गुरुवार, 26 मार्च 2020

कॉल करके गैस कैसे बुक करें


 

Phone se Gas Cylinder Kaise Book Kare :-


how to book gas cylinder by call in hindi

वर्तमान समय में रसोई gas इंसान की एक ऐसी जरूरत है जिसके बिना दिन की गाड़ी आगे नहीं बढ़ सकती है। गैस बुकिंग में जबसे परिवर्तन करते हुए इसे online किया गया है तबसे आम आदमी की कई असुविधाएं खत्म हो गयी है। अब गैस के लिए लम्बीं-लम्बी लाइन में नहीं लगना पड़ता है और न ही लाइन में लगने पर गैस खत्म होने की चिंता है। आम तौरपर रसोई की कमान महिलाओं के ही हाथों में होती है जहां पहले रसोई की चिंता लगी रहती थी परन्तु अब ऐसा नहीं हैं।


घर की रसोई गैस इंसान की ऐसी जरूरत है जिसके बिना इंसान के दिन की गाड़ी आगे नहीं बढ़ती है। एक दिन सुबह-सुबह या रात में अगर अचानक से गैस खत्म हो जाये तो अच्छे-अच्छों की बैंड बज जाती है। आम तौर पर महिलाओं के ही हाथ में रसोई की कमान होती है। इसलिए सिलेंडर बुक कराने की जिम्मेदारी भी उन पर होती है जिसके लिए उन्हें घंटों लाइनों में खड़ा होना होता है जिसके कारण उनकी हेल्थ और समय दोनों की ही बर्बादी होती है। आजकल बड़े शहरों में तो गैस की फोन पर बुकिंग होती है। लेकिन अधिकांश महिलाओं को इस सर्विस के बारे में पता ही नहीं होता है। इसलिए आईये हम आपको बताते हैं कि आप फोन पर गैस कैसे बुक कर सकते हैं।


how to book gas cylinder by call in hindi

गैस सिलेंडर ऑनलाइन बुक कैसे करें

[ads1]

कॉल करके गैस कैसे बुक करें


१. कॉल करके गैस बुक करने के लिए सबसे पहले अपनी गैस कूपन बुक लें।

२. फिर अपने एरिया के IVRS (Interactive voice response system) नंबर की जरूरत पड़ेगी।

३. IVRS नंबर आपकी कूपन बुक के पहले पेज पर लिखा है।

४. IVRS पर कॉल करें और निर्देशों को ध्यान से सुनें।

५. जिस भाषा में आप बात करना चाहते है , वह वह भाषा चुन लें।

६. भाषा विकल्प चुनने के बाद, सिस्टम ग्राहक को STD कोड सहित डिस्ट्रीब्यूटर के टेलीफोन नंबर को दर्ज करने के लिए कहेगा।

७. नंबर दबाते ही आपकी एजेंसी का नाम ऑनलाइन कंफर्म हो जाएगा।

८. इसके बाद सिस्टम के मांगे जाने पर उपभोक्ता संख्या दर्ज करें।

९, इसके बाद सिस्टम फिर से उपभोक्ता संख्या की पुष्टि करेगा।

१०. इसके बाद सिस्टम रीफिल बुकिंग और अन्य सेवाओं के लिए विकल्प मांगेगा। जैसे गैस बुक करने के लिए 1 दबाएं, शिकायत के लिए 2 दबाएं, पिछली बुकिंग की जांच के लिए 3 दबाएं।।

११. गैस बुक करने के लिये सिस्टम द्वारा बताये गये नंबर को दबाकर गैस बुक करें।

१२. यदि बुकिंग सफलतापूर्वक हुई है, तो आईवीआर सिस्टम द्वारा आपकी गैस बुकिंग नंबर बोला जायेगा।

१३. गैस बुकिंग नंबर sms द्वारा आपके रजिस्टर्ड मोबाईल पर भी भेजा जायेगा।

१४. अब सिस्टम आपके द्वारा किये गये फ़ोन नंबर को व्यक्तिगत पंजीकरण के रूप में सेट करने के लिए कहेगा। अब आपका मोबाइल नंबर 1 दबाकर पंजीकृत किया जा सकता है

१५. सिस्टम प्रक्रिया पूरी होने की जानकारी के साथ बता देगा कि गैस कितने दिन में मिलेगी।

१६. आपको एसएमएस के जरिए भी कन्फर्मेशन ऑफ डिलीवरी मिलेगी आपको एसएमएस के जरिए भी कन्फर्मेशन ऑफ डिलीवरी मिलेगी

note :-अगर आप अपने रजिस्टर्ड मोबाईल नंबर से IVRS गैस बुक करते हैं तो आपको सीधे गैस बुक करने के लिए पूछा जायेगा। एवं सभी गैस कंपनियों के सलेंडर इसी तरह बुक होंगे।

गैस सिलेंडर ऑनलाइन बुक कैसे करें


ATM के बारेमे सबकुछ जानिए यहाँ 

गैस सिलेंडर ऑनलाइन बुक कैसे करें


 



वर्तमान समय में रसोई gas इंसान की एक ऐसी जरूरत है जिसके बिना दिन की गाड़ी आगे नहीं बढ़ सकती है। गैस बुकिंग में जबसे परिवर्तन करते हुए इसे online किया गया है तबसे आम आदमी की कई असुविधाएं खत्म हो गयी है। अब गैस के लिए लम्बीं-लम्बी लाइन में नहीं लगना पड़ता है और न ही लाइन में लगने पर गैस खत्म होने की चिंता है। आम तौरपर रसोई की कमान महिलाओं के ही हाथों में होती है जहां पहले रसोई की चिंता लगी रहती थी परन्तु अब ऐसा नहीं हैं।
गैस कम्पनियों ने गैस की कालाबाजारी को रोकने के लिए online gas booking सिस्टम तैयार किया है। देश की प्रमुख गैस कंपनियों ने मोबाइल के जरिए online गैस बुकिंग की सुविधा दी हुई है। इसमें आप SMS करके , call करके और गैस कंपनियों के मोबाईल ऐप वेबसाइट माध्यम से अपना गैस सिलेंडर बुक करा सकते हैं।

ऑनलाइन गैस बुक करने के देश की तीनों मुख्य गैस कंपनियों


Indane, HP और Bharatgas

Indane, HP और Bharatgas की एक जैसी ही प्रक्रिया हैं नीचे ऑनलाइन गैस बुक करने के लिए स्टेप by स्टेप बताया जा रहा है , इन तरीकों से Gas Cylinder Kaise Book Kare। ऑनलाइन गैस बुक करने के लिये सबसे पहले अपनी गैस कंपनी के वेबसाइट पर जाना होगा फिर अगर आप पहले से ही वेबसाइट पर रजिस्टर्ड है तो सीधे लॉग इन कर सकते है नहीं तो पहले रजिस्टर्ड करना होगा ,रजिस्टर्ड होने के बाद ही गैस बुक की जा सकती है।

गैस सिलेंडर ऑनलाइन बुक कैसे करें


1. अपनी गैस कंपनी की वेबसाइट पर जाते ही आपको इस प्रकार का पेज दिखेगा।
2. यहाँ Book Your Cylinder पर क्लिक करें।

[caption id="attachment_1243" align="aligncenter" width="300"]how to book gas cylinder online in hindi how to book gas cylinder online in hindi[/caption]

3. अगला पेज इस प्रकार का होगा यहाँ online click to Book पर क्लिक करें।
4. online click to Book पर क्लिक करने के बाद आप login पेज पर जायेंगे।

[caption id="attachment_1244" align="aligncenter" width="300"]how to book gas cylinder online in hindi how to book gas cylinder online in hindi[/caption]

5. यहां लॉगिन और रजिस्टर्ड करने के लिए दो कॉलम हैं।
6. अगर आप पहले से रजिस्टर्ड हैं तो login करें।
7. रजिस्टर्ड नहीं हैं तो रजिस्टर्ड करने के लिये क्लिक करें।

[caption id="attachment_1245" align="aligncenter" width="300"]how to book gas cylinder online in hindi
how to book gas cylinder online in hindi[/caption]

8. यहाँ consumer registration फॉर्म आयेगा।
9. इसमें distributor की जानकारी भरें।
10. साथ ही अपना कंज्यूमर नंबर और बाकि मांगी गयी जानकारी भरें।
11. फॉर्म पूरा भरने के बाद सबमिट कर लें।



12. registration फॉर्म सबमिट होने बाद आपके मोबाईल या ईमेल पर एक लिंक आयेगा उस लिंक से आप अपना यूजर नेम और पासवर्ड सेट कर लें फिर आप login कर सकते हैं।

13. लॉगिन पेज पर जाने के बाद अपनी लॉगिन आईडी और पासवर्ड डालें।
14. फिर कैप्चा भर कर लॉगिन पर क्लिक करें।

[caption id="attachment_1248" align="aligncenter" width="300"]how to book gas cylinder online in hindi
how to book gas cylinder online in hindi[/caption]

15. इसके बाद आपके सामने आपकी पूरी डिटेल आ जायेगी। इसी डिटेल के नीचे रिफिल बुकिंग पर क्लिक करके आप अपनी बुकिंग कर सकते हैं

16.गैस बुक हो जाने पर आपकी स्क्रीन पर बुकिंग नंबर दिखेगा।
साथ ही आपका बुकिंग नंबर आपको sms से भी भेजा जायेगा।

*ध्यान दें की सभी गैस कंपनियों में गैस बुक करने या रजिस्टर्ड करने के तरीके एक से ही हैं इनमे थोड़ा कुछ अंतर जानकारी मांगने का है बाकि सारी प्रक्रिया स्टेप by स्टेप एक जैसी हैं।


ATM के बारेमे सबकुछ जानिए यहाँ 

मंगलवार, 24 मार्च 2020

ATM कैसे जनरेट करे


 




ATM क्या हे


ATM एक एसी मशीन है जिसके द्वारा हम उसके अंदर ATM कार्ड डालकर पैसे निकलवा और जमा भी करवा सकते हैं. ATM हम कहें तो एक किस्म का बैंक ही होता है लेकिन वह भी बैंक के द्वारा ही जारी किया जाता है ATM मशीन का वैसे तो हमें बहुत फायदा है लेकिन हम जो कागज संबंधित बैंक के काम होते हैं और वह ATM से नहीं कर सकते हैं पैसे पैसे निकलवाने और जमा करवाने के लिए ATM का बहुत ही फायदा है ATM से हम पैसे निकलवा लेते हैं और बैंक में जाने की जरूरत ही नहीं पड़ती और एटीएम बहुत सी ऐसी जगह पर भी होते हैं जहां पर बैंक ऐसा भी मिले. अगर आपके पास ATM कार्ड है तो आप ATM से अपना पैसा कभी भी निकलवा सकते हैं और भारत में ATM लगभग 24 घंटे उपलब्ध मिलते हैं और अगर नहीं भी मिलते तो बैंक से तो ज्यादा समय ही खुले मिलते हैं तो एटीएम का हमारे जीवन में बहुत बड़ा महत्व है.

एटीएम (ATM)-ATM Full Form


आटोमेटिड टैलर मशीन (Automated Teller Machine)

ATM का पूरा नाम हिंदी मे


इसका हिंदी नाम स्वचालित गणक मशीन है. इसे आटोमेटिक बैंकिंग मशीन(Automatic banking machine), कैश पाइंट (Cash Point) , बैंनकोमैट (Bankomat) भी कहते हैं,

ATM Kaise Generate Kare

ATM कैसे जनरेट करे


सभी बैंकों ने एटीएम पिन जनरेशन की प्रक्रिया को अपने खाताधारक के लिए परेशानी मुक्त प्रक्रिया बनाने के लिए एक नई सुविधा शुरू की है जिसमें खाताधारक कुछ ही समय में अपने स्वयं का एटीएम पिन जनरेट कर सकते है।
SBI खाताधारक या अन्य बैंकों के खाताधारक भी नीचे दिए गए चरणों का पालन करके अपना एटीएम पिन जनरेट कर सकते है:

Step 1: Visit Nearest ATM


SBI ATM पिन जनरेट करने की प्रक्रिया शुरू करने के लिए सबसे पहले आपको अपने निकटतम SBI ATM पर जाना होगा।

Step 2: Insert ATM Card


फिर, आपको अपना एटीएम कार्ड एटीएम मशीन में इन्सर्ट करना होगा अब स्क्रीन पर पिन जनरेशन के विकल्प को सिलेक्ट करना है।

Step 3: Enter Account Number


जिस अकाउंट नंबर पर एटीएम कार्ड दिया गया है वह 11 अंकों का एसबीआई खाता नंबर दर्ज करें।

[caption id="attachment_1232" align="aligncenter" width="256"]ATM Kaise Generate Kare ATM Kaise Generate Kare[/caption]

Step 4: Enter Mobile Number


अब रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर दर्ज करें और ‘Confirm’ बटन पर प्रेस करे।

[caption id="attachment_1233" align="aligncenter" width="262"]ATM Kaise Generate Kare ATM Kaise Generate Kare[/caption]

Step 5: Display Confirmation Message


अब SBI ATM पर सफलता पूर्वक SBI PIN जनरेशन का Confirmation मैसेज प्रदर्शित होगा।

[caption id="attachment_1234" align="aligncenter" width="262"]ATM Kaise Generate Kare ATM Kaise Generate Kare[/caption]

Step 6: Generate PIN


इसके बाद खाताधारक के पंजीकृत मोबाइल नंबर पर एक OTP प्राप्त होगा जिसे दर्ज करने बाद आप अपने PIN जनरेट कर सकते है।

एटीएम क्या है और ATM कैसे काम करता है

एटीएम कैसे चलाएं(how to use ATM in hindi)

एटीएम कैसे चलाएं


 

ATM क्या हे


ATM एक एसी मशीन है जिसके द्वारा हम उसके अंदर ATM कार्ड डालकर पैसे निकलवा और जमा भी करवा सकते हैं. ATM हम कहें तो एक किस्म का बैंक ही होता है लेकिन वह भी बैंक के द्वारा ही जारी किया जाता है ATM मशीन का वैसे तो हमें बहुत फायदा है लेकिन हम जो कागज संबंधित बैंक के काम होते हैं और वह ATM से नहीं कर सकते हैं पैसे पैसे निकलवाने और जमा करवाने के लिए ATM का बहुत ही फायदा है ATM से हम पैसे निकलवा लेते हैं और बैंक में जाने की जरूरत ही नहीं पड़ती और एटीएम बहुत सी ऐसी जगह पर भी होते हैं जहां पर बैंक ऐसा भी मिले. अगर आपके पास ATM कार्ड है तो आप ATM से अपना पैसा कभी भी निकलवा सकते हैं और भारत में ATM लगभग 24 घंटे उपलब्ध मिलते हैं और अगर नहीं भी मिलते तो बैंक से तो ज्यादा समय ही खुले मिलते हैं तो एटीएम का हमारे जीवन में बहुत बड़ा महत्व है.

एटीएम (ATM)-ATM Full Form


आटोमेटिड टैलर मशीन (Automated Teller Machine)

ATM का पूरा नाम हिंदी मे


इसका हिंदी नाम स्वचालित गणक मशीन है. इसे आटोमेटिक बैंकिंग मशीन(Automatic banking machine), कैश पाइंट (Cash Point) , बैंनकोमैट (Bankomat) भी कहते हैं,

ATM Kaise Use Kare (एटीएम कैसे चलाएं)


आपके पास Punjab National Bank, स्टेट बैंक, यूनियन बैंक, सेंट्रल बैंक आदि किसी भी बैंक का एटीएम क्यों ना हो सभी से ATM Se Paise Kaise Nikale का तरीका एक ही होता है बस जो प्रक्रिया होती है वह थोड़ी बहुत अलग हो सकती है। तो अगर आप भी State Bank ATM Se Paise Kaise Nikale, Central Bank ATM Se Paise Kaise Nikale, Union Bank ATM Se Paise Kaise Nikale इस बारे में जानना चाहते है तो इसके लिए आपको ATM Kaise Use Kare के बारे में स्टेप बाय स्टेप निचे बताया गया है बस आपको उन्हें फॉलो करना है:

Step 1: Insert Your Card


सबसे पहले आपको किसी ATM Machine Room में जाना है, अब एटीएम कार्ड को मशीन के कार्ड स्लॉट में डालना है, और एटीएम कार्ड को 2-3 सेकंड बाद निकाल लेना है। आपको बता दे की बहुत सी एटीएम मशीन में ATM Card अंदर भी चला जाता है जो लेन-देन (Transaction) पूरा होने के बाद अपने आप बाहर भी आ जाता है।

how to use ATM in hindi

Step 2: Choose Language


ATM Card को Insert करने के बाद आपसे भाषा चुनने के लिए कहा जाएगा जैसे –

Hindi
English

इन दोनों विकल्प (Option) को चुनने करने के लिए दोनों विकल्प के पास अलग-अलग बटन होते है, आपको जिस भाषा में ATM Card Use करना है, उस बटन को दबाए। अगर ATM Machine Touch Screen की है तो आप स्क्रीन पर टच करके भी अपना विकल्प चुन सकते है।

Step 3: Enter Your PIN


भाषा का चयन करने के बाद आपको अपने ATM Card का पिन नंबर (Pin Number) डालना है, पिन नंबर डालते समय इस बात का अवश्य ध्यान रखना चाहिए की पीछे से कोई व्यक्ति आपका पिन नंबर नही देख रहा हो।

Step 4: Request a Transaction


एक बार आपकी पहचान की पुष्टि हो जाने के बाद, आपके सामने Transactions के कुछ विकल्प दिखेंगे जैसे:

Fast Cash
Cash Withdrawal
Balance Enquiry
Mini Statement

आप जब भी पैसे निकालेंगे (Withdrawal) तो आपको इन विकल्पों में से Cash Withdrawal के विकल्प को चुनना है, वैसे आप Fast Cash का विकल्प भी चुन सकते है, लेकिन Cash Withdrawal के विकल्प में आप अपने अनुसार Amount दर्ज करके पैसे निकाल सकते है जितना Amount आप निकालना चाहते है।

how to use ATM in hindi

Step 5: Select Account


Cash Withdrawal विकल्प को चुनने के बाद आपको 2 विकल्प दिखाई देंगे:

From Current (चालू खाता)
From Saving (बचत खाता)

इसमें आपको From Saving के विकल्प को चुनना है, अगर आपका Saving Account हो तो, यदि आप Current Account चुनते है तब भी पैसे निकल जाएँगे।

Step 6: Enter Amount


अब आपको स्क्रीन पर कृपया अपनी राशि दर्ज करे (Please Enter Amount) लिखा हुआ दिखेगा, आप जितने पैसे निकालना चाहते है उतना Amount डाले। Amount भी ऐसा होना चाहिए जो ATM Machine में उपलब्ध रहता हो, जैसे कि- 2000₹, 500₹, 100₹ आदि। यदि आप कुछ इस तरह से Amount डालेंगे जैसे कि- 350₹, 250₹ इत्यादि तो पैसे नही निकलेंगे।

Step 7: Select Yes


अब Amount डालने के बाद एटीएम मशीन की स्क्रीन पर Right Side में 2 विकल्प दिखेंगे:

Press If Yes
Press If No

मतलब आपने जो Amount डाला है वह सही है और आप पैसे निकालना चाहते है तो Yes दबाये, यदि आपने जो Amount डाला है वह गलत है या आप पैसे नही निकालना चाहते है तो No दबाये।

Step 8: Click For Get Slip


अब आपसे पूछा जाएगा की आप Transaction के बाद Slip चाहते है या नही, अगर आप Slip चाहते है तो Yes पर क्लिक करे और अगर नही चाहते है तो No पर क्लिक करे।

Step 9: Transaction In Processing


अब आपके सामने स्क्रीन पर दिखेगा Your Transaction Being Process Please Wait. अब आपको ATM Machine से Vibration की आवाज़ आएगी जिससे पता लगता है की ATM Machine में पैसों की Counting हो रही है। अब 5 सेकंड बाद आपका Cash ATM Machine से बाहर आ जाएगा।

Step 10: Press Cancel Button


अब ATM मशीन से नकद (Cash) लेने के बाद आप Slip निकलने तक रुके और Slip लेने के बाद Cancel के Button को Press करके उसे Cancel कर दे।

एटीएम क्या है और ATM कैसे काम करता है

एटीएम कैसे चलाएं(how to use ATM in hindi)

ATM कैसे जनरेट करे

सोमवार, 23 मार्च 2020

एटीएम क्या है और ATM कैसे काम करता है


 


एटीएम क्या है


ATM एक एसी मशीन है जिसके द्वारा हम उसके अंदर ATM कार्ड डालकर पैसे निकलवा और जमा भी करवा सकते हैं. ATM हम कहें तो एक किस्म का बैंक ही होता है लेकिन वह भी बैंक के द्वारा ही जारी किया जाता है ATM मशीन का वैसे तो हमें बहुत फायदा है लेकिन हम जो कागज संबंधित बैंक के काम होते हैं और वह ATM से नहीं कर सकते हैं पैसे पैसे निकलवाने और जमा करवाने के लिए ATM का बहुत ही फायदा है ATM से हम पैसे निकलवा लेते हैं और बैंक में जाने की जरूरत ही नहीं पड़ती और एटीएम बहुत सी ऐसी जगह पर भी होते हैं जहां पर बैंक ऐसा भी मिले. अगर आपके पास ATM कार्ड है तो आप ATM से अपना पैसा कभी भी निकलवा सकते हैं और भारत में ATM लगभग 24 घंटे उपलब्ध मिलते हैं और अगर नहीं भी मिलते तो बैंक से तो ज्यादा समय ही खुले मिलते हैं तो एटीएम का हमारे जीवन में बहुत बड़ा महत्व है.

एटीएम (ATM) का पूरा नाम -ATM Full Form


आटोमेटिड टैलर मशीन (Automated Teller Machine)

एटीएम (ATM) का पूरा नाम हिंदी मे


इसका हिंदी नाम स्वचालित गणक मशीन है. इसे आटोमेटिक बैंकिंग मशीन(Automatic banking machine), कैश पाइंट (Cash Point) , बैंनकोमैट (Bankomat) भी कहते हैं,

What is ATM Card and How It Works

ATM का आविष्कार किसने किया


यह मशीन एक ऐसी स्वचालित व कंप्यूटरीकृत मशीन है जो ग्राहकों को वित्तीय हस्तांतरण से जुड़ी सेवाएं उपलब्ध कराता है जिसमे हम रुपए निकल और जमा कर सकते है बस अपना एटीएम कार्ड डालो और पिन कोड भरो और रुपए निकाल सकते है जितने चाहे पर इनकी एक लिमिट होती है की एक दिन में उस लिमिट से ज्यादा रुपए नही निकाल सकते है इस हस्तांतरण प्रक्रिया में ग्राहक को कैशियर, क्लर्क या बैंक टैलर की मदद की आवश्यकता नहीं होती है और शुरु में करीब 1960 के दशक में इसे बैंकोग्राफ के नाम से जाना जाता था मौटे मौर, लंदन और न्यूयॉर्क में सबसे पहले इससे प्रयोग में लाए जाने के उल्लेख मिलते हैं.

एटीएम की सबसे पहली पीढ़ी का प्रयोग 27 जून, 1967 में लंदन के बार्केले बैंक ने किया था। इससे पहले 1960 के दशक में एटीएम (ATM) को बैंकोग्राफ नाम से जाना जाता था, माना जाता है कि लंदन में इसका सबसे पहले इस्तेमाल हुआ और इसके आविष्कार का श्रेय जॉन शेफर्ड बैरन (John Shepherd-Barron) को दिया जाता है. उनका जन्म ब्रिटिशकालीन भारत में 23 जून 1925 को मेघालयके शिलॉन्ग में हुआ था

बैरन एटीएम का पिन 6 डिजिट का करने के पक्ष में थे, लेकिन उनकी पत्नी ने उनसे कहा कि 6 डिजिट ज्यादा है और लोग इसे याद नहीं रख पाएंगे। इस कारण बाद में उन्होंने चार डिजिट का एटीएम पिन बनाया। आज भी चार डिजिट का ही पिन चलन में है।

भारत में पहली बार 1987 में एटीएम की सुविधा शुरू हुई थी। भारत में पहला एटीएम हॉगकॉग एंड शंघाई बैंकिंग कॉरपोरेशन (एचएसबीसी) ने मुंबई में लगाया था। वर्तमान में एटीएम का प्रयोग दिनचर्या का महत्त्वपूर्ण अंग बन गया है।

What is ATM Card and How It Works

कैसे काम करता है एटीएम (ATM)


एटीएम एक तरह का डाटा टर्मिनल (Data Terminal) होता है, जिसमें मोनीटर, की-बोर्ड माउस जैसे इनपुट और आउटपुट डिवाइस होते हैं। यह होस्ट प्रोसेसर (Host Processor) से जुड़ा होता है, जो बैंक और एटीएम के बीच कड़ी का काम करते हैं। इसके लिये इंटरनेट की मदद ली जाती है। इससे यूजर के एटीएम में एटीएम कार्ड डालते ही बैंक के होस्ट प्रोसेसर से जुड़ जाता है। ऐसे में वह बिना बैंक जाए ही अपने खाते से पैसा निकाल सकता है।

-हर ग्राहक के डेबिट या क्रेडिट कार्ड के पिछले हिस्से में एक खास Magnetic strip होती है, जिसमें उसकी पहचान संख्या व अन्य जरूरी जानकारियां कोड के रूप में होती हैं।

-जब ग्राहक कार्ड को एटीएम के कार्ड-रीडर में डालता है, तो एटीएम मैग्नेटिक स्ट्रिप में छिपी इन जानकारियों को पढ़ लेता है।

-यह जानकारी जब होस्ट प्रोसेसर के पास पहुंचती है, तो वह ग्राहक के बैंक से ट्रांजेक्शन का रास्ता साफ करता है।

-जब ग्राहक कैश निकालने का विकल्प चुनता है तो होस्ट प्रोसेसर और उसके बैंक अकाउंट के बीच एक Electronic Fund Transfer प्रक्रिया होती है।

-इस प्रक्रिया के पूरा होते ही होस्ट प्रोसेसर एटीएम को एक अप्रूवल कोड भेजता है। यह कोड एक तरह से मशीन को पैसा देने के आदेश के समान होता है।

सावधानियां


एटीएम पर कूट डालते हुए ध्यान दें कि बाहर से कोई देख न रहा हो।

वर्तमान युग में एटीएम का प्रयोग मानव दिनचर्या का महत्त्वपूर्ण अंग बन गया है। अतएव एटीएम प्रयोग करते समय कुछ सावधानियां आवश्यक हैं। इन सावधानियों को ध्यान में न रखने पर बेवजह की कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

एटीएम से पैसा निकालते समय, खासकर रात के समय तो एक साथी को लेकर अवश्य जाएं।

एटीएम कार्ड को पहले से बाहर निकाल कर रखें। मशीन के पास पहुंचने पर अपने पर्स आदि से निकालने में समय न लगाएं। रात के समय इस बात का खासतौर पर ख्याल रखें कि कोई संदेहास्पद व्यक्ति आपके आसपास न हो।

कोशिश करें अगर ज्यादा रकम निकालने जा रहे हैं तो ऐसे क्षेत्र का एटीएम चुने जो तुलनात्मक तौर पर अधिक सुरक्षित हो।

एटीएम का प्रयोग करते समय ध्यान रखें कि कोई आपका पिन नम्बर न देख पाए। अव्वल तो कोई आपके साथ एटीएम केबिन में अनजाना व्यक्ति मौजूद ही नहीं होना चाहिए। अपने शरीर से एटीएम की-पेड को कवर रखें।

एटीएम मशीन से निकलने के बाद निकाली गई राशि को गिने जरूर पर यह भी ध्यान रखें कि ऐसा करते समय किसी की निगाहें आप पर न हों।

मशीन से प्राप्त रसीद को अपने पास जरूर रखें और इसका मिलान अपने अपने बैंक स्टेटमेंट से अवश्य करें। अगर कोई समस्या हो तो संबंधित बैंक से संपर्क करें।

पिन नम्बर को याद रखें। अगर याद नहीं हो पाता है तो उसे ऐसी जगह लिखकर रखें जहां सिर्फ आप की ही पहुंच हो। एटीएम का प्रयोग करते समय इसका बेहद सावधानी से प्रयोग करें और इसे मशीन के आसपास रखा न छोड़े।

अपने फोन नम्बर, घर के पते, नाम या संकेताक्षरों आदि पर अपना पिन नम्बर न रखें।

पिन डालते समय कीपैड को अपने दूसरे हाथ से छुपाए रखें।

एटीएम क्या है और ATM कैसे काम करता है

एटीएम कैसे चलाएं(how to use ATM in hindi)

ATM कैसे जनरेट करे

WWW का आविष्कार किसने किया

शुक्रवार, 20 मार्च 2020

22 मार्च रविवार को 'जनता कर्फ्यू'


 


PM Modi Demands Janta Curfew To Fight Corona


कोरोना वायरस को लेकर दुनिया में हाहाकार मचा हुआ है. भारत में लगातार कोरोना वायरस के मामले बढ़ते जा रहे हैं. वहीं हिंदुस्तान में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या भी बढ़कर 4 हो चुकी है. इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस के मुद्दे पर देश को संबोधित किया. अपने संबोधन में पीएम मोदी ने इस रविवार 22 मार्च को सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक सभी देशवासियों को जनता कर्फ्यू का पालन करने की बात कही है., कई शहरों में धारा 144 लागू।

कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के बीच आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश से सीधा संवाद किया। उन्होंने कहा कि ये मत सोचिए कि सबकुछ ठीक है। वैश्विक महामारी से निश्चिंत होने की ये सोच ठीक नहीं है। मैं आज 130 करोड़ देशवासियों से ये मांगने आया हूं। मुझे आपके आने वाले कुछ सप्ताह चाहिए। मैं आपका समय मांगता हूं। विज्ञान अभी तक इसकी कोई दवाई या टीका नहीं बना पाया है। हर भारतवासी को सतर्क रहना जरूरी है।

उन्होंने कहा, सभी केंद्र व राज्य सरकारों के दिशा-निर्देशों का पालन करें। संकल्प लें कि हम खुद संक्रमित होने से बचेंगे और दूसरों को भी बचाएंगे। ऐसे समय में एक ही मंत्र काम करता है। हम स्वस्थ तो जग स्वस्थ। हमारा संकल्प और संयम इस वैश्विक बीमारी से बचाने में बहुत बड़ी भूमिका निभाने वाला है।

उन्होंने कहा कि 22 मार्च यानी रविवार को पूरे देश में 'जनता कर्फ्यू' लागू रहेगा. सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक कोई घरों से बाहर न निकले. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि जो लोग जरूरी सेवाओं में हैं वही बाहर आ सकते हैं. उन्होंने कहा कि नागरिक होने के नाते हमारा यह आत्मसंयम इसके अनुभव आने वाले चुनौतियों के लिए तैयार करेंगे. इसके लिए उन्होंने राज्य सरकारों से भी अपील की है. माना जा रहा है प्रधानमंत्री मोदी उस चेन को तोड़ना चाहते हैं जिससे इस बीमारी को लेवल-3 तक फैलने से रोका जा सके.

22 March Janta Curfew To Fight Corona


जानिए Coronavirus क्या है, बीमारी के लक्षण, इलाज और बचाव, और कैसे  इंसान में पहुंचा Corona Virus

रोजाना 10 लोगों को फोन कर जनता कर्फ्यू के बारे में बताएं


प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि संभव हो तो हर व्यक्ति प्रतिदिन कम से कम 10 लोगों को फोन करके कोरोना वायरस से बचाव के उपायों के साथ ही जनता-कर्फ्यू के बारे में भी बताएं. मैं आज प्रत्येक देशवासी से एक और समर्थन मांग रहा हूं. मेरा एक और आग्रह है कि हमारे परिवार में जो भी सीनियर सिटिजन्स हैं, 65 वर्ष की आयु के ऊपर के व्यक्ति हैं, वे आने वाले कुछ सप्ताह तक घर से बाहर न निकलें.

अस्पताल बहुत जरूरी होने पर ही जाएं


पीएम ने कहा कि संकट के समय में आपको ये भी ध्यान रखना है कि हमारी आवश्यक सेवाओं पर, हमारे हॉस्पिटलों पर दबाव निरंतर बढ़ रहा है. इसलिए मेरा आपसे आग्रह ये भी है कि रूटीन चेक-अप के लिए अस्पताल जाने से जितना बच सकते हैं, उतना बचें. जरूरत पड़ने पर फोन पर डॉक्टर की सलाह लें. ये कोरोना जैसी वैश्विक महामारी के खिलाफ लड़ाई के लिए भारत कितना तैयार है, ये देखने और परखने का भी समय है.

22 March Janta Curfew To Fight Corona

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने  कहे 10 बड़ी बातें


१ . पूरा विश्व इस समय संकट के गंभीर दौर से गुजर रहा है। आम तौर पर जब कोई प्राकृतिक संकट आता है तो वो कुछ देश या राज्यों तक सीमित रहता है। लेकिन इस संकट ने पूरी मानव जाति को संकट में डाल दिया है इन दो महीनों में भारत के 130 करोड़ नागरिकों ने कोरोना वैश्विक महामारी का डटकर मुकाबला किया है, आवश्यक सावधानियां बरती हैं.

२. लेकिन, बीते कुछ दिनों से ऐसा भी लग रहा है जैसे हम संकट से बचे हुए हैं, सब कुछ ठीक है. वैश्विक महामारी कोरोना से निश्चिंत हो जाने की ये सोच सही नहीं है. इसलिए, प्रत्येक भारतवासी का सजग रहना, सतर्क रहना बहुत आवश्यक है.

३. आपसे मैंने जब भी, जो भी मांगा है. मुझे कभी देशवासियों ने निराश नहीं किया है. मैं 130 करोड़ देशवासियों से आपसे, कुछ मांगने आया हूं. मुझे आपके आने वाले कुछ सप्ताह चाहिए, आपका आने वाला कुछ समय चाहिए.

४. मेरा सभी देशवासियों से ये आग्रह है कि आने वाले कुछ सप्ताह तक जब बहुत जरूरी हो तभी अपने घर से बाहर निकलें. जितना संभव हो सके, आप अपना काम, चाहे बिजनेस से जुड़ा हो, ऑफिस से जुड़ा हो, अपने घर से ही करें.

५. मैं आज प्रत्येक देशवासी से एक और समर्थन मांग रहा हूं. ये है जनता-कर्फ्यू. जनता कर्फ्यू यानि जनता के लिए जनता द्वारा खुद पर लगाया गया कर्फ्यू इस रविवार, यानि 22 मार्च को सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक सभी देशवासियों को जनता-कर्फ्यू का पालन करना है. कोरोना जैसी वैश्विक महामारी के खिलाफ लड़ाई के लिए भारत कितना तैयार है, ये देखने और परखने का भी समय है.

६. पिछले 2 महीनों से लाखों लोग अस्पतालों, एयरपोर्ट, शहरी की गलियों में दिन-रात काम में जुटे हुए हैं. चाहे डॉक्टर, नर्स, सफाई कर्मचारी, एयरलाइंस कर्मचारी, सरकारी कर्मचारी, रेलवे-बस कर्मचारी, होम डिलीवरी करने वाले लोग, ये अपनी परवाह न करते हुए दूसरों की सेवा में लगे हुए हैं.

७. मैं चाहता हूं कि 22 मार्च रविवार के दिन हम ऐसे सभी लोगों को धन्यवाद अर्पित करें. रविवार को ठीक 5 बजे हम अपने घर के दरवाजे पर खड़े होकर, बाल्कनी में, खिड़कियों के सामने खड़े होकर 5 मिनट तक ऐसे लोगों का आभार व्यक्त करें. पूरे देश के स्थानीय प्रशासन से भी मेरा आग्रह है कि 22 मार्च को 5 बजे सायरन की आवाज से इसकी सूचना लोगों तक पहुंचाएं. 'सेवा परमो धर्म' के हमारे संस्कारों को मानने वाले ऐसे देशवासियों के लिए हमें पूरी श्रद्धा के साथ अपने भाव व्यक्त करने होंगे.

८. संकट के इस समय में आपको ये भी ध्यान रखना है कि हमारी आवश्यक सेवाओं पर, हमारे अस्पतालों पर दबाव भी निरंतर बढ़ रहा है. इसलिए मेरा आपसे आग्रह ये भी है कि रूटीन चेक-अप के लिए अस्पताल जाने से जितना बच सकते हैं उतना बचें. कोरोना महामारी से उत्पन्न हो रही आर्थिक चुनौतियों को ध्यान में रखते हुए, वित्त मंत्री के नेतृत्व में सरकार ने एक कोविड-19 इकोनॉमिक रिस्पांस टास्क फोर्स (COVID-19-Economic Response Task Force) के गठन का फैसला लिया है.

९. मैं देशवासियों को आश्वस्त करता हूं कि देश में दूध, खाने-पीने का सामान, दवाइयां, जीवन के लिए ज़रूरी ऐसी आवश्यक चीज़ों की कमी ना हो इसके लिए तमाम कदम उठाए जा रहे हैं. ये सप्लाई कभी रोकी नहीं जाएगी। देशवासी जरूरी सामान संग्रह करने की होड़ न लगाएं.

१०. संकट के इस समय में मेरा देश के व्यापारी जगत, उच्च आय वर्ग से भी आग्रह है कि अगर संभव है तो आप जिन-जिन लोगों से सेवाएं लेते हैं, उनके आर्थिक हितों का ध्यान रखेंहो सकता है आने वाले दिनों में ये लोग दफ्तर न आ पाएं, आपके घर न आ पाएं. ऐसे में उनका वेतन न काटे, पूरी मानवीयता और संवेदनशीलता के साथ फैसला लें. हमेशा याद रखिएगा कि उन्हें भी अपना परिवार चलाना है, परिवार को बीमारी से बचाना है.


जानिए Coronavirus क्या है, बीमारी के लक्षण, इलाज और बचाव, और कैसे  इंसान में पहुंचा Corona Virus

गुरुवार, 19 मार्च 2020

फैशन डिजाइनिंग कोर्स की पूरी जानकारी




आज के समय हर व्यक्ति अपने लुक को लेकर इतना सजग हो गया है कि वह हरदम कुछ ऐसा पहनने की चाह रखता है, जो न सिर्फ दूसरों से अलग हो, बल्कि आपको ट्रैंडी भी दिखाएं। आपकी इस चाहत को पूरा करने का काम करते हैं फैशन डिजाइनर। अगर आपके पास भी कपड़े की समझ के साथ−साथ कुछ नया व हटकर करने की चाह है तो आप बतौर फैशन डिजाइनर अपना उज्ज्वल भविष्य बना सकते हैं।

कार्यक्षेत्र


एक फैशन डिजाइनर का कार्यक्षेत्र सिर्फ कपड़ों को डिजाइन करने तक ही सीमित नहीं है, बल्कि उसे हर समय इस बात का भी ध्यान रखना होता है कि वर्तमान में ग्लोबली क्या ट्रैंड हैं। साथ ही उसे ध्यान में रखकर हमेशा कुछ नया करने का प्रयास करना होता है। एक फैशन डिजाइनर के कार्यक्षेत्र में कपड़ों को डिजाइन करने के साथ−साथ उसे पूरा करने तक अपना बेस्ट देना होता है। अर्थात कपड़ों की स्टिचिंग के अतिरिक्त टीम के साथ मिलकर समय पर काम पूरा करना भी उसका कार्यक्षेत्र है।

Fashion Designing Course details

योग्यता


जो छात्र 12वीं के बाद फैशन डिजाइनिंग क्षेत्र में जाना चाहते हैं, उनके लिए Fashion Designing एक सर्वश्रेष्ठ कोर्स है|

इस कोर्स के अंतर्गत डिप्लोमा और डिग्री दोनों आते है तो कुछ लोग इस क्षेत्र में डिप्लोमा करने की सोचते है और कुछ डिग्री दोनों ही अपने आप में बेस्ट होते है,

फैशन डिजाइन सांस्कृतिक और सामाजिक व्यवहारों से प्रभावित होता है, और समय और स्थान के साथ विविध होता है|

फैशन डिजाइन और सौंदर्यशास्त्र या कपड़ों और सहायक उपकरण के लिए प्राकृतिक सौंदर्य के आवेदन की कला है।

फैशन डिजाइनर कपड़े और सामान जैसे कंगन और हार के डिजाइन करने में कई तरीकों से काम करते हैं। फैशन डिजाइनर उन कपड़ों को डिजाइन करने का प्रयास करते हैं जो कार्यात्मक होते हैं और साथ ही साथ सौंदर्यशास्त्र में सुखदायक होते हैं।

इस क्षेत्र में भविष्य देख रहे छात्रों के लिए ग्रेजुएशन करना आवश्यक नहीं है। आप चाहें तो दसवीं या बारहवीं के बाद भी शॉर्ट टर्म कोर्स करके इस क्षेत्र में कदम रख सकते हैं। आपको इस क्षेत्र में तीन माह से लेकर एक वर्ष तक के कोर्स मिलेंगे।

वहीं डिप्लोमा कोर्स एक साल से लेकर चार साल तक होता है। आप अपनी सुविधानुसार इनका चयन कर सकते हैं। कोर्स के दौरान छात्रों को न सिर्फ लेटेस्ट डिजाइन व ट्रैंड की जानकारी दी जाती है। बल्कि सिलाई के बेसिक जैसे कपड़े की कटाई से लेकर उसकी सिलाई तक के बारे में बताया जाता है। आपको पहले अपने डिजाइन को कागज पर उतारना होता है, उसके बाद कपड़े पर।

Fashion Designing के बाद स्कोप/करियर


फैशन डिजाइनिंग का कोर्स करने के बाद आप कई जगह काम की तलाश कर सकते हैं। सबसे पहले खुद के गुणों में निखार करने के लिए आप किसी बड़ी फैशन डिजाइनिंग के अंडर ट्रेनिंग ले सकते हैं।

इसके बाद आप किसी कपड़े की कंपनी या फैशन हाउस में बतौर फैशन डिजाइनर काम कर सकते हैं। अगर आप किसी के साथ जुड़कर काम नहीं करना चाहते तो बतौर फ्रीलांसर भी अपनी सेवाएं दे सकते हैं।

फिल्म और टीवी इंडस्ट्री में भी अच्छे कॉस्टयूम डिजाइनर व फैशन डिजाइनर की डिमांड रहती है। आप चाहें तो वहां पर भी सपंर्क कर सकते हैं।

इसके अतिरिक्त अगर आप खुद का कुछ शुरू करना चाहते हैं तो आप बुटीक खोल सकते हैं या फिर अपने द्वारा डिजाइन किए गए कपड़ों की प्रदर्शनी लगा सकते हैं या फिर उनका बड़े स्तर पर निर्यात भी किया जा सकता है।

आप अपने काम को प्रदर्शित करने के लिए ऑनलाइन बाजार का भी सहारा ले सकते हैं। ऐसे में आप कुछ लेटेस्ट ट्रैंड में यूनिक टिवस्ट के साथ ऑनलाइन दुनिया में अपने डिजाइन पेश कीजिए। धीरे−धीरे आपकी पकड़ इस क्षेत्र में बहुत अच्छी हो जाएगी।

Fashion Designing करने वाले छात्र मूल डिज़ाइन बनाकर या स्थानीय परिस्थितियों, प्रवृत्तियों और खरीदारों के अनुरूप फ़ेशन बनाने के लिए कपड़े परिधान और सहायक उपकरण के लिए नई शैलियों और उत्पादों का विकास कर सकते हैं।

Fashion Designing करने वाले छात्र वस्त्र डिजाइनिंग भी कर सकते हैं|

Fashion Designing Course details

फैशन डिजाइनिंग कोर्स की अवधि


फैशन डिजाइनिंग कोर्स की अवधि डिप्लोमा में एक से दो साल तथा डिग्री में चार साल होती है| यह कार्यक्रम अद्वितीय है क्योंकि यह फैशन और डिजाइन उद्योग के विभिन्न क्षेत्रों के अंतर्संबंधों को दर्शाता है जिससे आधुनिक दुनिया में प्रक्रियाओं, तकनीकों और तकनीक के विविध ज्ञान तक पहुंच प्राप्त हो सके। इस क्षेत्र में प्रतिभागियों को वस्त्र, फैशन और डिजाइन आदि की जानकारी दी जाती है,जिसमें प्रबंधन के आवश्यक कौशल भी शामिल हैं।

Fashion Designing में फीस


फैशन डिजाइनिंग कोर्स में एडमिशन फीस सभी कॉलेजों में अलग-अलग होती है इस कोर्स में कम से कम फीस 21000 से 50,000 तक होती है कुछ कॉलेज जैसे…

  • NATIONAL INSTITUTE OF FASHION TECHNOLOGY, DELHI में फीस 195,500 है|

  • NATIONAL INSTITUTE OF FASHION TECHNOLOGY, MUMBAI में फीस 6,85,000 है|

  • NIFT-TEA COLLEGE OF KNITWEAR FASHION, DELHI में फीस 6,79,000 है

  • PEARL ACADEMY, DELHI में फीस 2.5 लाख से 3.5 लाख पर सेमेस्टर है |


Fashion Designing के बाद सैलरी:(आमदनी)


इस क्षेत्र में आपकी आमदनी इस बात पर निर्भर करेगी कि आप किसी कंपनी में जॉब करते हैं या फिर अपना खुद का बिजनेस शुरू करते हैं। अगर आप कहीं पर जॉब करते हैं तो शुरूआती दौर में आप 15000 रूपए प्रतिमाह आसानी से कमा सकते हैं, वहीं धीरे−धीरे अनुभव के साथ आपकी आमदनी प्रतिमाह 50000 तक भी आसानी से कमाए जा सकते हैं। इसके अतिरिक्त अगर आप अनुभवी और टैलेंटेड हैं तो आप खुद का बिजनेस शुरू करके लाखों कमा सकते हैं।

Fashion Designing Course details

Fashion Designing में एडमिशन:



  • एक मान्यताप्राप्त बोर्ड से कक्षा 12 पास वाले उम्मीदवार फैशन डिजाइनिंग कोर्स करने के हकदार होते है।

  • फैशन डिजाइनिंग कोर्स में एडमिशन लेने के लिए 10 + 2 में 50% अंकों होने चाहिए|

  • प्रमुख संस्थानों में, प्रवेश लिखित परीक्षा, स्थिति परीक्षण, समूह चर्चा और साक्षात्कार के माध्यम से होता है।

  • भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान और गणित के साथ मध्यवर्ती उत्तीर्ण हुए छात्र, फैशन डिजाइनिंग में स्नातक पाठ्यक्रम के लिए पात्र हैं। कोई विशेष न्यूनतम प्रतिशत आवश्यक नहीं है

  • जो उम्मीदवार उन्नत (A) स्तर पर सामान्य सर्टिफिकेट परीक्षा पास कर चुके हैं, वे भी इसके लिए पात्र हैं।


Fashion Designing के लिए टॉप कॉलेज - भारत के कुछ बेस्ट कॉलेजो की सूची


-नेशनल इंस्टीटयूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी, नई दिल्ली।

-नेशनल इंस्टीटयूट ऑफ डिजाइन, अहमदाबाद।

-सोफिया पॉलीटेक्निक, मुंबई।

-आईआईटीसी, मुंबई।

-जेडी इंस्टीटयूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी, विभिन्न केन्द्र।

-पर्ल फैशन अकादमी, नई दिल्ली, मुंबई, जयपुर।

-लेडी इरविन कॉलेज, नई दिल्ली।

-सिम्बिओसिस इंस्टिट्यूट ऑफ़ डिजाईन, Pune

Fashion Designing क्षेत्र में नौकरी देने वाली कुछ कंपनियां


जो कंपनियों ने फैशन डिजाइनर को नौकरी दिये हैं उनमे से कुछ के नाम हैं, उनके पास है।

-अरविंद मिल्स(Arvind Mills)
-भारती वेलमार्ट(Bharti Welmart)
-केरियन(Cairon)
-डिज़ाइन एन डेकोर(Design N Decore)
-फैबिंदिया( Fabindia)
-कार्ले इंटरनेशनल प्राइवेट लिमिटेड(Karle International Pvt Ltd)
-पाल फैशन रिलायंस ब्रांड्स लिमिटेड(Pal Fashions Reliance Brands Ltd)
-श्री भरत इंटरनेशनल(Shree Bharat International)
-टाटा इंटरनेशनल(Tata International)
-विशाल मेगा(Vishal Mega)

Fashion Designing के बाद नौकरी


-Fashion designers
-Fashion coordinators
-Fashion Journalist
-Modelling
-Fashion Photography
-Textile Designer or Fabric Designer
-Fashion Stylist

शिक्षा और पढाई के बारेमे यहा पढिये 

मंगलवार, 17 मार्च 2020

B.SC



बीएससी क्या है - Bsc kya hai


Bsc एक ग्रेजुएशन कोर्स है। जो भारत के लोकप्रिय ग्रेजुएशन कोर्सों में से एक है। बीएससी का पूरा नाम बैचलर ऑफ साइंस है।
साइंस स्‍ट्रीम से 12वीं की पढ़ाई करने के बाद यदि छात्र चाहे तो विज्ञान स्नातक (Bachelor of Science) कर सकते हैं.
12वीं के रिजल्ट आने के बाद यूनिवर्सिटी और कॉलेजों में बीएससी का प्रवेश प्रारंभ
बीएससी का पूरा नाम बैचलर ऑफ़ साइंस है. बीएससी के बाद स्टूडेंट्स को अपना फ्यूचर सिक्योर करने के बहुत सारे ऑप्शन मिल जाते हैं.

Bsc का पूरा नाम क्या है?- BSC full form


बीएससी का पूरा नाम बैचलर ऑफ़ साइंस है

बीएससी कितने साल का कोर्स होता है - B.SC course duration


Bsc 2 या 3 साल का कोर्स होता है इसमें कुल 6 सेमेस्टर होते हैं

बीएससी करने के लिए 12वीं में कितना मार्क होना चाहिए।


– बीएससी करने के लिए आपको 12वीं में कम से कम 50% मार्क लाने होंगे इससे कम पर भी एडमिशन कुछ कॉलेज में मिलता है पर बहुत ज्यादा परेशानी होती है

Bsc में आपको बहुत सारी कैटेगरी मिलती हैं जिसमें आपका मन हो उसी हिसाब से आप उसमें एडमिशन ले सकते हैं जैसे-

कुछ बीएससी कोर्स नीचे दिए गए हैं:-



  • BSc math

  • Bsc Bio

  • B.Sc. Physics

  • B.Sc. Computer Science

  • B.Sc. Honours

  • Bsc Agriculture

  • BSc Electronics

  • B.Sc. Electronics and Communication

  • BSc Food Technology

  • BSc Microbiology

  • BSc Animation

  • Bsc Multimedia

  • BSc Nursing

  • BSc Genetics

  • BSc Information technology


Bsc में एडमिशन बहुत से कॉलेज या यूनिवर्सिटी में इंटरेस्ट एग्जाम के द्वारा होता है। और बहुत से कॉलेज में मेरिट के आधार पर होता है।

BSC course details in hindi

Bsc करने के फायदे:-


– BSC कठिन कोर्स में से एक माना जाता है। इसमें आपको ज्यादा पढ़ाई करने की जरूरत होती है बीएससी करने के बाद आप MSC, MBA और MCA जैसे पोस्ट ग्रेजुएट लेवल के कोर्स भी कर सकते हैं। जिसमें करियर बनाकर आप ढेर सारा पैसा कमा सकते हैं।

– Bsc करने के बाद आप एमएससी पीएचडी जैसे कोर्स करके अपना करियर एक प्रोफेसर एवं प्रधानाचार्य के रूप में भी बना सकते हैं।

– Bsc करने के बाद आपके पास एक ग्रेजुएशन डिग्री हो जाती है। बहुत से एग्जाम ऐसे हैं जिनमें ग्रेजुएशन डिग्री की जरूरत होती है तो आप वहां पर अपना Bsc का ग्रेजुएशन डिग्री दे सकते हैं।

– बीएससी में बहुत अच्छे-अच्छे कोर्स हैं। जिन्हें करके आप केमिकल फैक्ट्री, स्पेस रिसर्च इंस्टिट्यूट, बायो टेक्नोलॉजी इंडस्ट्री, केमिकल इंडस्ट्री, मल्टीमीडिया इंडस्ट्री में अपना कैरियर बना सकते हैं वह निर्भर करेगा कि आपने कौन सा कैटेगरी लिया है। इसके लिए आपको पढ़ाई अच्छे से करनी पड़ेगी।

– Bsc करने के बाद आप चाहे तो किसी कालेज में एक प्राइवेट टीचर के रूप में भी कार्य कर सकते है।

अगर आप बीएससी किसी अच्छे एवं प्रसिद्ध कालेज से कर रहे है तो आपको जिस केटेगरी से आप पढ़ाई कर रहे है। उसमे आपको प्लेसमेंट भी मिल जाता है। और आप अच्छी नौकरी पा सकते है।
बीएससी करने के छात्रों को अनेक फायदे हैं क्योकि इस फिल्ड में जॉब के काफी अच्छे स्कोप होते हैं और आसानी से जॉब मिल जाती है. बीएससी कोर्स करने के बाद अगर आप गोवेर्मेंट जॉब करना चाहते हैं तो आपके पास रेलवे, बैंक, डिफेंस और सिवलि सर्विस एग्‍जाम देने का ऑप्शन है. इसके अलावा प्राइवेट सेक्‍टर में बीएससी के बाद रोजगार के काफी अच्छे विकल्प मिल जाते हैं.

Bsc करने के बाद करियर :-


बीएससी करने के बाद कई फील्ड में करियर की संभावनाएं बढ़ जाती हैं जिनके बारे में नीचे बताया गया।
– मेडिकल इंडस्ट्री
– एग्रीकल्चर
– रिसर्च लैब
– ब्रॉडकास्टिंग
– एंटरटेनमेंट
– रिसर्च एंड डेवलपमेंट
– डाटा कम्युनिकेशन
– बैंकिंग इंडस्ट्री
– फाइनेंसियल सर्विसेज
– एजुकेशन इंडस्ट्री
-प्राइवेट सेक्टर इलेक्ट्रॉनिक्स मैनुफैक्चरर्स

बीएससी कोर्स के लिए कितनी फीस लगती है।


– बीएससी कोर्स की फीस 5000 से 50000 तक प्रतिवर्ष लगता है.

BSC course details in hindi

टॉप 10 बीएससी कॉलेजेस इन इंडिया - TOP 10 B.SC COLLEGES IN INDIA


मद्रास क्रिस्चियन कॉलेज – (MCC), चेन्नई
फेर्गुस्सन कॉलेज, पुणे
हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल यूनिवर्सिटी, गढ़वाल
स्कॉटिश चर्च कॉलेज, कोल्कता
इविंग क्रिस्चियन कॉलेज – (ECC), अल्लाहाबाद
शोभित यूनिवर्सिटी, मेरठ
कीर्ति ऍम डूंगरसी कॉलेज ऑफ़ आर्ट्स साइंस एंड कॉमर्स, मुम्बई
आंध्र यूनिवर्सिटी – (AU), विशाखापट्नम
यूनिवर्सिटी ऑफ़ राजस्थान, जयपुर
संगमेश्वर कॉलेज, सोलापुर, महाराष्ट्र

MCA course की पूरी जानकारी
शिक्षा और पढाई के बारेमे सबकुछ 

शुक्रवार, 13 मार्च 2020

MCA Course


 

MCA क्या है? - MCA Kya Hai


यह एक पोस्ट ग्रेजुएशन डिग्री होती है| आज के समय मे कंप्यूटर सीखना तो आम बात हो गयी है लेकिन अब लोग इसमें भी कुछ नया करने के लिए मेहनत करते हए दिखाई दे रहे है. MCA कंप्यूटर और सूचान प्रौद्योगिकी से सम्बंदित ही कोर्स है.

जिन छात्र ने BCA, B.Sc.पूरा किया हुआ है वो MCA में प्रवेश ले सकते है और साथ में उन छात्र के पास 12 th में Mathematics या Statistics Subject होना जरूरी है. MCA के लिए प्रवेश परीक्षा भी होते है जो देने बहुत अनिवार्य होते है. जिसे All India MCA Common Entrance Test कहा जाता है.

MCA का पूरा नाम - MCA full form


MCA का पूरा नाम Master of Computer Application है

अवधि - duration


एमसीए(MCA) कोर्स की अवधि तीन साल होती है

MCA मे 6 Semester होते है.

First Semester पर आम तौर पर मूल विषय होते है

2nd Semester से 6th Semester तक Deep Knowledge के साथ

Last Semester मे Project भी देना होता है. Project बनाने के लिए अलग अलग तरह की प्रोग्रामिंग भाषा जैसे C, C++, JAVA, PHP, MYSQL का प्रयोग किया जाता है.

MCA course details in hindi

एमसीए में एडमिशन लेने के लिए छात्र की योग्यता



  • MCA में एडमिशन लेने के लिए उम्मीदवार का स्नातक होना अनिवार्य है|

  • और उम्मीदवार का स्नातक BSC(PCM)/ BCA/ B.sc(cs)/Bsc(IT) होना चाहिए|

  • MCA में एडमिशन लेने वाले उम्मीदवार के स्नातक में 50% अंक होने चाहिए|

  • सरकारी संस्थानों में MCA में एडमिशन लेने के लिए प्रवेश परीक्षा आयोजित की जाती है|


MCA के बाद स्कोप / करियर और नौकरी


MCA Course करने के बाद छात्रों को कई Field में रोजगार मिल जाता है. MCA Course Computer से Related Course है और आज के समय में Computer का काफी चलन हो गया है. इसलिए इस Field में Career आसानी से बनाया जा सकता है.

एक एमसीए स्नातक आसानी से एक जूनियर प्रोग्रामर के रूप में करियर में प्रवेश कर सकते हैं|

सिस्टम विश्लेषक बनने या एक प्रोजेक्ट लीडर बनने के लिए तेजी से सीढ़ी पर चढ़ सकते हैं।

विभिन्न इलाकों में एमसीए के बाद आपको बैंकिंग क्षेत्र, स्टॉक प्रसंस्करण और शेयर बाजार, ई-कॉमर्स, नेटवर्किंग और संचार, एम्बेडेड टेक्नोलॉजीज और कई अन्य क्षेत्रो में नौकरी के अवसर प्राप्त हो सकते है|

MCA course details in hindi

MCA करने के बाद आपको विभिन्न नौकरी के अवसर प्राप्त हो सकते है जैसे कि -


Software Engineer

Software Developer

Team Leader, IT

Project Manager

Systems Analyst

Software Programmer

Software Application Architect

Master Of Computer Application(MCA) में फीस:


सभी कॉलेजों की फीस भिन्न-भिन्न होती है, जैसे अगर आप किसी सरकारी कॉलेज में एडमिशन लेने के इच्छुक है तो सरकारी कॉलेज में आपकी अनुमानित फीस एक साल की 30,000 से 35,000 हो सकती है, और यदि आप किसी प्राइवेट कॉलेज से MCA करना चाहते हैं तो वहां आपकी अनुमानित फीस 50,000 से 70,000 हो सकती है|

MCA के बाद सैलरी


एमसीए करने के बाद आपकी सैलरी आपकी अच्छी शैक्षिक पृष्ठभूमि, कौशल और कंपनी पर निर्भर करती है, MCA करने के बाद आपको अच्छी Salary मिलती है. MCA के बाद Fresher Level पर आपकी Salary कम से कम 20,000 से 30,000 तक हो सकती है और कुछ Experience के बाद अगर आप किसी MNC Company में Job करते है तो आपकी Salary 50,000 से 1,00,000 तक हो सकती है.


शिक्षा और पढाई के बारेमे यहा पढिये



BCA कोर्स की पूरी जानकारी

बी.सी.ए. (BCA)




BCA ज्यादा  जॉब oriented और प्रोफेशनल कोर्स है जिसमे students computer applications develepment और उसी related problem solving सिखते है, और आप software related jobs join कर सकते है.

बीसीए का फुल फॉर्म क्या है?


BCA यानि बैचलर ऑफ़ कंप्यूटर एप्लीकेशन

बी.सी.ए. (BCA) क्या हैं


अगर आप 12वीं कर चुकें हैं और यदि अपना करियर कंप्यूटर फील्ड में बनाना चाहते हैं तो यह एक बहुत ही अच्छा कौर्स हैं आपके लिए | इसको करने के बाद आप एक अच्छी जॉब पाने का सपना पूरा कर सकते हैं | अगर आप BCA करते हैं तो आपको स्टडी के दौरान कंप्यूटर से जुड़ी कई बाते सिखने को मिलती हैं.

बी.सी.ए. (BCA) के लिए शैक्षणिक योग्यता


12वी में फिजिक्स, केमिस्ट्री एवं मैथ्स के साथ उत्तीर्ण छात्रों को ही इसमें प्रवेश मिलता हैं किन्तु कुछ यूनिवर्सिटी ऐसी भी हैं जहाँ आप 12th किसी भी विषय में उत्तीर्ण होने पर BCA में प्रवेश पा सकते हैं.
कुछ कॉलेजों में प्रवेश के लिए अपने स्तर पर प्रवेश परीक्षाएँ भी आयोजित की जाती हैं तो कुछ कॉलेज में 12वीं में प्राप्त अंको के आधार पर प्रवेश दिया जाता हैं |

BCA course details in hindi

कालावधि - Duration


3 साल का  course होता हैजो 6 semesters मे divided होता है.

BCA की फ़ीस कितनी होती हैं?


सरकारी कॉलेज : अगर आप किसी Govt कॉलेज से BCA करते हैं तो आपको तक़रीबन 5-7 हजार प्रतिवर्ष चुकाना होंगे | चूँकि BCA के टेक्निकल कौर्स हैं तो इसके लिए आपको कॉलेज के आलावा अन्य कोचिंग क्लास या प्रोग्रामिंग क्लास जॉइन करना पड़ सकता हैं |

निजी कॉलेज : अगर आप प्राइवेट कॉलेज में एडमिशन लेते हैं तो सरकारी कॉलेज की तुलना में आपको काफी ज्यादा फ़ीस पे करना होगी | हलाकि फिर भी अन्य कौर्स जैसे B.E., B.tec., जैसे कोर्स की तुलना में BCA की फ़ीस काफी कम होती हैं | आपको तक़रीबन 10-25 हजार प्रति सेमिस्टर चुकाना पड़ सकते हैं |

बी.सी.ए. (BCA) करने के फायदे


कंप्यूटर फील्ड में आपको एक स्नातक डिग्री मिल जाती हैं |

आसानी से जॉब मिल जाती हैं |

कंप्यूटर प्रोग्रामिंग का ज्ञान होने के कारण आप खुद सॉफ्टवेर, वेबसाइट, एप आदि बना सकते हैं |

उच्च शिक्षा जैसे MCA, MBA कर सकते हैं |

BCA करने के बाद अच्छी सैलरी या पैकेज मिल जाता हैं |

BCA course details in hindi

BCA के बाद क्या करें |


BCA एक ग्रेजुएशन प्रोग्राम हैं जिसे करने के बाद आप हर वह कोर्स या जॉब कर सकते हैं जो एक ग्रेजुएट कर सकता हैं | आइये जानते हैं कि क्या हैं स्कोप BCA करने के बाद | बी.सी.ए. (BCA) क्या हैं, कैसे एवं कहाँ से करें?

Study : अगर आपने BCA कर लिया हैं और आप इसी फील्ड में और आगे बड़ना चाहते हैं तो MCA एक Best आप्शन हैं आपके लिए | आपने देखा होगा कहीं भी कंप्यूटर इंजिनियर / सॉफ्टवेर इंजिनियर की विज्ञप्ति निकालती हैं तो उसमे BE, B.tec या MCA माँगा जाता हैं | MCA के आलावा आप विभिन्न फील्ड जैसे आई.टी. में ऍम.बी.ए. (MBA) भी कर सकते हैं |

Job : जहाँ आज हर काम कंप्यूटर से किया जा रहा हैं तो ऐसे में यदि आपने यह कोर्स किया है तो आपके सामने नौकरी के कई सारे विकल्प खुल जाते हैं | BCA करने के बाद आप कंप्यूटर ओपेरटर, सिस्टम ऑपरेटर, क्लर्क या प्रोग्रामिंग अस्सिस्टेंट की जॉब आसानी से पा सकते हैं |

Business : जी हाँ आप BCA करने के बाद अपना व्यापर भी शुरू कर सकते हैं जैसे कंप्यूटर सेंटर या कंप्यूटर पार्ट्स की शॉप खोल सकते हैं, ऑनलाइन डाटा एंट्री, जॉब वर्क कर सकते हैं, कियोस्कक बैंकिंग शुरू कर सकते हैं आदि | ऐसे कई तरह के बिज़नस हैं जो आप BCA करने के बाद शुरू कर सकते हैं बस आपको इसके लिए थोड़े से अनुभव की जरुरत होगी |

BCA के Employement Areas कोण कोण से है ?


Academic Institutions
Software Developing Companies
Web Designing Companies
Systems Management Companies
Banking Sector
Insurance
Accounting Dept
Stock Markets
e-Commerce or Marketing Sector

BCA के job types


Software Publisher
Finance Manager
Computer Programmer
Teacher ya lecturer
Chief Information Officer
Business Consultant
Computer Scientist
Database Administrator
Computer Systems Analyst
Independent Consultant
Information Systems Manager
Systems Administrator
Computer Presentation Specialist
Software Developer
Computer Support Service Specialist

शिक्षा और पढाकी के बारेमे यहा देखे 


MCA की पूरी जानकारी

मंगलवार, 10 मार्च 2020


RCF Railway Recruitment 2020:


रेल कोच फैक्ट्री, कपूरथला ने अलग-अलग ट्रेड्स में 400 एक्ट-अप्रेंटिस पदों की भर्ती के लिए ऑनलाइन आवेदन आमन्त्रित किए हैं. इच्छुक तथा पात्र उम्मीदवार 06 फरवरी 2020 तक या उससे पहले आधिकारिक वेबसाइट के माध्यम से इन पदों के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं.

आवेदन करने की अंतिम तिथि -


06 फरवरी 2020

रेल कोच फैक्टरी रिक्ति विवरण:
अप्रेंटिस - 400 पद



  • फिटर - 100 पद

  • वेल्डर (जी एंड ई) - 100 पद

  • मशीनिस्ट - 40 पद

  • पेंटर (जी) - 20 पद

  • कारपेंटर - 40 पद

  • मैकेनिक (मोटर व्हीकल) - 10 पद

  • इलेक्ट्रीशियन -56 पद

  • इलेक्ट्रॉनिक मैकेनिक -14 पद

  • एसी और रेफ्रीजरेटर मैकेनिक - 20 पद


वेबसाइट

https://rcf.indianrailways.gov.in/

शैक्षणिक योग्यता:


उम्मीदवार को कम से कम 50% अंकों के साथ 10वीं कक्षा उत्तीर्ण होनी चाहिए और रिलेवेंट ट्रेड में नेशनल ट्रेड सर्टिफिकेट होना चाहिए.

आयु सीमा:
15 से 24 वर्ष

अप्रेंटिस पद के लिए चयन प्रक्रिया:
शॉर्टलिस्ट किए गए सभी अभ्यर्थियों की मेरिट लिस्ट तैयार की जाएगी. मेरिट लिस्ट कैंडिडेट्स के मैट्रिक के मार्क्स और आईटीआई ट्रेड में प्राप्त किए गए अंकों के प्रतिशत के आधार पर तैयार किया जाएगा.

RCF Railway Recruitment 2020

प्रोफ़ेसर


कंपनी का नाम : अन्ना यूनिवर्सिटी

योग्यता : Any Post Graduate

नौकरी स्थान : Chennai

उद्घाटन की संख्या : 1

आवेदन करने की अंतिम तिथि : 02-04-2020

जूनियर रिसर्च फेलो


कंपनी का नाम : गुजरात फॉरेंसिक साइंसेज यूनिवर्सिटी

योग्यता : B.Tech/B.E, M.Sc

नौकरी स्थान : Gandhinagar

उद्घाटन की संख्या : 1

आवेदन करने की अंतिम तिथि : 24-03-2020

सहायक


कंपनी का नाम : गवर्नमेंट ऑफ़ तमिल नाडु

योग्यता : Any Graduate

नौकरी स्थान : Cuddalore

उद्घाटन की संख्या : 20

आवेदन करने की अंतिम तिथि : 31-03-2020

RCF Railway Recruitment 2020

परियोजना सहायक


कंपनी का नाम : श्री चित्र तिरुनल इंस्टिट्यूट फॉर मेडिकल साइंसेज एंड टेक्नोलॉजी

योग्यता : Diploma

नौकरी स्थान : Thiruvananthapuram

उद्घाटन की संख्या : 1

आवेदन करने की अंतिम तिथि : 21-03-2020

सीनियर रिसर्च फेलो


कंपनी का नाम : इंडियन वेटरनरी रिसर्च इंस्टिट्यूट

योग्यता : M.Sc

नौकरी स्थान : Bangalore

उद्घाटन की संख्या : 4

आवेदन करने की अंतिम तिथि : 23-03-2020


सब सरकारी नौकरी देखिये यहा

होंठ काले पड़ने के कारण और इलाज



नर्म, मुलायम और गुलाबी होंठ आप के चेहरे का आकर्षण बढ़ा देते हैं। लेकिन होंठों की यह सुंदरता धीरे-धीरे कालेपन की पीछे कब छुप जाती है, हमें पता ही नहीं चलता। हमारे होंठ चेहरे का बेहद कोमल और खूबसूरत अंग है। इसमें तैलीय ग्रंथि‍यां नहीं होती, इसलिए इसे निरंतर नमी की आवश्यकता होती है। नमी के अभाव में होंठों का सूखना और फटना जैसी समस्याएं सामने आती हैं।

होंठ काले पड़ने के कारण / Reason Behind Black Lips


-ज्यादा धुम्रपान(smoking) करने से होंठ काले हो जाते है।
-ज्यादा चाय (tea) और कॉफ़ी (coffee) पीने से भी होंठ काले हो जाते है ।
-होंठो पर ज्यादा cosmetic product इस्तेमाल करने से होंठ का रंग काला हो जाता है।
-होंठ पर ज्यादा सूर्य की रौशनी पड़ने से भी होंठ पर सनबर्न हो जाता है ।
-अपने जबान से होंठो को ज्यादा चाटने से भी होंठ काले होते है ।

Causes and treatment of darkening lips

होंठों के कालेपन को दूर करने के घरेलू इलाज


गुलाब जल


गुलाब जल (rose water) के सहायता से आप काले होंठो को गुलाबी बना सकते है। रुई में गुलाब जल को लगा कर हर रोज कम से कम २ से ३ बार अपने होंठो पर लगायें इससे आपके काले होंठ बहुत जल्द गुलाबी दिखने लगेंगे ।

गुलाब में तीन खास औषधीय गुण पाए जाते हैं. ये राहत देने, ठंडक देने और मॉइश्चराइज करने का काम करता है. गुलाब की पंखुडि़यां होंठों के कालेपन को दूर करके उन्हें गुलाबी बनाती हैं. गुलाब जल की कुछ बूंदों को शहद में मिलाकर होंठों पर लगाने से फायदा होता है.

दूध और चुटकी हल्दी


आपके होंठ अगर किसी भी कारण से काले पड़ गएँ हों तो आप अपने होंठ पर दूध में एक चुटकी हल्दी मिला कर लगा लें और फिर अपने उँगलियों से होंठ पर हल्का हल्का मसाज करे, फिर 5 से 10 मिनट के बाद पानी से अपने होंठो को धो लें । हफ्ते में अगर आप 3 बार भी ऐसा करते है तो आपके होंठ काले रंग से गुलाबी दिखने लगेंगे ।

बादाम के तेल और नींबू


अगर आपके होंठ काले हो गएँ हों तो आप अपने होंठो पर हर रोज बादाम के तेल (almonds oil) में नींबू का रस को मिला कर लगायें । इसे regular लगाने से होंठ का कालापन ख़त्म होता है साथ ही होंठ गुलाबी दिखने लगता है ।

गाजर


गाजर(carrot) से भी आप black lips को गुलाबी बना सकते है । गाजर के रस को रुई से होंठो पर हर रोज कम से कम एक से दो बार लगायें इससे होंठ जुलाबी दिखने लगेंगे ।

संतरे के छिलके और दूध


संतरे के छिलके (orange peels) को 2 से 3 दिन तक सुखा ले फिर उसे पीस कर उस चूर्ण तैयार कर लें। अब संतरे के इस चूर्ण को दूध में मिला कर अपने होंठो पर लगाएं फिर 5 से 10 मिनट के बाद अपने होंठो को पानी से साफ़ कर लें। हफ्ते में कम से कम तीन बार इसे लगाने से आपके होंठ का कालापन दूर हो जायेंगे ।

नारियल तेल


black lips को गुलाबी दिखने के लिए आप अपने lips मतलब होंठो पर olive oil । रोजाना olive oil से होंठो का मसाज करने से होंठ गुलाबी हो जाते है। आप olive oil की जगह नारियल तेल से भी अपने होंठो का मसाज कर सकते है इससे भी आपके होंठ कोमल हो जायेंगे साथ हीं गुलाबी भी दिखने लगेंगे ।

Causes and treatment of darkening lips

निम्बू


रोज रात को सोने से पहले निम्बू को काट कर उसके सारे रस को निकाल दे और फिर उसके छिलके के अन्दर की ओर से होंठो का मसाज करे इससे होंठ के कालेपन दूर हो जायेंगे ।

नींबू का इस्तेमाल अक्सर काले घेरों को दूर करने के लिए किया जाता है. आप इसका इस्तेमाल होंठों के कालेपन को दूर करने के लिए भी कर सकती हैं. नींबू के ब्लीचिंग गुण होंठों के गहरी हो रही रंगत को कम करने में बहुत कारगर होते हैं. अच्छा रहेगा, अगर आप नींबू की कुछ बूंदों को अपने होंठों पर लगाकर सो जाएं. एक-दो महीने तक यह ऐसा करते रहने से होंठों का कालापन दूर हो जाएगा.

अनार


होंठों की देखभाल के लिए अनार से बढ़कर कुछ भी नहीं. ये होंठों को पोषित करने के साथ ही मॉइश्चराइज करने का काम भी करता है. होंठों की नमी लौटाने के साथ ही अनार उन्हें नेचुरली गुलाबी भी करता है. अनार के कुछ दानों को पीस कर उसमें थोड़ा सा दूध और गुलाब जल मिला लें. इस पेस्ट को होंठों पर हल्के हाथ से मलने पर जल्दी फायदा होता है.

चुकंदर


चुकंदर में नेचुरल ब्लीचिंग का गुण होता है, जिससे ये होंठों के कालेपन को दूर करने का काम करता है और साथ ही इसका नेचुरल लाल रंग होंठों को गुलाबी भी बनाता है. चुकंदर का रस या पेस्‍ट रात के समय होंठों पर लगाएं. रात भर इसे यूं ही रहने दें और अगली सुबह साफ कर दें.

चीनी और मक्खन


होंठों की डेड स्किन हट जाने से भी कालापन दूर होता है. चीनी को मिक्सर में पीस ले और इसमें कुछ मात्रा में मक्खन मिलाकर होंठों पर लगाएं. हफ्ते में एक बार ऐसा करने से होंठ कोमल मुलायम हो जाएंगे और उनका गहरापन भी कम होगा.

ब्यूटी टिप्स पढिए यहा

 

RCF Railway Recruitment 2020:

रेल कोच फैक्ट्री, कपूरथला ने अलग-अलग ट्रेड्स में 400 एक्ट-अप्रेंटिस पदों की भर्ती के लिए ऑनलाइन आवेदन आमन्त्रित किए हैं. इच्छुक तथा पात्र उम्मीदवार 06 फरवरी 2020 तक या उससे पहले आधिकारिक वेबसाइट के माध्यम से इन पदों के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं.

आवेदन करने की अंतिम तिथि –

06 फरवरी 2020

रेल कोच फैक्टरी रिक्ति विवरण:
अप्रेंटिस – 400 पद

  • फिटर – 100 पद
  • वेल्डर (जी एंड ई) – 100 पद
  • मशीनिस्ट – 40 पद
  • पेंटर (जी) – 20 पद
  • कारपेंटर – 40 पद
  • मैकेनिक (मोटर व्हीकल) – 10 पद
  • इलेक्ट्रीशियन -56 पद
  • इलेक्ट्रॉनिक मैकेनिक -14 पद
  • एसी और रेफ्रीजरेटर मैकेनिक – 20 पद

वेबसाइट

https://rcf.indianrailways.gov.in/

शैक्षणिक योग्यता:

उम्मीदवार को कम से कम 50% अंकों के साथ 10वीं कक्षा उत्तीर्ण होनी चाहिए और रिलेवेंट ट्रेड में नेशनल ट्रेड सर्टिफिकेट होना चाहिए.

आयु सीमा:
15 से 24 वर्ष

अप्रेंटिस पद के लिए चयन प्रक्रिया:
शॉर्टलिस्ट किए गए सभी अभ्यर्थियों की मेरिट लिस्ट तैयार की जाएगी. मेरिट लिस्ट कैंडिडेट्स के मैट्रिक के मार्क्स और आईटीआई ट्रेड में प्राप्त किए गए अंकों के प्रतिशत के आधार पर तैयार किया जाएगा.

RCF Railway Recruitment 2020

प्रोफ़ेसर

कंपनी का नाम : अन्ना यूनिवर्सिटी

योग्यता : Any Post Graduate

नौकरी स्थान : Chennai

उद्घाटन की संख्या : 1

आवेदन करने की अंतिम तिथि : 02-04-2020

जूनियर रिसर्च फेलो

कंपनी का नाम : गुजरात फॉरेंसिक साइंसेज यूनिवर्सिटी

योग्यता : B.Tech/B.E, M.Sc

नौकरी स्थान : Gandhinagar

उद्घाटन की संख्या : 1

आवेदन करने की अंतिम तिथि : 24-03-2020

सहायक

कंपनी का नाम : गवर्नमेंट ऑफ़ तमिल नाडु

योग्यता : Any Graduate

नौकरी स्थान : Cuddalore

उद्घाटन की संख्या : 20

आवेदन करने की अंतिम तिथि : 31-03-2020

RCF Railway Recruitment 2020

परियोजना सहायक

कंपनी का नाम : श्री चित्र तिरुनल इंस्टिट्यूट फॉर मेडिकल साइंसेज एंड टेक्नोलॉजी

योग्यता : Diploma

नौकरी स्थान : Thiruvananthapuram

उद्घाटन की संख्या : 1

आवेदन करने की अंतिम तिथि : 21-03-2020

सीनियर रिसर्च फेलो

कंपनी का नाम : इंडियन वेटरनरी रिसर्च इंस्टिट्यूट

योग्यता : M.Sc

नौकरी स्थान : Bangalore

उद्घाटन की संख्या : 4

आवेदन करने की अंतिम तिथि : 23-03-2020


सब सरकारी नौकरी देखिये यहा

सोमवार, 9 मार्च 2020

होली का महत्व, कथा, इतिहास



होलिका दहन


गोबर के बड़बुले( गोबर के विशेष खिलौने), उपले, घास-फूस इत्यादि होली के डंडे (जो अरंडी की लकड़ी का होता है) के आसपास इकट्ठे कर जमा दिया जाता है।
होली का त्योहार बुराई पर अच्छाई की जीत के प्रतीक के रूप में मनाया जाता है। होलिका दहन के दिन एक पवित्र अग्नि जलाई जाती जिसमें सभी तरह की बुराई, अंहकार और नकारात्मकता को जलाया जाता है।

कब करें पूजन -


प्रदोषकाल में होलिका दहन शास्त्रसम्मत है तभी पूजन करना चाहिए। प्राय: महिलाएं पूजन कर ही भोजन ग्रहण करती हैं।

पूजन सामग्री- रोली, कच्चा सूत, पुष्प, हल्दी की गांठें, खड़ी मूंग, बताशे, मिष्ठान्न, नारियल, बड़बुले आदि।

विधि- यथाशक्ति संकल्प लेकर गोत्र-नामादि का उच्चारण कर पूजा करें।

सबसे पहले गणेश व गौरी इत्यादि का पूजन करें। 'ॐ होलिकायै नम:' से होली का पूजन कर
'ॐ प्रहलादाय नम:' से प्रहलाद का पूजन करें। पश्चात 'ॐ नृसिंहाय नम:' से भगवान नृसिंह का पूजन करें, तत्पश्चात अपनी समस्त मनोकामनाएं कहें व गलतियों के लिए क्षमा मांगें। कच्चा सूत होलिका पर चारों तरफ लपेटकर 3 परिक्रमा कर लें।

अंत में लोटे का जल चढ़ाकर कहें- 'ॐ ब्रह्मार्पणमस्तु।'

होली की भस्म का बड़ा महत्व है। इसे चांदी की डिब्बी में भरकर घर में रखा जाता है। इसे लगाने से प्रेतबाधा, नजर लगने आदि के लिए उपयोग में लिया जाता है।

Why We Celebrate Holi Festival

होली का त्योहार क्यों मनाते हैं?


तेज संगीत और ढोल के बीच एक दूसरे पर रंग और पानी फेंका जाता है। भारत के अन्य त्यौहारों की तरह होली भी बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। प्राचीन पौराणिक कथा के अनुसार होली का त्योहार, हिरण्यकश्यप की कहानी जुड़ी है।
होली के रंग

पहले होली के रंग टेसू या पलाश के फूलों से बनते थे और उन्हें गुलाल कहा जाता था। वो रंग त्वचा के लिए बहुत अच्छे होते थे क्योंकि उनमें कोई रसायन नहीं होता था।

Why We Celebrate Holi Festival

होली का इतिहास


हिरण्यकश्यप प्राचीन भारत का एक राजा था जो कि राक्षस की तरह था। वह अपने छोटे भाई की मौत का बदला लेना चाहता था जिसे भगवान विष्णु ने मारा था। इसलिए अपने आप को शक्तिशाली बनाने के लिए उसने सालों तक प्रार्थना की। आखिरकार उसे वरदान मिला। लेकिन इससे हिरण्यकश्यप खुद को भगवान समझने लगा और लोगों से खुद की भगवान की तरह पूजा करने को कहने लगा। इस दुष्ट राजा का एक बेटा था जिसका नाम प्रहलाद था और वह भगवान विष्णु का परम भक्त था। प्रहलाद ने अपने पिता का कहना कभी नहीं माना और वह भगवान विष्णु की पूजा करता रहा। बेटे द्वारा अपनी पूजा ना करने से नाराज उस राजा ने अपने बेटे को मारने का निर्णय किया। उसने अपनी बहन होलिका से कहा कि वो प्रहलाद को गोद में लेकर आग में बैठ जाए क्योंकि होलिका आग में जल नहीं सकती थी। उनकी योजना प्रहलाद को जलाने की थी, लेकिन उनकी योजना सफल नहीं हो सकी क्योंकि प्रहलाद सारा समय भगवान विष्णु का नाम लेता रहा और बच गया पर होलिका जलकर राख हो गई। होलिका की ये हार बुराई के नष्ट होने का प्रतीक है। इसके बाद भगवान विष्णु ने हिरण्यकश्यप का वध कर दिया, इसलिए होली का त्योहार, होलिका की मौत की कहानी से जुड़ा हुआ है। इसके चलते भारत के कुछ राज्यों में होली से एक दिन पहले बुराई के अंत के प्रतीक के तौर पर होली जलाई जाती है।


सब festival के बारेमे जानने के लिए यहा जाये

रविवार, 8 मार्च 2020

Bihar Amin Online government job recruitment  2020




बिहार में राजस्व एवं भूमि सुधार के अधीन अमीन के पदों पर नियुक्ति के लिए ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया शुरू चुकी है.
इन पदों पर आवेदन की अंतिम तारीख 22 जनवरी 2020 यानी बुधवार है।

आवेदन की अंतिम तारीख [LAST DATE BIHAR AMIN ONLINE 2020]


22 जनवरी 2020 है।

ऑफिशल वेबसाइट :-
इन पदों के लिए आवेदन ऑफिशल वेबसाइट bceceboard.bihar.gov.in पर जाकर किया जा सकता है


Bihar Amin Online job

पदों की संख्या


इस भर्ती प्रक्रिया के जरिए कुल 1767 पदों को भरा जाएगा।

आवेदन शुल्क:-


सामान्य / ओबीसी और ईडब्ल्यूएस श्रेणी के पुरुष उम्मीदवार के लिए- 200 रुपये

सामान्य / ओबीसी और ईडब्ल्यूएस श्रेणी के महिला उम्मीदवारों के लिए -100 रुपए

दिव्यांग / एस / एसटी उम्मीदवार के लिए – 100 रुपए

शैक्षणिक योग्यता:-


मान्यता प्राप्त स्कूली शिक्षा बोर्ड अथवा संस्थान से 10+2 (इंटरमीडिएट) या समकक्ष परीक्षा उत्तीर्ण होना चाहिए

आयु सीमा [Bihar Amin Online 2020 AGE LIMIT]


Bihar Amin Online job

इन पदों के लिए न्यूनतम आयु 18 वर्ष और अधिकतम आयु अलग-अलग कैटेगिरी के हिसाब से अलग-अलग है। इसमें अनारक्षित श्रेणी (पुरुष) के लिए 37 वर्ष, पिछड़ा और अन्य पिछड़ा वर्ग (महिला और पुरुष) 40 वर्ष, अनारक्षित (महिला) 40 वर्ष, अनुसूचित जाति और जनजाति (महिला और पुरुष) 42 वर्ष तय की गई है।

वेतनमान:-


5,200- 20200 रुपए । (ग्रेड पे- 2000)

ऑनलाइन कंप्यूटर आधारित परीक्षा के लिए चयन


-परीक्षा के लिए अभ्यर्थियों की शॉर्टलिस्टिंग 12वीं या इसके समकक्ष परीक्षा में प्राप्त अंकों के आधार पर होगी। इसके राज्य सरकार के आधीन अनुभव प्राप्त अमीनों के अनुभव भी इसमें गिना जाएगा जो कुल रिक्तियों के 10 गुना से ज्यादा नहीं होगा।

-योग्य उम्मीदवारों का चयन कंप्यूटर आधारित ऑनलाइन परीक्षा (सीबीटी) और साक्षात्कार में प्राप्त अंकों के आधार पर किया जाएगा.

-ऑनलाइन परीक्षा में एक प्रश्नपत्र होंगे, जिसमें 2 भाग होंगे प्रथम भाग में सामान्य ज्ञान, समसामयिक घटना, सामान्य विज्ञान और सामान्य हिंदी के प्रश्न पूछे जाएंगे तथा इसका कुल अंक 50 होंगे.

-दूसरे भाग में सामान्य गणित से संबंधित प्रश्न पूछे जाएंगे जिसका कुल अंक- 25 होंगे-

-परीक्षा के लिए कुल प्रश्नों की संख्या 75 होगी

-परीक्षा अंग्रेजी और हिंदी दोनों माध्यम में होगी.

-प्रत्येक प्रश्न के लिए एक अंक निर्धारित किया गया है

-परीक्षा की कुल अवधि- 2 घंटा 15 मिनट होगी-

-परीक्षा में पास होने वाले उम्मीदवारों को साक्षात्कार के लिए बुलाया जाएगा.

https://bceceboard.bihar.gov.in/pdf_Pros/PROS_AMIN.pdf

सरकारी नौकरी 

गुरुवार, 5 मार्च 2020

अंडा कैसे उबलते है


 

[

How to boil eggs in Hindi


अंडा सेहत के लिए फायदेमंद है, और विटामिन डी के साथ-साथ प्रोटीन और अन्य पोषक तत्वों का बेहतरीन स्त्रोत है। लेकिन आपमें से ज्यादातर इसे पकाने या खाने का सही तरीका नहीं जानते। नतीजतन जितना पोषण मिलना चाहिए नहीं मिल पाता, या फिर इसके कुछ साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं।

पानी के उबलने से तुरंत पहले सावधानी पूर्वक उसमें अंडा डाल दिया जाय और उसमें उसे छह मिनट तक रहने दिया जाय. बहरहाल, उनका यह फामरुला बड़े अंडों के लिए है और वह भी उन अंडों के लिए जिन्हें उबालने से पहले कमरे के तापमान पर रखा गया हो.

1. अंडे को कभी भी ज्यादा तापमान पर नहीं पकाना चाहिए। अगर आप अंडे को ज्यादा तापमान पर पकाते हैं, तो इसमें मौजूद प्रोटीन तो आपको मिलता है, लेकिन अन्य कई पोषक तत्व इसमें नष्ट हो जाते हैं जिनका फायदा आपको नहीं मिल पाता।

2. तेज आंच के अलावा अंडों को ज्यादा देर भी नहीं पकाना चाहिए।

3. कम समय तक मीडियम आंच में पके हुए अंडों में पोषक तत्वों की मात्रा अच्छी होती है।

उबला अंडा कब तक रख सकते है?


जब पानी उबलने लगे तब उसमें अंडा डालना चाहिए। करीब 15 मिनट तक अंडे को उबलने देना चाहिए। इसके बाद गैस बंद कर अंडा को गर्म पानी से निकालकर ठंडे पानी में डाल देना चाहिए। करीब 10 मिनट बाद ठंडे पानी से अंडे को निकालकर छीलने पर यह अच्छे से छील जाता है।

अंडा एक ऐसी चीझ है जिसे हम कुछ ज्यादा ही इस्तेमाल करते है अपने खाने में… चाहे वो नास्ता हो या डिनर…. पर बहुत से लोग ऐसे भी होते है जिन्हे अंडे को उबालना नहीं आता है, बहुत से लोग अंदाज पे अंडा उबालते है तो कभी वो अच्छे से उबाल जाता है और कभी नहीं |

अंडा उबालने का सही तरीका!


1. सबसे पहले किसी पैन में अंडे को डाले और उसमे इतना पानी डाले कि अंडे से आधे इंच ऊपर तक पानी हो|

2. फिर गैस ऑन करे और मध्यम आंच पे 2 मिनट तक उबाल आने दे |

3. उसके बाद आप 10-12 मिनट के लिए उसे ढक दे और उबलने दे |(अगर आप चाहे तो बिना ढके भी उबाल सकती है लेकिन उसमे थोड़ा सा ज्यादा टाइम लगता है 12 मिनट के जगह 15 मिनट तक)

4. अब गैस बंद करे और अंडे को ठन्डे पानी से धो ले |

5. अब अंडे कि चारो तरफ से रोल करे |

6. उसके बाद उसका छिलका उतार दे |

7. और ये रहे आपके छिले हुए अंडे तयार …

रेसिपी बुक इन हिंदी

बुधवार, 4 मार्च 2020

महाराष्ट्र मे 100 यूनिट तक बिजली मुफ्त मे देगी सरकार


goverment gives 100 unit electricity free in hindi


ऊर्जा विभाग के एक उच्च अधिकारी ने बताया कि राज्य के लोगों को सस्ती बिजली देने की संभावनाओं पर काम किया जा रहा है। वैसे भी किसानों और उद्योगों को पहले से ही सब्सिडी वाली बिजली दी जा रही है।

बिजली मुफ्त देने वाली योजना के बारे में नितिन राउत ने कहा कि राज्य के सभी बिजली उपभोक्ताओं को 100 यूनिट तक मुफ्त बिजली देने की योजना पर काम किया जा रहा हैं। इसलिए मैंने ऊर्जा विभाग के अधिकारियों को तीन माह के भीतर रिपोर्ट सौंपने को कहा है। हालांकि, राउत के इस फैसले को लेकर विश्लेषकों के मन में कुछ संशय है। उनका कहना है कि मुफ्त बिजली देने पर सरकारी खजाने पर बोझ बढ़ेगा और इससे वित्तीय हालत को चोट पहुंचेगी।

महाराष्ट्र सरकार भी किसानों और गरीब उपभोक्ताओं को 100 यूनिट तक मुफ्त बिजली देने पर गंभीरता से विचार कर रही है। ऊर्जा मंत्री डॉ नितिन राऊत ने बताया कि विभागीय बैठक कर इस संबंध में अधिकारियों को रिपोर्ट तैयार करने का निर्देश दिया गया है। इसके योजना को लागू किया जाएगा।

डॉ राऊत ने बताया कि ऊर्जा मंत्री का प्रभार ग्रहण करने के बाद ही विभागीय बैठक में आंतरिक तौर पर अधिकारियों को रिपोर्ट तैयार करने का निर्देश दिया था। अधिकारियों से कहा था कि सरकार गरीबों और किसानों को सस्ती और 100 यूनिट तक मुफ्त बिजली देना चाहती है। इस योजना को लागू करने के लिए प्रोडक्शन में बिजली लीकेज कम करने की हिदायत दी है। जिस पर काम हो रहा है।

वर्तमान में किसानों को रात में बिजली की आपूर्ति की जा रही है। अधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि किसानों को दिन में कम से कम चार घंटे बिजली की आपूर्ति अनिवार्य रूप से की जाए।

राऊत ने बताया कि तीन महीने के अंदर रिपोर्ट आने के बाद इस पर गंभीरतापूर्वक अमल किया जाएगा। आंकड़े बताते हैं कि महाराष्ट्र में बिजली उपभोक्ताओं पर 36 हजार करोड़ रुपए बकाया है जिसमें कृषि कनेक्शन वाले ज्यादा उपभोक्ता शामिल हैं।

goverment gives 100 unit electricity free in hindi

औद्योगिक बिजली दर भी होगी सस्ती


ऊर्जा विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि हम सस्ती बिजली के लिए सभी संभावनाओं को तलाश रहे हैं। उत्पादन खर्च में कमीं और बकाया बिजली बिलों की वसूली से सस्ती बिजली दी जा सकती है। इसके साथ ही हम औद्योगिक बिजली दर कम करने पर भी विचार कर रहे हैं।

आम लोगों को मिलेगी राहत


100 यूनिट तक की बिजली मुफ्त किए जाने के बाद जनता को काफी राहत मिलेगी। हालांकि, 100 यूनिट से ज्यादा खपत करने वाले भी इसी तर्ज पर छूट दिए जाने की मांग कर रहे हैं। 200 यूनिट तक खर्च करने वालों के लिए भी छूट देने का प्रस्ताव पर विचार किया जा रहा है।


महत्वपूर्ण समाचार

मंगलवार, 3 मार्च 2020

मुस्लिमों को 5 फीसदी आरक्षण




मुस्लिमों को 5 फीसदी आरक्षण के लिए बनेगा कानून

Maharashtra To Provide 5% Quota For Muslims In Education in hindi

मुस्लिमों को 5 फीसदी आरक्षण

महाराष्ट्र में मुसलमानों को शिक्षा में पांच फीसदी आरक्षण देने की तैयारी शुरू

"राज्य की महा विकास अघाड़ी सरकार ने शैक्षणिक संस्थानों में मुस्लिमों को पांच फीसदी आरक्षण देने का प्रस्ताव रखा है। सरकार यह सुनिश्चित करेगी कि इस संबंध में जल्द ही एक कानून पारित हो।"

महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार स्कूल-कॉलेजों में मुस्लिम आरक्षण के लिए कानून लाएगी. मुस्लिम समुदाय को पांच फीसदी आरक्षण के लिए कांग्रेस और एनसीपी की तरफ से मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पर दबाव था. राज्य के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री नवाब मलिक ने मुस्लिम आरक्षण के लिए प्रस्ताव लाने की पुष्टि की.

5% reservation for Muslims in hindi

महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे की सरकार राज्य में मुस्लिम समुदाय के छात्रों को स्कूल और कॉलेजों में आरक्षण (Muslims reservation) देने के लिए कानून बनाने की तैयारी में है. शुक्रवार को राज्य के अल्पसंख्यक मंत्री नवाब मलिक ने इसका ऐलान किया. हालांकि इस मामले पर राजनीति भी शुरू हो चुकी है. महाराष्ट्र में मुस्लिम समुदाय को जल्द ही स्कूल और कॉलेजों में 5 फीसदी आरक्षण दिया जाएगा. इसके लिए सरकार की ओर से कानून बनाया जाएगा. महा विकास आघाडी में शामिल कांग्रेस और एनसीपी पहले से ही शैक्षणिक संस्थानों में पांच फीसदी मुस्लिम आरक्षण के पक्ष में रही है.
महाराष्ट्र के राज्यमंत्री व एनसीपी नेता नवाब मलिक का कहना है कि महाराष्ट्र में सरकारी शिक्षण संस्थानों में मुसलमानों को 5 प्रतिशत कोटा (Muslims reservation) प्रदान करने के लिए विधेयक लाएगी. नवाब मलिक ने मीडिया से बात करते हुए मुसलमानों को शिक्षण संस्थानों में कोटा देने को लेकर कहा, ''सरकारी शिक्षण संस्थानों में मुसलमानों को 5% आरक्षण देने के लिए उच्च न्यायालय ने अपना पक्ष रखा. पिछली सरकार ने इस पर कोई कार्रवाई नहीं की थी, इसलिए हमने घोषणा की है कि हम जल्द से जल्द कानून के रूप में HC के आदेश को लागू करेंगे.''

क्या है मामला? मुस्लिमों को 5 फीसदी आरक्षण


5% reservation for Muslims in hindi

महाराष्ट्र के अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री और एनसीपी नेता नवाब मलिक ने कहा,

राज्य की महा विकास अघाड़ी सरकार ने शैक्षणिक संस्थानों में मुस्लिमों को पांच फीसदी आरक्षण देने का प्रस्ताव रखा है.
अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री ने सदन को आश्वासन दिया कि स्कूलों में प्रवेश शुरू होने से पहले इस बारे में उचित कदम उठाए जाएंगे.

हाई कोर्ट ने पहले ही आदेश दिया था


महाराष्ट्र सरकार का कहना है कि हाईकोर्ट ने सरकारी शैक्षणिक संस्थानों में मुस्लिम समुदाय को पांच फीसदी आरक्षण को हरी झंडी दी थी. पिछली सरकार के कार्यकाल में इस संबंध में कोई ऐक्शन नहीं लिया गया. इसलिए हमने हाईकोर्ट के आदेश को कानून के रूप में अमल करने का ऐलान किया है.

लेकिन नई सरकार के इरादे नए


5% reservation for Muslims in hindi

महाराष्ट्र में पिछले साल नवंबर में गठबंधन सरकार बनी. कांग्रेस ने साफ किया कि मुस्लिम आरक्षण पर दबाव बनाएगी. राज्य के लोक निर्माण मंत्री अशोक चव्हाण ने कहा था कि कांग्रेस पार्टी इस मुद्दे को लेकर गंभीर है और मुस्लिमों के लिए जल्द ही आरक्षण व्यवस्था लाई जाएगी.

साल 2018 में महाराष्ट्र विधानसभा में चर्चा के दौरान शिवसेना ने मुस्लिमों को 5 फीसदी आरक्षण दिए जाने की वकालत की थी. 2014 में मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण थे. कांग्रेस-एनसीपी सरकार ने मुस्लिमों को 5 फीसदी आरक्षण और मराठों को 16 फीसदी आरक्षण की घोषणा की थी. हालांकि बॉम्बे हाईकोर्ट ने इस पर रोक लगाते हुए सिर्फ शिक्षा में मुस्लिमों को 5 फीसदी आरक्षण जारी रखा.

भारतीय छात्रों को नीदरलैंड में पढ़ने के लिए मिल रही स्कॉलरशिप जानीये यहा

सोमवार, 2 मार्च 2020

आधार कार्ड अपडेट कैसे करे




आधार यानी आम आदमी का अधिकार। भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण भारत सरकार द्वारा जारी किया जाता है। आधार कार्ड भारत भर में कहीं भी अपनी पहचान साबित करने के लिए पर्याप्त दस्तावेज होता है।

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि आधार एक कार्ड होता है जिसपर 12 अंकों की एक यूनिक संख्या दर्ज होती है। यूनिक नंबर के अलावा आधार कार्ड पर व्यक्ति का फोटोग्राफ, नाम, जन्मतिथि और पूरा एड्रेस दर्ज होता है।

यूआईडीएआई ने 2009 में आधार कार्ड कार्यक्रम शुरू किया था। अब आधार कार्ड  भारत के लगभग प्रत्येक नागरिक का सबसे अधिक और उपयोगी पहचान बन गया है। हालांकि, कई कार्य प्रक्रिया और सरकारी योजनाओं में आधार कार्ड अनिवार्य है। आधार कार्ड सेवा हर किसी के लिए नि: शुल्क है इसका उपयोग भारत के विभिन्न स्थानों पर एक पहचान प्रमाण के रूप में भी किया जा रहा है। लेकिन, जैसा कि हम सभी जानते हैं कि लोग अपने आधार कार्ड के साथ कई तरह की समस्याओं का सामना कर रहे हैं।

How to update Aadhaar card

सबसे बड़ा मुद्दा आधार कार्ड में छपी गलत विवरण है।आपने देखा है, कि उनके आधार कार्ड में सबसे आम समस्या गलत नाम और पता है। लोगों के पास आधार कार्ड में उनके गलत फोटो के बारे में भी शिकायत है। यही कारण है कि वे आधार कार्ड की जानकारी बदलना (aadhaar card update) चाहते हैं। या जानना चाहते हैं कि सुधार कैसे करें

ऐसे करें आधार कार्ड अपडेट


आधार कार्ड अपडेट दो तरीके से हो सकता है। पहला तरीका है- खुद से ऑनलाइन दूसरा तरीका है – कॉमन सर्विस सेंटर (CSC) पर जाकर ऑपरेटर से बोलकर आधार अपडेट हो सकता है। आपको जानकारी के लिए बता दें कि खुद से आधार कार्ड में अपडेट केवल एड्रेस यानी पता ही चेंज हो सकता है। खुद से ऑनलाइन आधार अपडेट करने के लिए आपको निम्न प्रोसेस को फ़ॉलो करना होगा:

ऑनलाइन प्रक्रिया


१. यदि आप अपने आधार कार्ड में ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से सुधार करना चाहते हैं। तो आपका मोबाइल नंबर पंजीकृत होना चाहिए। यदि आपका मोबाइल नंबर पंजीकृत नहीं है तो आप Adhaar Card Update ऑनलाइन अपडेट नहीं कर सकते।

२. ऑनलाइन आधार कार्ड सुधार की सभी प्रक्रिया नीचे दी गई है।

३. सबसे पहले भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (आधार की वेबसाइट) https://uidai.gov.in/hi/ पर जाना होता है।

४. जब वेबसाइट ओपन हो जाती है तो आपको अपडेट माय आधार पर- https://resident.uidai.gov।in/check-aadhaar क्लिक करना होता है।

५. यहां पर आपसे पुछा जाता है कि क्या आप वास्तव में अपने आधार कार्ड में बदलाव करना चाहते हैं? यहां आपको हां बटन पर क्लिक करना होता है।

६. हाँ पर क्लिक करते आपसे 14 अंकों का आधार एनरोल्ड नंबर मांगा जाता है। आधार एनरोल्ड नंबर एंटर करते ही आपके सामने आधार अपडेट का फॉर्म ओपन हो जायेगा।

७. यहां आपको नया एड्रेस एंटर करना होगा।

८. सबमिट करते ही सुरक्षा के लिए आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी सेंड होता है उस ओटीपी को एंटर करना होता है।ओटीपी एंटर के बाद अप आधार अपडेट फॉर्म सबमिट कर दीजिये।

९. आधार कार्ड अपडेट फॉर्म सबमिट करने के बाद आपको एक नंबर मिलेगा। आधार कार्ड में अपना अपडेट स्टेटस देखने के लिए वह नंबर एंटर करना होता है। इसके अतिरिक्त जब आपका Aadhar card update होता है या रिजेक्ट होता है तो आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर एसएमएस यानी मैसेज के जरिये सूचना दे दी जाती है।

सहज जनसेवा केन्द्र (CSC सेंटर) पर Adhar Card Update


जब किसी आधार कार्ड धारक को अपने आधार कार्ड  में अपना नाम, मोबाइल नंबर या ईमेल एड्रेस अपडेट कराना होता है तो उसे अपने नजदीकी सहज जनसेवा केन्द्र जाना होता है। SCS सेंटर पर जाकर ऑपरेटर से कहना होता है आपके आधार कार्ड में कुछ बदलाव करना है। और उसको पुराना वाला आधार कार्ड देना होता है।

जब कंप्यूटर ऑपरेटर आपके आधार में अपडेट करता है तो आपके मोबाइल पर एक ओटीपी मिलता है। उस ओटीपी को कंप्यूटर ऑपरेटर को बताना होता है। जब ऑपरेटर आधार कार्ड में बदलाव कर लेता है तो आपके मोबाइल नंबर पर एक मैसेज आता है। उसी नंबर से आप अपने आधार कार्ड अपडेट का स्टेटस चेक कर सकते हैं।

भारतीय डाक के जरिये आधार में अपडेट


आधार में ऑफलाइन अपडेट कराने जरिया भारतीय डाक है। डाक के माध्यम से आधार में कोई भी बदलाव कराने के लिए सबसे पहले भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण – आधार की वेबसाइट से आधार अपटेड फॉर्म डाउनलोड करना होता है।

डाउनलोड फॉर्म अच्छी तरीके भरकर उसमे उन विकल्पों पर टिकमार्क करना होता है जिसमे – जिसमे बदलाव कराना है। इसके बाद 50 रुपये का डिमांड ड्राफ्ट अटैच कर उसके साथ सभी जरूरी कागज़ी दस्तावेज जैसे – पुराने आधार की फोटोकॉपी, सरकार द्वारा जारी किसी एक पहचान पत्र की फोटोकॉपी अटैच कर एक लिफाफे में रखना होता है।

लिफाफे के ऊपर ‘आधार (AADHAAR) अपडेट/सुधार’ लिखना होता है। जब ये सभी प्रक्रिया पूरी हो जाये तो उसे आधार के ऑफिस पर भेजना होता है।

क्या Aadhar Card Update कराना फ्री है?


आधार कार्ड में कोई भी बदलाव कराना पहले फ्री था। बाद में 25 रुपये फीस लगने लगी। अब आधार कार्ड में कोई भी अपडेट कराने पर 50 रुपये प्रति अपडेट का भुगतान होता है। आधार कार्ड अपटेड कराने की फीस कोई भी व्यक्ति ऑनलाइन माध्यम से जमा कर सकता है।

कितने दिन में आधार अपडेट होता है?


आधार की वेबसाइट – यूआईडीएआई के अनुसार किसी भी आधार कार्ड में कोई अपडेट करने में 3 सप्ताह से 3 महीने तक का समय लग सकता है। जब आधार कार्ड में अपडेट हो जाता है तो व्यक्ति के रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर आधार अपडेट होने का मैसेज आ जाता है। आधार अपडेट होने के बाद व्यक्ति अपना ई-आधार (AADHAAR) कार्ड डाउनलोड कर सकते हैं।

आधार कार्ड की पूरी जानकारी

Like Us

लोकप्रिय पोस्ट