिए सबसे बढ़िया कॉलेजों के तौर पर ‘इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजीज़’ अर्थात आईआईटी’ज माने जाते हैं. एनआईआरएफ रैंकिंग वर्ष 2018 के अनुसार, भारत में यूजीसी से मान्यताप्राप्त टॉप 10 इंजीनियरिंग कॉलेज निम्नलिखित हैं:

इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी मद्रास, मद्रास

इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी बॉम्बे, बॉम्बे

इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी खड़गपुर, खड़गपुर

इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी दिल्ली, दिल्ली

इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी कानपुर, कानपुर

इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी रुड़की, रुड़की

इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी, गुवाहाटी

अन्ना यूनिवर्सिटी, चेन्नई

जादवपुर यूनिवर्सिटी, कोलकाता

इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी हैदराबाद, हैदराबाद

ME के बाद नौकरी दिलाने वाले पाठ्यक्रम

मैकेनिकल इंजीनियरिंग करियर क्षेत्र



  • एयरोस्पेस इंजीनियर

  • मोटर वाहन इंजीनियर

  • सिविल इंजीनियर को अनुबंध करना

  • नियंत्रण और इंस्ट्रूमेंटेशन इंजीनियर

  • मेंटेनेंस इंजीनियर

  • यांत्रिक इंजीनियर

  • परमाणु इंजीनियर


मैकेनिकल इंजीनियरिंग के उपकरण लगभग सभी क्षेत्र में इस्तेमाल किए जाते हैं शायद ही ऐसा कोई क्षेत्र होगा जहां पर मैकेनिकल की मशीनें या उपकरण का इस्तेमाल ना किया जाए. इसीलिए जहां जहां पर भी मैकेनिकल इंजीनियरिंग से संबंधित उपकरण का इस्तेमाल होता है वहां पर एक मैकेनिकल इंजीनियर की जरूरत पड़ती है और एक मैकेनिकल इंजीनियर बड़ी ही आसानी से वहां पर नौकरी पा सकता है. नीचे आपको कुछ महत्वपूर्ण क्षेत्रों के नाम दिए गए हैं जहां पर एक मैकेनिकल इंजीनियर काम कर सकता है.

यहाँ मैकेनिकल इंजीनियर काम कर सकते हे


एयरोस्पेस
मोटर वाहन
निर्माण
ऊर्जा
विनिर्माण
रेलवे

प्लेसमेंट क्राइटेरिया


मैकेनिकल के छात्रों को आसानी से प्लेसमेंट मिल जाती है. जिसके लिए यूनिवर्सिटिज और संस्थान तय करती है कि छात्रों को किस आधार पर प्लेसमेंट के लिए चुना जाएगा.

[ads1]

मैकेनिकल इंजीनियरिंग के बाद लोकप्रिय रोजगार उत्पन्न करने वाले पाठ्यक्रमों की सूची


1. मैकेनिकल इंजीनियरिंग में एम.टेक

2. पाइपिंग डिजाइन और इंजीनियरिंग कोर्स

3. उपकरण डिजाइन में मास्टर ऑफ इंजीनियरिंग

4. रोबोटिक्स पाठयक्रम

5. मेक्ट्रोनिक्स पाठयक्रम

6. नैनो प्रौद्योगिकी

7. बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन में मास्टर्स

List of Business Ideas in Mechanical Engineering Field

1. मैकेनिकल इंजीनियरिंग में एम.टेक


मैकेनिकल इंजीनियरिंग में एम.टेक सबसे लोकप्रिय और उन्नत पाठ्यक्रम है। सभी प्रमुख संस्थान जैसे आईआईटी, एनआईटी, बीआईटीएस इत्यादि मैकेनिकल इंजीनियरिंग में एम.टेक पाठ्यक्रम की पेशकश करते हैं। यह बी.टेक के बाद किया जाने वाला दो वर्षीय पूर्णकालिक कार्यक्रम है, इंजीनियरिंग स्नातकों के लिए बी.टेक तीन वर्ष का अंशकालिक नियमित कार्यक्रम है। एम.टेक पाठ्यक्रम के लिए प्रवेश (बी.ई. /बी.टेक) स्नातक की डिग्री पर या इंजीनियरिंग में स्नातक योग्यता परीक्षण (गेट) की गणना और साक्षात्कार पर भी निर्भर करता है।

एम.टेक पाठ्यक्रम में मुख्य रुप से मैकेनिकल इंजीनियरिंग डिजाइन, औद्योगिक और प्रोडक्शन इंजीनियरिंग, थर्मल इंजीनियरिंग, ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग आदि शामिल हैं।

2. पाइपिंग डिजाइन और इंजीनियरिंग कोर्स


यह रोजगार उपलब्ध कराने वाला एक श्रेष्ठ पाठ्यक्रम है। यह छात्रों को उद्योग के लिए तैयार करता है। मैकेनिकल इंजीनियरिंग में ग्रेजुएशन पूरा करने के बाद यह विशेषज्ञों द्वारा सलाह देने वाले पाठ्यक्रमों में से एक है। सभी इंजीनियरिंग स्नातक इस पाठ्यक्रम को करने के योग्य नहीं हैं। पाइपिंग कोर्स में मैकेनिकल इंजीनियरिंग के विचारों को भी शामिल किया गया है, अन्य इंजीनियरिंग पृष्ठभूमि की तुलना में इस पाठ्यक्रम का अध्ययन करना मैकेनिकल (यांत्रिक) इंजीनियरों के लिए उचित होता है।

विभिन्न संस्थानों द्वारा प्रस्तुत पाठ्यक्रम



  • पाइपिंग डिजाइन और इंजीनियरिंग में एम.टेक

  • पाइपिंग डिजाइन इंजीनियरिंग में पीजी डिप्लोमा

  • पाइपिंग डिजाइन और प्रारूपण में सर्टिफिकेट कोर्स

  • सर्टिफिकेट कोर्स पाइप स्ट्रेस एनालिसिस

  • पाइपिंग टेक्नोलॉजी में डिप्लोमा


एम.टेक और पीजी डिप्लोमा पाठ्यक्रम 2 साल के पूर्णकालिक पाठ्यक्रम हैं, प्रमाण पत्र वाले पाठ्यक्रम थोड़े समय के हैं जिनकी अवधि 3 महीने से लेकर 1 वर्ष तक होती है।

रोजगार की संभावनाएं

पाइपिंग इंजीनियरिंग का कोर्स करने पर रासायनिक उद्योग, मर्चेंट नेवी, पेट्रोलियम रिफाइनरी सेक्टर, मैन्युफैक्चरिंग फर्म आदि में कैरियर के अवसर खुल जाते हैं। क्योंकि इन सभी क्षेत्रों में पाइपिंग विशेषज्ञों की बहुत बड़ी माँग होती है।

3. उपकरण डिजाइन में मास्टर ऑफ इंजीनियरिंग


यह मैकेनिकल इंजीनियरिंग में स्नातकों के लिए एक अत्यधिक लाभदायक पाठ्यक्रम है। यह दो वर्षीय पूर्णकालिक पाठ्यक्रम या थोड़े समय वाला डिप्लोमा और प्रमाणपत्र पाठ्यक्रम हो सकता है।

विभिन्न संस्थानों द्वारा दिए गए लंबी अवधि के पाठ्यक्रम



  • मैकेनिकल इंजीनियरिंग में सीएडी / सीएएम

  • मैकेनिकल इंजीनियरिंग में टूल डिजाइन

  • टूल में परास्नातक पाठयक्रम, डाय और मोल्ड (पिघलाना और ढलाई) डिजाइन

  • पोस्ट डिप्लोमा इन टूल डिजाईन

  • एडवांसड डिप्लोमा इन टूल एंड डाय मेकिंग (एडीटीडीएम)

  • एम. टेक (मेक्ट्रोनिक्स)


इसमें ऑटो सीएडी सीएनसी प्रोग्रामिंग, उपकरण डिजाइन, यूनिग्राफिक्स (सीएडी और सीएएम), कैटिया (सीएडी), एएनएसवाईएस (सीएई) सामग्री का विशेष विवरण और हीट ट्रीटमेंट, रिवर्स इंजीनियरिंग की अवधारणा, प्रेस टूल्स, डाइ कास्टिंग डाइस, प्लास्टिक ढालना आदि विशेषज्ञता के विषय हैं।

अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई), नई दिल्ली द्वारा मान्यता प्राप्त संस्थानों से इस पाठ्यक्रम को करना बेहतर है। हैदराबाद में सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ टूल डिजाइन संस्थान है जो टूल डिजाइनिंग पाठ्यक्रम के लिए प्रस्तावित है।

4. रोबोटिक्स पाठयक्रम


रोबोटिक्स मैकेनिकल इंजीनियरिंग स्नातकों के लिए एक उपयुक्त उन्नत पाठ्यक्रम है। यह रोबोट के डिजाइन और निर्माण का वैज्ञानिक अध्ययन है और मैकेनिकल इंजीनियरिंग के लिए उप-विशेषज्ञता वाला पाठयक्रम है। इंजीनियरिंग का यह क्षेत्र काफी उभर रहा है, जो कि रोबोट इंजीनियरों के लिए बहुत सारे कैरियर के अवसर प्रदान करता है।

रोबोट इंजीनियरों के लिए पाठ्यक्रमों की पेशकश



  • रोबोटिक्स में डिप्लोमा

  • रोबोटिक्स इंजीनियरिंग में मास्टर ऑफ इंजीनियरिंग

  • रोबोटिक्स में मास्टर ऑफ टेक्नोलॉजी

  • एडवांस रोबोटिक्स में मास्टर ऑफ इंजीनियरिंग

  • रोबोटिक्स और ऑटोमेशन इंजीनियरिंग में मास्टर ऑफ इंजीनियरिंग

  • मेक्ट्रोनिक्स इंजीनियरिंग में मास्टर ऑफ टेक्नोलॉजी

  • ऑटोमेशन एंड रोबोटिक्स में मास्टर ऑफ इंजीनियरिंग

  • ऑटोमेशन एंड रोबोटिक्स में मास्टर ऑफ टेक्नोलॉजी

  • आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस एंड रोबोटिक्स में मास्टर ऑफ टैक्नोलॉजी


कुछ प्रमुख विश्वविद्यालय जैसे आईआईटी, जादवपुर विश्वविद्यालय (कोलकाता), हैदराबाद विश्वविद्यालय, थापर इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग टेक्नोलॉजी, एसआरएम यूनिवर्सिटी, (कट्टमकुलाथुर चेन्नई) आदि इन पाठ्यक्रमों की पेशकश कर रहे हैं।

[ads1]

रोजगार की संभावनाएं

रोबोट इंजीनियरों के लिए अंतरिक्ष अनुसंधान संगठनों में, माइक्रोचिप का निर्माण करने वाले उद्योगों में, सेना में, चिकित्सा और मोटर वाहन उद्योगों में प्रायोगिक रोबोटिक्स बनाने के लिए अच्छे रोजगार की संभावनाएं हैं।

5. मेक्ट्रोनिक्स पाठयक्रम


मेक्ट्रोनिक्स, मैकेनिकल इंजीनियरों हेतु उच्च अध्ययन करने के लिए एक आगामी पाठ्यक्रम है। यह यांत्रिकी, सूचना विज्ञान, इलेक्ट्रॉनिक्स, स्वचालन और रोबोटिक्स जैसे पाँच विषयों का एक संयोजन है।

पाठ्यक्रम की प्रस्तुति



  • मेक्ट्रोनिक्स इंजीनियरिंग में मास्टर ऑफ इंजीनियरिंग

  • मेक्ट्रोनिक्स इंजीनियरिंग में मास्टर ऑफ टेक्नोलॉजी


मेक्ट्रोनिक्स में पोस्ट ग्रेजुएट कार्यक्रमों के लिए किसी व्यक्ति को मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से यांत्रिक, इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रॉनिक्स, इंस्ट्रूमेंटेशन, और दूरसंचार में विशेषज्ञता के साथ बीए / बीटेक होना चाहिए।

इन प्रमुख पाठ्यक्रमों की पेशकश में वीआईटी विश्वविद्यालय (वेल्लोर), कर्पगम कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग (कोयंबटूर), राजलक्ष्मी इंजीनियरिंग कॉलेज (थंडलम, चेन्नई) और मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (चेन्नई) शामिल हैं।

रोजगार की संभावनाएं

मेक्ट्रोनिक्स में एमई / एम.टेक को पूरा करने के बाद इलेक्ट्रॉनिक्स उद्योग, ऑटोमोबाइल, निर्माण, खनन, परिवहन, गैस और तेल, रक्षा, रोबोटिक्स, एयरोस्पेस और विमान, सेना, नौसेना, वायुसेना आदि में रोजगार के अवसर मुख्य रूप से मिलते हैं।

6. नैनो प्रौद्योगिकी


यह मैकेनिकल इंजीनियरिंग स्नातकों के लिए उच्च अध्ययन का श्रेष्ठ विकल्प है। इसमें एप्लाइड साइंस, इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी का अध्ययन किया जाता है।

पाठ्यक्रमों की प्रस्तुति



  • नैनो टेक्नोलॉजी में मास्टर ऑफ टेक्नोलॉजी

  • नैनो टेक्नोलॉजी में मास्टर ऑफ साइंस

  • नैनो टेक्नोलॉजी में मास्टर ऑफ इंजीनियरिंग


नैनो टेक्नोलॉजी में परास्नातक पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए, किसी व्यक्ति को भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान, गणित या मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से बीटेक में मैकेनिकल / बायोमेडिकल / बायो टेक्नोलॉजी / इलेक्ट्रॉनिक्स / कंप्यूटर विज्ञान जैसे विषयों में 50% अंकों के साथ स्नातक होना चाहिए।

विशेषज्ञता वाले विषय



  • सिरेमिक इंजीनियरिंग

  • ग्रीन नैनो टेक्नोलॉजी

  • नैनो-बायो टेक्नोलॉजी

  • पदार्थ विज्ञान

  • नैनो मैकेनिक्स

  • नैनोआर्किटेकटॉनिक्स

  • नैनो इंजीनियरिंग

  • वेट नैनो टेक्नोलॉजी


नैनोटेक्नोलॉजी में एम.टेक पाठयक्रम भारत में बहुत कम संस्थानों जैसे जादवपुर विश्वविद्यालय (कोलकाता), एनआईटी (कालीकट), एमिटी इंस्टीट्यूट ऑफ नैनोटेक्नोलॉजी, अमृता विश्वविद्यापीठ और बिरला इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (रांची) इत्यादि में किया जा सकता है।

रोजगार की संभावनाएं

नैनो टेक्नोलॉजी (जैव प्रौद्योगिकी) की औद्योगिक उत्पादों, इलेक्ट्रॉनिक्स, स्वास्थ्य बाजार, पर्यावरण उद्योगों और दवा उद्योगों के साथ बायो टेक्नोलॉजी में सलाहकार, सरकारी संस्थानों में अनुसंधान और विकास, निजी अनुसंधान संस्थानों में और उत्पाद में विकास और सलाह आदि के लिए काफी माँग है।

7. बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन में मास्टर्स


इतना ही नहीं, मैकेनिकल इंजीनियरिंग स्नातकों के लिए किसी व्यावसायिक स्कूलों या संस्थानों से प्रबंधन या एमबीए एक लोकप्रिय स्नातकोत्तर डिप्लोमा पाठ्यक्रम है। प्रबंधकीय पदों में नौकरी पाने में एमबीए के साथ इंजीनियरिंग की डिग्री बहुत सहायक है। यह कैरियर के विकल्पों को चुनने के लिए एक विस्तृत विकल्प प्रदान करता है।

List of Business Ideas in Mechanical Engineering Field

मैकेनिकल इंजीनियरिंग में करियर

मैकेनिकल इंजीनियरिंग में करियर



मैकेनिकल इंजीनियरिंग क्या है? (What is Mechanical Engineer)


मैकेनिकल इंजीनियरिंग सबसे पुराने और व्यापक विषयों में से एक इंजीनियरिंग विषय है. यह मशीन्स और टूल्स की डिजाइनिंग, प्रोडक्शन और ऑपरेशन के लिए हीट और मैकेनिकल पॉवर के उत्पादन और इस्तेमाल से संबद्ध है. इस फील्ड में करियर शुरू करने वाले छात्रों के लिये यह बहुत जरुरी है कि उन्हें कोर कन्सेप्ट्स जैसेकि, मैकेनिक्स, कीनेमेटीक्स, थर्मोडायनामिक्स, मेटीरियल साइंस, स्ट्रक्चरल एनालिसिस आदि की अच्छी समझ होनी चाहिए. इन कोर्सेज में मुख्यतः टेक्निकल एरियाज जैसेकि जनरेटर्स के माध्यम से इलेक्ट्रिसिटी का डिस्ट्रीब्यूशन, ट्रांसफार्मर्स, डिजाइनिंग, इलेक्ट्रिक मोटर्स, ऑटोमोबाइल्स, एयरक्राफ्ट और अन्य हैवी व्हीकल्स शामिल हैं.

मैकेनिकल इंजीनियर्स क्या करते हैं?


मैकेनिकल इंजीनियरिंग आपके जीवन के तकरीबन हरेक पहलू को प्रभावित करती है. अधिकांश चीज़ें, जो हम अपनी रोजाना की जिंदगी में इस्तेमाल करते हैं, उन्हें मैकेनिकल इंजीनियर्स ही डिज़ाइन और डेवलप करते हैं. उदाहरण के लिए, माइक्रो-सेन्सर्स, कंप्यूटर्स, ऑटोमोबाइल्स, स्पोर्ट्स इक्विपमेंट, मेडिकल डिवाइसेज, रोबोट्स और कई अन्य वस्तुएं. हमारे जीवन को ज्यादा बेहतर बनाने के लिए इन नई डिवाइसेज और इक्विपमेंट से मदद मिलती है.

इंजीनियर का ये एक एशा ब्रांच है जो सबसे पुराण और सबसे top ब्रांचो में से एक इसके अंदर स्टूडेंट को वो हर चीज theory और practical knowledge दी जाती है जो उसे mechanical engineer में चाहिए होती है और इस के अंदर खास बात ये है की आपको इसमें सबसे जायदा प्रैक्टिकल ज्ञान दिया जाता है.

यानी की मशीन कैसे बनती है मशीन तैयार कैसे होती है और कैसे मशीन ख़राब होती है मशीन की स्ट्रक्चर कैसे तैयार होती है और कोई भी कंपनी किसी चीज को कैसे बनाती है ये सारा ज्ञान आपको इस कोर्स में दिया जाता है जिससे आप एक बेहतर इंजीनियर बन पाते है।

अगर आपको मशीन से लगाओ बहुत जायदा रहता है आपको किसी मशीन को बनाने में बड़ा मज़ा आता है तो ये कोर्स आपके लिए बेस्ट हो सकता है लेकिन दोस्तों इसके अंदर आपको मेहनत बहुत करना होगा अगर आप एक होनहार मैकेनिकल इंजीनियर बनना चाहते हो तो.

मैकेनिकल इंजीनियर्स के लिए करियर प्रॉस्पेक्ट्स


मैकेनिकल इंजीनियरिंग में कई अन्य कार्यों के साथ ही मशीन्स की डिजाइनिंग और टेस्टिंग के विभिन्न पहलू शामिल हैं. इस जॉब में विभिन्न फ़ील्ड्स जैसेकि, थर्मल पॉवर प्लांट्स, न्यूक्लियर स्टेशन्स, इलेक्ट्रिसिटी जनरेशन आदि में लाइव प्रोजेक्ट्स की प्लानिंग और सुपरविज़न के कार्य आते हैं. इस फील्ड में रिन्यूएबल एनर्जी, ऑटोमोबाइल्स, क्वालिटी कंट्रोल, इंडस्ट्रियल ऑटोमेशन आदि कुछ नई और ऐमर्जिंग फ़ील्ड्स हैं. इंजीनियरिंग में अंडरग्रेजुएट डिग्रीज प्राप्त करने के बाद छात्रों के लिए मैन्युफैक्चरिंग, प्रोडक्शन, सर्विसेज और डेवलपमेंट की विभिन्न फ़ील्ड्स में जॉब के काफी अच्छे अवसर मौजूद हैं. आजकल हम मशीन्स के युग में जी रहे हैं और जहां एक मशीन है, वहां एक मैकेनिकल इंजीनियर की जरूरत है. इसलिये, मैकेनिकल इंजीनियर्स के लिए कभी भी जॉब ऑप्शन्स की कमी नहीं हो सकती है.

मैकेनिकल इंजीनियरिंग में मुख्य विषय


मैकेनिकल इंजीनियरिंग में शामिल कुछ मुख्य विषय निम्नलिखित हैं:

• कम्प्यूटेशनल फ्लुइड डायनेमिक्स एंड हीट ट्रांसफर

• कंप्यूटर एडेड डिजाइन ऑफ़ थर्मल सिस्टम

• फंडामेंटल्स ऑफ़ कास्टिंग एंड सॉलिडीफिकेशन

• इंडस्ट्रियल इंजीनियरिंग एंड ऑपरेशन रिसर्च

• मॉडलिंग ऑफ़ टरबूलेंट कम्बस्शन

• प्रिंसिपल ऑफ़ वाइब्रेशन कंट्रोल

• रेलरोड व्हीकल डायनामिक्स

• रोबोट मैनिपुलेटर्स डायनामिक्स एंड कंट्रोल

• ट्रांजीशन एंड टर्बुलेंस

• वेव प्रोपेगेशन इन सोलिड्स


मैकेनिकल इंजीनियरिंग के बाद नौकरी दिलाने वाले पाठ्यक्रम
job oriented Courses after mechanical engineering in hindi

मैकेनिकल इंजीनियर्स के लिए लोकप्रिय जॉब प्रोफाइल्स


मैकेनिकल इंजीनियर्स अपने स्पेशलाइजेशन के आधार पर बहुत-सी इंडस्ट्रीज में काम कर सकते हैं. मैकेनिकल इंजीनियर्स के लिए कुछ पसंदीदा जॉब प्रोफाइल्स निम्नलिखित हैं:

आर्किटेक्चरल एंड इंजीनियरिंग मैनेजर्स


आर्किटेक्चरल और इंजीनियरिंग मैनेजर्स आर्किटेक्चरल और इंजीनियरिंग कंपनियों में प्लानिंग, डायरेक्टिंग, मैनेजिंग और कोआर्डिनेटिंग एक्टिविटीज से संबद्ध कार्य करते हैं.

[ads1]

ड्राफ्टर्स


इस जॉब में इंजीनियर्स और आर्किटेक्ट्स द्वारा बनाये गये डिज़ाइन्स को टेक्निकल ड्राइंग में बदलने के लिए सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करना शामिल है ताकि माइक्रोचिप्स और स्काईस्क्रेपर्स जैसी चीज़ों को डिज़ाइन करने में मदद मिल सके. कोई भी उम्मीदवार आर्किटेक्चर, सिविल, इंजीनियरिंग, मैकेनिकल एवं अन्य संबद्ध फ़ील्ड्स में स्पेशलाइजेशन कर सकता है.

मेटीरियल इंजीनियर्स


इस प्रोफाइल में नये मेटीरियल्स बनाने के लिए मेटल्स, सिरेमिक्स, प्लास्टिक, कंपोजिट्स, नैनोमेटीरियल्स और विभिन्न अन्य वस्तुओं की प्रॉपर्टीज और स्ट्रक्चर की स्टडी की जाती है. एक मेटीरियल इंजीनियर के तौर पर आप माइक्रोचिप्स से एयरक्राफ्ट्स विंग्स तक और गोल्फ क्लब्स से बायोमेडिकल डिवाइसेज आदि तक प्रोडक्ट्स की व्यापक रेंज तैयार करने के लिए इस्तेमाल होने वाले मेटीरियल्स की प्रोसेसिंग, टेस्टिंग और डेवलपिंग से संबद्ध कार्य भी करेंगे.

मैकेनिकल इंजीनियरिंग टेकनीशियन्स


मैकेनिकल इंजीनियरिंग टेकनीशियन्स विभिन्न मैकेनिकल डिवाइसेज को डिज़ाइन करने, डेवलप करने, उनकी मैन्युफैक्चरिंग और टेस्टिंग में मैकेनिकल इंजीनियर्स की सहायता करते हैं. आपको रफ लेआउट्स बनाने, डाटा एनालाइसिंग और रिकॉर्डिंग, कैलकुलेशन्स करने, एस्टिमेट्स लगाने और प्रोजेक्ट्स के नतीजों की रिपोर्टिंग से संबद्ध कार्य करने होंगे.

न्यूक्लियर इंजीनियर्स


न्यूक्लियर इंजीनियर्स हमारे फायदे के लिए न्यूक्लियर एनर्जी और रेडिएशन का इस्तेमाल करने के लिए उपयोगी प्रोसेस और सिस्टम्स के रिसर्च और विकास कार्य करते हैं.

पेट्रोलियम इंजीनियर्स


एक पेट्रोलियम इंजीनियर के तौर पर आपको ऑयल डिपॉजिट्स से ऑयल और गैस निकालने के लिए विभिन्न मेथड्स को डिज़ाइन और डेवलप करने से संबद्ध कार्य करने होंगे.

फिजिसिस्ट्स एंड एस्ट्रोनोमर्स


फिजिसिस्ट्स एंड एस्ट्रोनोमर्स एनर्जी और मैटर के इंटरेक्शन के विभिन्न रूपों के तौर-तरीकों की स्टडी करते हैं. कुछ फिजिसिस्ट्स पार्टिकल एक्सेलरेटर्स, इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोप्स, लेज़र्स आदि जैसे सोफिस्टिकेटेड इक्विपमेंट को डिज़ाइन करते हैं और उन के साथ एक्सपेरिमेंट्स भी करते हैं.

सेल्स इंजीनियर्स


सेल्स इंजीनियर्स विभिन्न बिजनेसेज को जटिल साइंटिफिक और टेक्नोलॉजिकल प्रोडक्ट्स बेचते हैं. एक सेल्स इंजीनियर के तौर पर आपको अपने प्रोडक्ट, इसके पार्ट्स और कार्यों की काफी अच्छी जानकारी होनी चाहिए. आपको प्रोडक्ट के कामकाज में शामिल वैज्ञानिक प्रक्रिया की अच्छी समझ भी होनी चाहिए.


मैकेनिकल इंजीनियरिंग के बाद नौकरी दिलाने वाले पाठ्यक्रम
job oriented Courses after mechanical engineering in hindi

लोकप्रिय रिक्रूटर्स


गवर्नमेंट और प्राइवेट सेक्टर्स में मैकेनिकल इंजीनियर्स को जॉब के बढ़िया अवसर ऑफर करने वाले कुछ लोकप्रिय रिक्रूटर्स के नाम नीचे दिए जा रहे हैं:

गवर्नमेंट सेक्टर


• भारत हेवी इलेक्ट्रिकल लिमिटेड (बीएचईएल)

• नेशनल थर्मल पावर कॉर्पोरेशन (एनटीपीसी)

• इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन (इसरो)

• डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन (डीआरडीओ)

• कोल इंडिया

• इलेक्ट्रॉनिक्स कॉरपोरेशन ऑफ़ इंडिया (ईसीआईएल)

• हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल)

• स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया (सेल)

प्राइवेट सेक्टर


• टाटा मोटर्स

• बजाज ऑटो

• हीरो मोटोकॉर्प

• लेलैंड मोटर्स

• फोर्ड मोटर कंपनी

• होंडा मोटर कंपनी

• भाभा एटॉमिक रिसर्च सेटर (बीएआरसी)

 

[ads1]

Short term courses after mechanical engineering are –



  • AutoCAD 2D & 3D

  • Ansys

  • Pro/E

  • CNC Training

  • Catia

  • CAD/CAM Training

  • Unigraphics

  • Boiler Operator Training

  • Diploma in Tool Design

  • RADIOSS Training

  • Mechatronics and Robotics Diploma

  • Fire & Safety Course

  • Piping Design Training

  • PG Safety

  • HyperMesh Training


long-term courses offered by various universities :



  • Certification in CAD/CAM

  • Certification in Tool Design

  • Post Diploma Course in Tool, Die & Mould Design

  • Advanced Diploma in Tool & Die Making (ADTDM)

  • B.Tech (Mechatronics)


मैकेनिकल इंजीनियर की सैलरी


दोस्तों अगर आप एक मैकेनिकल इंजीनियर बन जाते हो तो आपकी सैलरी कम से कम 20 हजार से 40 तक हो सकती है ये एक स्टार्टिंग सैलरी है और आप एक जूनियर इंजीनियर हो तो आपको कम से कम 10 हजार से 20 हजार तक हो सकती है और जैसे जैसे आपका एक्सपेरिएंस बढ़ते जायगा आपकी सैलरी भी बढ़ते जायगी.

मैकेनिकल इंजीनियरिंग में करियर

मैकेनिकल इंजीनियरिंग के टॉप 5 कंपनियां


टाटा ग्रुप

किर्लोस्कर ग्रुप

गोजरेज ग्रुप

लार्सन एंड टुब्रो ग्रुप

थिसेन क्रुप


List of Business Ideas in Mechanical Engineering Field



मैकेनिकल इंजीनियरिंग के बाद नौकरी दिलाने वाले पाठ्यक्रम
job oriented Courses after mechanical engineering in hindi



भारतीय छात्रों को नीदरलैंड में पढ़ने के लिए मिल रही स्कॉलरशिप

शुक्रवार, 3 अप्रैल 2020

माथे पर कुंकू (कुमकुम) तिलक लगाने के फायदे


 

कुंकू (कुमकुम) तिलक क्यों लगाते है


हिंदू धर्म में पूजन के वक्त माथे पर कुमकुम का तिलक लगाने की परंपरा है। तिलक को माथे पर छोटी सी बिंदी के रूप में या खड़े रूप में भौहों के मध्य लगाया जाता है। तिलक करने से व्यक्त‍ित्व प्रभावशाली होता है। आत्मविश्वास और आत्मबल में भरपूर इजाफा होता है।

वैज्ञानिक दृष्टिकोण से तिलक लगाने से दिमाग में शांति, तरावट एवं शीतलता बनी रहती है। मेघाशक्ति बढ़ती है तथा मानसिक थकावट विकार नहीं होता।

कुंकू हल्दी पाउडर का मिश्रण है और इसके द्वारा बनाई गई पदार्थ है। यह रंग में लाल है इसका उपयोग भगवानों और माथे की पूजा में भी किया जाता है। इसका उपयोग भाग्य और कॉस्मेटिक डिवाइस के रूप में भी किया जाता है। यदि ट्रंक सूखा है, तो इसे एक वर्णक कहा जाता है अगर नारंगी गीली होती है, इसे गंध कहा जाता है दो प्रकार के कोंकावा हैं यह खुशबू उपयोग में है

आम तौर पर चंदन, कुमकुम, मिट्टी, हल्दी, भस्म आदि का तिलक लगाने का विधान है. अगर कोई तिलक लगाने का लाभ तो लेना चाहता है, पर दूसरों को यह दिखाना नहीं चाहता, तो शास्त्रों में इसका भी उपाय बताया गया है. कहा गया है कि ऐसी स्थ‍िति में ललाट पर जल से तिलक लगा लेना चाहिए. टीका लगाने के पीछे आध्यात्म‍िक भावना के साथ-साथ दूसरे तरह के लाभ की कामना भी होती है.

माथे पर तिलक लगाने का क्या महत्व है


भारत के सिवा और कहीं भी मस्तक पर तिलक लगाने की प्रथा शायद ही कहीं और भी प्रचलित हो। यह हिन्दू रीति रिवाज अत्यंत प्राचीन है। माना जाता है कि मनुष्य के मस्तक के मध्य में विष्णु भगवान का निवास होता है, और तिलक ठीक इसी स्थान पर लगाया जाता है। तिलक लगाना देवी की आराधना से भी जुड़ा है।

स्नस्कार और तिलक की प्रथा


भारतीय धर्म में जब भी कोई धार्मिक कार्य, शुभ काम, यात्रा किया जाना होता है तब उसमे सिद्धि प्राप्त करने के लिए तिलक संस्कार किया जाता है। सिर पर तिलक लगाकर इस कार्य की शुभ सिद्धि के लिए कामना की जाती है।देवी की पूजा करने के बाद माथे पर तिलक लगाया जाता है। तिलक देवी के आशीर्वाद का प्रतीक माना जाता है।

तिलक लगाने के फायदे


1. शरीर पर बहुत सी जगह पर ऐसे पॉईंट्स होते है जीने हम एक्यूप्रेशर पॉइंट कहते है जिन के मदत से हम तकलीफ से निजात पा सकते है , वैसे ही भोओ के बीच की इस जगह को बहुत संवेदनशील माना जाता है। इसी जगह पर बिंदिया के लगाने के कारण सर दर्द से राहत दिलाने मे मदत करती है।


2. मस्तिष्क को शांती प्रदान करती है जिससे अनिद्रा चिडचिडापण जेसे बीमारियो को दूर रखने मे मदत करती है।

3 . ऐसा माना जाता है की एक बिंदु की तरफ ध्यान लगाने से एकाग्रता बढ़ती है ये शरीर का ऐसा भाग है जहा पर हमारे शरीर की हर एक संवेदना केंद्रित होती है, जो एकाग्र होणे मदत करती है और यहापर लगा बिंदिया या तीलक उत्प्रेरक का काम करता है।

4. इसी जगह कि मसाज मात्र से वहा की नाड़ीया खुल जाती है जिससे बंदनाक से भी छुटकारा पा सकते है ।

[ads1]

5 . तिलक करने से व्यक्त‍ित्व प्रभावशाली हो जाता है. दरअसल, तिलक लगाने का मनोवैज्ञानिक असर होता है, क्योंकि इससे व्यक्त‍ि के आत्मविश्वास और आत्मबल में भरपूर इजाफा होता है.

6 . ललाट पर नियमित रूप से तिलक लगाने से मस्तक में तरावट आती है. लोग शांति व सुकून अनुभव करते हैं. यह कई तरह की मानसिक बीमारियों से बचाता है.

7. दिमाग में सेराटोनिन और बीटा एंडोर्फिन का स्राव संतुलित तरीके से होता है, जिससे उदासी दूर होती है और मन में उत्साह जागता है. यह उत्साह लोगों को अच्छे कामों में लगाता है.

8. इससे सिरदर्द की समस्या में कमी आती है.

9. हल्दी से युक्त तिलक लगाने से त्वचा शुद्ध होती है. हल्दी में एंटी बैक्ट्र‍ियल तत्व होते हैं, जो रोगों से मुक्त करता है.

10. धार्मिक मान्यता के अनुसार, चंदन का तिलक लगाने से मनुष्य के पापों का नाश होता है. लोग कई तरह के संकट से बच जाते हैं. ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक, तिलक लगाने से ग्रहों की शांति होती है.

11. माना जाता है कि चंदन का तिलक लगाने वाले का घर अन्न-धन से भरा रहता है और सौभाग्य में बढ़ोतरी होती है.

12.हल्दी से युक्त तिलक लगाने से त्वचा शुद्ध होती है। हल्दी में एंटी बेक्ट्रियल तत्व होते हैं, जो रोगों से मुक्त करता है।


कुमकुमार्चन पूजा


अध्यात्म क्या है

Like Us

लोकप्रिय पोस्ट