बुधवार, 17 जुलाई 2019

एजुकेशन लोन



हर किसी का सपना होता है,कि वह अच्छी से अच्छी शिक्षा प्राप्त करके किसी ऊंची पोस्ट पर कार्यरत हो जाए | जिससे उसकी लाइफ आराम से गुजर सके | लेकिन जितना सोचना और कहना आसान है | उतना करना काफी मुश्किल है | यदि आप अच्छी शिक्षा प्राप्त कर लेते हैं | तो भले ही देर में सही लेकिन आपको कामयाबी जरूर हासिल होती है | लेकिन यदि आप शिक्षा ही नहीं प्राप्त कर पाते हैं | तो जिंदगी में कामयाब व्यक्ति बनना थोड़ा मुश्किल का काम हो जाता है | साधारण शिक्षा प्राप्त करने में कोई कठिनाई नहीं आती है | लेकिन उच्च शिक्षा हासिल करना कई मिडिल क्लास स्टूडेंट के लिए थोड़ा मुश्किल का काम हो जाता है | क्योंकि उच्च शिक्षा हासिल करने के लिए केवल आपकी मेहनत ही नहीं बल्कि पैसे की भी जरूरत पड़ती है |

पैसे ना होने के कारण बहुत से विद्यार्थी अपने सपनों को पूरा नहीं कर पाते | लेकिन अब भारत सरकार ऐसे प्रतिभावान छात्रों की मदद के लिए आगे आइ हैं | और कई ऐसी योजनाओं का संचालन कर रही है | जिससे विद्यार्थियों को उच्च शिक्षा प्राप्त करने में पैसे को लेकर कोई परेशानी नहीं आएगी | क्योंकि भारत सरकार और कई ऐसे बैंक हैं , जो विद्यार्थियों के सपने को पूरा करने के लिए Education Loan उपलब्ध कराते हैं |

कोई भी विद्यार्थी Education Loan प्राप्त करके अपनी शिक्षा को हासिल कर सकता है | और अपने सपने को पूरा करता है | लेकिन Education Loan प्राप्त करना भी इतना आसान काम नहीं है | आज हम यहां पर आपको Education Loan कैसे प्राप्त कर सकते हैं ? इसके लिए आपको क्या-क्या करना पड़ेगा | उसकी पूरी जानकारी देने जा रहे हैं | जिसका उपयोग करके आप आसानी से लोन प्राप्त कर सकते हैं |

एजुकेशन लोन क्या है –
Education Loan प्राप्त करने के बारे में जानने से पहले हमें यह जानना बेहद जरूरी है | कि स्टूडेंट लोन क्या है ? साधारण भाषा में कहें तो जब कोई विद्यार्थी अपनी उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए किसी बैंक या प्राइवेट संस्था से लोन लेता है | तो उसे स्टूडेंट लोन कहा जाता है | स्टूडेंट लोन प्राप्त करके कोई भी विद्यार्थी अपनी उच्च शिक्षा प्राप्त कर सकता है |

how to take education loan in india

Education Loan किसे मिल सकता है –
लोन स्टूडेंट लोन के बारे में जाने के बाद दूसरी की सबसे महत्वपूर्ण बात यह है , की स्टूडेंट लोन कैसे मिल सकता है ? कोई भी बैंक या प्राइवेट संस्था किसी भी व्यक्ति को लोन देने से पहले लोन वापसी के बारे में भी सोचती हैं | साधारण भाषा में कहें तो आमतौर पर उन व्यक्तियों को बैंकों और संस्थानो द्वारा लोन प्रदान किया जाता है | जो व्यक्ति लोन वापसी की क्षमता रखते हैं | Education Loan को लेने के लिए कुछ मामलों में किसी की गारंटी की जरूरत पड़ती है | गारंटर कोई भी हो सकता है | चाहे वह आपका कोई दोस्त, रिश्तेदार या अभिभावक भी हो सकता है |

Education Loan का दायरा –


भारत में लगभग सभी बैंकों और प्राइवेट संस्थानों द्वारा एजुकेशन लोन प्रदान किया जाता है | लोन विद्यार्थियों को उनकी पढ़ाई में होने वाले खर्चे की पूर्ति के लिए उपलब्ध कराया जाता है | लोन के अंतर्गत देश – विदेश में पढ़ाए जाने वाले लगभग सभी कोर्स शामिल हैं | आप कक्षा 12 की स्कूली शिक्षा से लेकर ग्रेजुएशन, पोस्ट ग्रेजुएशन , पीएचडी, इंजीनियरिंग, मेडिकल, एग्रीकल्चर मैनेजमेंट ,कंप्यूटर कोर्स, CA जैसी उच्च शिक्षा के लिए भी लोन प्राप्त कर सकते हैं | इसके अतिरिक्त यदि आप विदेश में पढ़ाई करना चाहते हैं | तो आप इसके लिए भी प्राइवेट संस्थान और बैंक से एजुकेशन लोन प्राप्त कर सकते हैं |

Education Loan के लिए आवश्यक दस्तावेज –


लोन के लिए आवेदन करते समय आपको नीचे बताए गए कुछ आवश्यक दस्तावेजों की जरूरत पड़ेगी | आवश्यक दस्तावेज इस प्रकार हैं –

एज प्रूफ
पासपोर्ट साइज फोटो
मार्कशीट
बैंक पासबुक
ID प्रूफ
एड्रेस प्रूफ
कोर्स डिटेल्स
अभिभावक और विद्यार्थी का पैन कार्ड और आधार कार्ड
अभिभावक की इनकम का प्रूफ
ऊपर बताए गए दस्तावेजों की आवश्यकता आपको एजुकेशन लोन लेते समय पड़ेगी | इन दस्तावेजों के अतिरिक्त अन्य डाक्यूमेंट्स की भी जरूरत पड़ सकती है | क्योंकि हर बैंक और संस्था के अपने कुछ अलग नियम और शर्तें होती हैं |

Education Loan के प्रकार –


how to take education loan in india

भारत में एजुकेशन को चार प्रकारों में डिवाइड किया गया है | इंहें आप इस तरह से समझ सकते हैं –

Undergraduate Loan –
जैसा की आप नाम से ही समझ चुके होंगे कि इस तरह के लोन अंडर ग्रेजुएट होते हैं | इस तरह के लोन कोई भी विद्यार्थी जो हाई सेकेंडरी की पढ़ाई पूरी करके ग्रेजुएशन के लिए देश विदेश में पढ़ाई करना चाहता है | वह इस प्रकार के लोन के लिए अप्लाई कर सकता है |

Career Education Loan –
इस तरह के लोन ऐसे विद्यार्थियों को उपलब्ध कराया जाता है जो किसी सरकारी कॉलेज , संस्थान जैसे – ITI , इंजीनियरिंग , टेक्नोलॉजी आदि से पढ़ाई करके अपना करियर बनाना चाहते हैं | ऐसे करिए एजुकेशन लोन कहा जाता है |

Professional Graduate Student Loan –
इस तरह के लोन केवल उन विद्यार्थियों को भी मिल सकता है | जो अपनी ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी कर के आगे की पढ़ाई करना चाहते हैं |

Parents Loan –
इस तरह के लोग किसी अभिभावक द्वारा अपने बच्चे के लिए लिया जाता है | जब कोई अभिभावक अपने बच्चे की पढ़ाई पूरी करने के लिए किसी बैंक के संस्थान से लोन प्राप्त करना चाहता है | तो वह फाइनेंस लोन के अंतर्गत आता है |

Education Loan के फायदे –


Education Loan प्राप्त करने के कई फायदे हैं | जो कि निम्नलिखित है –

Student Loan का सबसे बड़ी बात यह है की आप लोन आसानी से लोन प्राप्त कर सकते हैं |
एजुकेशन लोन प्राप्त करके कोई भी व्यक्ति विद्यार्थी अपने सपने को पूरा कर सकता है |
पहले जहां पैसों की कमी के कारण प्रतिभाशाली विद्यार्थी आगे की पढ़ाई नहीं कर सकते थे | अब एजुकेशन लोन के द्वारा वह अपनी पढ़ाई पूरी कर सकते हैं |
इसके साथ लोन लंबे समय के लिए मिल सकता है | इसलिए वापस करने के लिए काफी समय मिलता है |
इसके संबंध का एक और फायदा यह है | कि इस लोन के लिए आपको बहुत कम ब्याज का भुगतान करना पड़ता है | कई बैंक और संस्थाएं ऐसी हैं जो कई डिस्काउंट पर एजुकेशन लोन उपलब्ध कराते हैं |

Education Loan के लिए आवेदन करने से पहले ध्यान देने –
लेने से पहले आपको उस बैंक के संस्था के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर लेनी चाहिए | साथी उनके नियम और शर्तों को भी सावधानी पूर्वक पूरी तरह से पढ़ लेना चाहिए | इसके साथ ही साथ हम आपको सलाह देंगे कि आपको अपनी जरूरत के हिसाब से ही लोन लेना चाहिए | जरूरत से ज्यादा लोन लेने पर आपको लोन की अदायगी पर काफी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है | क्योंकि आजकल मंदी का दौर चल रहा है | और मार्केट की स्थिति काफी अच्छी नहीं है | इसलिए Education Loan प्राप्त करते समय इस की अदायगी के बारे में भी पूरी प्लानिंग कर लेना चाहिए | ताकि बाद में किसी परेशानी का सामना ना करना पड़े |

Education Loan पर कितना ब्याज लगता है –


आमतौर पर बैको संस्थानों द्वारा प्रदान किए जा रहे हैं एजुकेशन लोन पर अन्य लोन की तुलना में ब्याज दर काफी कम होती है | इसके साथ ही कुछ बैंक लड़कियों के लिए ब्याज दर में काफी डिस्काउंट भी प्रदान करती हैं | इसलिए लोन प्राप्त करते समय बैंकों द्वारा Education Loan पर लगाया जा रहे ब्याज दर के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर लेनी चाहिए |

how to take education loan in india

Education Loan पर प्रोसेसिंग फीस कितनी होती है –


आजकल लगभग सभी बैंक में लोन प्रोसेसिंग फीस वसूली जाती है | जो कि लोन प्राप्त करने वाले आवेदनकर्ता को ही देनी पड़ती है | लेकिन जब बात Education Loan की आती है | तो एजुकेशन लोन के मामले में कोई भी प्रोसेसिंग फीस नहीं ली जाती है | यदि यदि आप से कोई बैंक प्रोसेसिंग फीस की मांग कर रहा है तो उसके आप शिकायत भी कर सकते हैं |

क्या Education Loan लेने के लिए किसी गारंटर की जरूरत पड़ती है –
आमतौर पर सभी बैंकों द्वारा किसी भी लोन प्रदान करते समय किसी गारंटी या सिक्योरिटी की मांग की जाती है | लेकिन यदि बात हम एजुकेशन लोन की करें | तो Education Loan में लगभग 4 लाख रुपए तक किसी गारंटर या सिक्योरिटी की जरूरत नहीं पड़ती है | लेकिन यदि आप इस से अधिक का लोन प्राप्त करना चाहते हैं | तो बैंक के नियमों के अनुसार आपको सिक्योरिटी या गारंटर की आवश्यकता पड़ सकती है

Education Loan कैसे प्राप्त करें –


सबसे पहले आपको बैंक या संस्था का चयन करना होगा | जहां से आप एजुकेशन जीवन प्राप्त करना चाहते हैं |
उसके पश्चात आपको उसे बैंक में जाकर Education Loan के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करना होगा | और फिर बैंक द्वारा बताए गए सभी चरणों का पालन करके आप | लोन प्राप्त कर सकते हैं |

एजुकेशन लोन लेने में किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?


how to take education loan in india

एजुकेशन लोन के लिए जरुरी है कि भारत या विदेश में किसी वैध संस्था से मान्यताप्राप्त कॉलेज या यूनिवर्सिटी में आपका एडमिशन तय हो चुका हो.
किसी व्यक्ति की संपूर्ण और सफल जिंदगी के लिए क्वालिटी एजुकेशन बहुत जरुरी है. कुछ लोगों के लिए यह किसी शीर्ष इंस्टीच्यूट से ग्रेजुएशन करना हो सकता है. ऐसे दौर में जब पढ़ाई का खर्च लगातार बढ़ रहा है, देश-विदेश के शीर्ष इंस्टीच्यूट में पढ़ने का खर्च काफी अधिक है. इसे ध्यान में रखते हुए पैरेंट म्युचुअल फंड्स में निवेश करते हैं, कुछ फिक्स्ड डिपॉजिट तो कुछ यूलिप का सहारा लेते हैं. इन सबके बाद भी आपकी पढ़ाई के लिए रकम कम पड़ सकती है.
एजुकेशन लोन के रूप में आपको ऐसी परिस्थितियों में काफी मदद मिलती है. यह लोन आपकी जरूरत और उपलब्ध रकम के बीच की खाई को भरता है.

एक अध्ययन के अनुसार पढ़ाई का खर्च सालाना 15 फीसदी की दर से बढ़ रहा है. इस समय अगर पढ़ाई का खर्च 2.5 लाख रुपये है तो 15 साल बाद एमबीए करने में 20 लाख रुपये खर्च होंगे.

अगर कोई पैरेंट अभी से 15 सालों तक हर महीने 2000 रुपये का निवेश करता है और इस पर औसत रिटर्न 12 फीसदी मान लें तो वह करीब 9 .5 लाख रुपये ही जोड़ पायेगा.

एजुकेशन लोन में क्या कवर होता है?

इसमें कोर्स की बेसिक फीस और कॉलेज के दूसरे खर्च (रहने, एग्जाम और अन्य) कवर होते हैं. लोन के लिए कौन अप्लाय कर सकता है? पढ़ाई करने वाला छात्र मेन बॉरोअर होता है.उसके पैरेंट्स, या भाई-बहन को बॉरोअर हो सकते हैं.
लोन किसे मिल सकता है? भारत में पढ़ाई या उच्च शिक्षा के लिए विदेश जाने वाले छात्र लोन ले सकते हैं. दोनों जगह पढ़ाई के लिए लोन की रकम अलग हो सकती है और यह बैंक पर भी निर्भर करता है.
लोन के तहत किस तरह के कोर्स आते हैं? लोन लेकर फुल टाइम, पार्ट टाइम या वोकेशनल कोर्स किये जा सकते हैं. इसके अलावा इंजीनियरिंग, मैनेजमेंट, मेडिकल, होटल मैनेजमेंट और आर्किटेक्चर आदि में ग्रेजुएशन या पोस्ट ग्रेजुएशन की पढ़ाई के लिए लोन लिया जा सकता है. योग्यता और कागजातों की जरूरत लोन के लिए आवेदन करने वाले का भारतीय नागरिक होना जरुरी है. इसके साथ ही भारत या विदेश में किसी वैध संस्था से मान्यताप्राप्त कॉलेज या यूनिवर्सिटी में एडमिशन तय हो चुका हो. आवेदक का बारहवीं की परीक्षा पास कर चुका होना जरुरी है. कुछ बैंक हालांकि एडमिशन तय होने से पहले भी लोन दे देते हैं. रिजर्व बैंक के मुताबिक एजुकेशन लोन के लिए उम्र की अधिकतम सीमा नहीं है, लेकिन कुछ बैंकों ने सीमा तय कर रखी है.
बैंक इसके लिए हालांकि आवेदक से संस्थान का एडमिशन लेटर, फीस स्ट्रक्चर, 10वीं, 12वीं और ग्रेजुएशन की मार्कशीट मांग सकते हैं. इसके अलावा को एप्लिकेंट की सेलरी स्लिप या आयकर रिटर्न (आईटीआर) की कॉपी मांगी जा सकती है.

how to take education loan in india

लोन की फाइनेंसिंग, गिरवी की जरूरत
लोन की जरूरत के हिसाब से बैंक 100 फीसदी तक फाइनेंस कर सकते हैं. अभी चार लाख रुपये तक के लोन के लिए किसी मार्जिन मनी की जरूरत नहीं है. भारत में पढ़ाई करने के लिए लोन की रकम का पांच फीसदी और विदेश में पढ़ाई के लिए 15 फीसदी मार्जिन मनी की जरूरत होती है.

ब्याज दर
बैंक इस समय लोन पर एमसीएलआर और अतिरिक्त स्प्रेड के हिसाब से ब्याज वसूलते हैं. अडिशनल स्प्रेड इस समय 1 .35 फीसदी से लेकर तीन फीसदी तक हो सकता है.
रीपेमेंट लोन को छात्र चुकाता है. आमतौर पर कोर्स खत्म होने के छह महीने बाद रीपेमेंट शुरू हो जाता है, कई बार बैंक छह महीने की मोहलत भी देते हैं. यह मोहलत जॉब पाने के छह महीने भी हो सकती है या कोर्स खत्म होने के बाद एक साल की हो सकती है. पांच से सात साल में यह लोन चुकाना होता है, कई बार बैंक इसे आगे बढ़ा सकते हैं. कोर्स की अवधि के दौरान लोन पर ब्याज सामान्य ही होता है और इएमआई के रूप में यह ब्याज चुकाना होता है, जिससे कोर्स पूरा होने के बाद छात्र पर ज्यादा बोझ न पड़े. सावधानी लोन के लिए आवेदन करते वक्त उसकी प्रोसेसिंग, प्री पेमेंट, लेट पेमेंट फीस आदि के बारे में चेक करना चाहिए. अधिकतर बैंक लोन एमाउंट का 0 .15 फीसदी प्रोसेसिंग फीस वसूलते हैं.

पढ़िए और आर्टिकल पैसा और फाइनान्स के बारे में यहाँ

इनकम टैक्स में छूट आयकर कानून के सेक्शन 80E के तहत लोन के ब्याज के रूप में चुकाई गयी रकम पर छूट मिलती है. यह छूट किसी व्यक्ति को खुद, बच्चों या कानूनी माता-पिता द्वारा बच्चे की शिक्षा के लिए लिए गए लोन के चुकाए गए ब्याज पर मिलती है. लोन के कुल ब्याज को आप अपनी कर योग्य आय में से घटा सकते हैं. यह छूट अधिकतम आठ सालों तक ली जा सकती है. निष्कर्ष एजुकेशन लोन एक शुरुआती लोन के रूप में आपकी क्रेडिट रेटिंग को बेहतरीन बनाने में मददगार साबित हो सकता है. इसके लिए जरुरी है कि आप सही समय पर इसे चुका दें. इससे आपके लिए भविष्य में होम, कार या दूसरे लोन आसानी से पाने का मौका मिलेगा.

how to take education loan in india

 

 

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें

Like Us

लोकप्रिय पोस्ट