रविवार, 21 जुलाई 2019

सकारात्मक सोच की शक्ति


The Power of Positive Thinking and Attitude (Hindi Story)



सकारात्मक सोच की शक्ति


सकारात्मक सोच की शक्ति : सकारात्मक सोच ऐसा कोई वरदान नहीं है जो सिर्फ उन गुरुओं के पास होता है जो जीने का तरीका सिखाते हैं। यह हर एक के द्वारा अपनाया जा सकता है। आजकल लोगों में निराशावादी विचारधारा का बीज आसानी से पनप जाने से सकारात्मक सोच एक आसरे की तरह काम करता है जिसका आप सहारा ले सकते हैं। यहाँ पर कुछ सुझाव दिए गए हैं जिसके फलस्वरूप आप सकारात्मक सोच वाले व्यक्ति बन सकते हैं।


सकारात्मक सोच (Positive Thinking) के बिना जिंदगी अधूरी है| सकारात्मक सोच की शक्ति से घोर अन्धकार को भी आशा की किरणों (Lights of Hope) से रौशनी में बदला जा सकता है| हमारे विचारों पर हमारा स्वंय का नियंत्रण होता है इसलिए यह हमें ही तय करना होता है कि हमें सकारात्मक सोचना है या नकारात्मक|



हर विचार एक बीज है – Every Thought is a Seed|


हमारे पास दो तरह के बीज होते है सकारात्मक विचार (Positive) एंव नकारात्मक विचार (Negative Thoughts) है, जो आगे चलकर हमारे दृष्टिकोण एंव व्यवहार रुपी पेड़ का निर्धारण करता है| हम जैसा सोचते है वैसा बन जाते है (What we think we become) इसलिए कहा जाता है कि जैसे हमारे विचार होते है वैसा ही हमारा आचरण होता है|


यह हम पर निर्भर करता है कि हम अपने दिमाग रुपी जमीन में कौनसा बीज बौते है| थोड़ी सी चेतना एंव सावधानी से हम कांटेदार पेड़ को महकते फूलों के पेड़ में बदल सकते है|



कौनसे रंग का चश्मा पहना है? Positive or Negative


जिस तरह काले रंग का चश्मा पहनने पर हमें सब कुछ काला और लाल रंग का चश्मा पहनने पर हमें सब कुछ लाल ही दिखाई देता है उसी प्रकार नेगेटिव सोच से हमें अपने चारों ओर निराशा, दुःख और असंतोष ही दिखाई देगा और पॉजिटिव सोच से हमें आशा, खुशियाँ एंव संतोष ही नजर आएगा|


यह हम पर निर्भर करता है कि सकारात्मक चश्मे से इस दुनिया को देखते है या नकारात्मक चश्मे से| अगर हमने पॉजिटिव चश्मा पहना है तो हमें हर व्यक्ति अच्छा लगेगा और हम प्रत्येक व्यक्ति में कोई न कोई खूबी ढूँढ ही लेंगे लेकिन अगर हमने नकारात्मक चश्मा पहना है तो हम बुराइयाँ खोजने वाले कीड़े बन जाएंगे|



नकारात्मक से सकारात्मक की ओर:-


सकारात्मकता (Positivity) की शुरुआत आशा और विश्वास से होती है| किसी जगह पर चारों ओर अँधेरा है और कुछ भी दिखाई नहीं दे रहा और वहां पर अगर हम एक छोटा सा दीपक जला देंगे तो उस दीपक में इतनी शक्ति है कि वह छोटा सा दीपक चारों ओर फैले अँधेरे को एक पल में दूर कर देगा| इसी तरह आशा की एक किरण सारे नकारात्मक विचारों को एक पल में मिटा सकती है|


नकारात्मकता को नकारात्मकता समाप्त नहीं कर सकती, नकारात्मकता को तो केवल सकारात्मकता ही समाप्त कर सकती है| इसीलिए जब भी कोई छोटा सा नकारात्मक विचार मन में आये उसे उसी पल सकारात्मक विचार में बदल देना चाहिए|


उदाहरण के लिए अगर किसी विद्यार्थी को परीक्षा से 20 दिन पहले अचानक ही यह विचार आता है कि वह इस बार परीक्षा (Exam) में उत्तीर्ण नहीं हो पाएगा तो उसके पास दो विकल्प है – या तो वह इस विचार को बार-बार दोहराए और धीरे-धीरे नकारात्मक पौधे को एक पेड़ बना दे या फिर उसी पल इस नेगेटिव विचार को पॉजिटिव विचार में बदल दे और सोचे कि कोई बात नहीं अभी भी परीक्षा में 20 दिन यानि 480 घंटे बाकि है और उसमें से वह 240 घंटे पूरे दृढ़ विश्वास के साथ मेहनत करेगा तो उसे उत्तीर्ण होने से कोई रोक नहीं सकता| अगर वह नेगेटिव विचार को सकारात्मक विचार में उसी पल बदल दे और अपने पॉजिटिव संकल्प को याद रखे तो निश्चित ही वह उत्तीर्ण होगा|


“सकारात्मक सोचना या न सोचना हमारे मन के नियंत्रण में है और हमारा मन हमारे नियन्त्रण में है| अगर हम अपने मन से नियंत्रण हटा लेंगे तो मन अपनी मर्जी करेगा और हमें पता भी नहीं चलेगा की कब हमारे मन में नकारात्मक पेड़ उग गए है|”



ऐसे लायें सकारात्मक सोच


1. अपने रवैये पर नियंत्रण रखें: कई बार आपका यह प्रण करना कि आप कुछ नकारात्मक नहीं सोचेंगे और अपने आस पास फैली नकारात्मकता पर विजयी होंगे, जिंदगी को देखने के आपके नज़रिए को एक नयी दिशा देता है। लोग हमेशा दूसरों को अपनी जिंदगी चलाने का मौका देकर सबसे बड़ी गलती करते हैं। आपको हर हालत में ऐसा करने से बचना चाहिए और अपने जीवन से जुड़े सारे महत्वपूर्ण फैसले खुद लेने चाहिए।


2. ध्यान करें: वैज्ञानिक मानते हैं कि ध्यान के वक़्त, जब दिमाग किसी विशेष विचार की ओर केन्द्रित रहता है तो उससे उर्जा बिखरती है। यह उर्जा इंसान के अन्दर मजबूती लाती है जिससे वह आम जीवन में कठिन परिस्थितियों का मुकाबला करने में सक्षम होता है। हर दिन कम से कम 10 मिनट तक ध्यान लगाने की कोशिश करें। किसी अँधेरे कमरे का चुनाव करें जहाँ बाधाएं न हों और आँखें बंद कर गहरी सांस लें। अपने दिमाग में से सारे विचार निकाल दें। शुरुआत में यह प्रक्रिया मुश्किल लगेगी पर अभ्यास से यह काफी आसान हो जाएगा। 3. सकारात्मक सोच वाले व्यक्तियों से मिलें: इस जगत में हर एक इंसान के पास किसी भी विषय को लेकर अपनी एक विचारधारा होती है। सकारात्मक विचारधारा वाले व्यक्तियों से मिलने से आपकी सोच और उद्देश्य भी सकारात्मक तरीके से आगे बढ़ेंगी, जबकि नकारात्मक सोच रखने वाले लोग आपकी जिंदगी से सकारात्मकता को निकाल देते हैं। ऐसे लोगों के साथ रहे जो आपको सकारात्मक वाईब्स देते हों। आपको अपने आप में परिवर्तन ज़रूर महसूस होगा।


4. अपने लक्ष्य पर टिके रहें: अपना लक्ष्य अपनी दिली अभिलाषा के अनुसार ही चुनें। उसपर हमेशा टिके रहे चाहे वह कितना ही मुश्किल क्यों न दिखे। उनपर विश्वास करना और उनको पाने के लिए मेहनत करना सीखें। दुनिया को आपको देने के लिए कई नए दृष्टीकोण हैं और इनको अगर आप खुले दिमाग और आशावादी सोच रखते हुए अपनाएंगे तो आपकी जिंदगी बदल जायेगी। कड़ी मेहनत करें और अपने लक्ष्य की तरफ हर दिन एक कदम आगे बढायें। एक बार आपने इसे पा लिया तो आप नए जोखिम उठाने की चुनौती ले पायेंगे। हर छोटे या बड़े लक्ष्य को पाने के बाद आपमें अपनी क्षमता को लेकर आत्मविश्वास आएगा।


5. अपनी मानसिक रचना में बदलाव लायें: किसी भी परिस्थिति में आपकी प्रतिक्रिया कैसी होती है यह आपकी सोचने की शक्ति में अंतर ला सकता है। किसी कठिन परिस्थिति में सकारात्मक प्रतिक्रिया देना उस परिस्थिति को आसान बना देता है और आप आसानी से उससे उबर पाते हैं, जबकि नकारात्मक विचारधारा से मुश्किल ज़रुरत से ज्यादा बड़ी दिखती है। आपके सोचने के तरीके में बदलाव से आप दुनिया को नए नज़रिए से देख पायेंगे और आप देख पायेंगे कि दुनिया कितनी सुन्दर है जिसकी आजतक आपने कल्पना भी नहीं की थी।


6. अपने स्वभाव पर सवाल उठाएं?: किसी भी बदलाव का प्रतिरोध करना इंसान की फितरत में शामिल होता है। पर जब आप अपने आप पर सवाल उठाएंगे कि आखिर इस प्रतिरोध का मकसद क्या है, आपको अपने आप मुश्किल इतनी बड़ी नहीं दिखेगी जितना आपने सोच रखा था। इसलिए अपने मकसद पर सवाल उठाना आपके रक्षात्मक स्वभाव को कम करेगा और आपको संभावनाओं को देखने की शक्ति देगा ताकि आपका अनुभव बढ़ सके। आपको यह ध्यान रखना चाहिए कि सकारात्मक सोच सकारात्मकता लाती है जबकि प्रतिकूल सोच रखने वाले नकारात्मकता को अपने पास बुलाते हैं। इसलिए सकारात्मक सोच कर आप अपने आप को नयी संभावनाओं के लिए खुला रख रहे हैं और अपनी जिंदगी जीने योग्य बना रहे हैं।


गांधीजी के तीन बन्दर के सन्देश

 

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें

Like Us

लोकप्रिय पोस्ट